होम /न्यूज /education /Entrance Exam: क्या होगा सीयूईटी, नीट और जेईई एग्जाम का विलय, जानें UGC महानिदेशक का जवाब

Entrance Exam: क्या होगा सीयूईटी, नीट और जेईई एग्जाम का विलय, जानें UGC महानिदेशक का जवाब

Entrance Exam: क्या सीयूईटी, नीट और जेईई एग्जाम का होगा विलय?

Entrance Exam: क्या सीयूईटी, नीट और जेईई एग्जाम का होगा विलय?

Entrance Exam: अगले वर्ष सीयूईटी के आयोजन को लेकर परीक्षा केंद्र के संबंध में कई तरह के सुझाव आ रहे हैं. एक सुझाव यह है ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. Entrance Exam: साझा विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (सीयूईटी) के आयोजन को पूरी तरह से सुरक्षित बनाने के लिए राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) अपना केंद्र स्थापित करने के सुझाव पर विचार कर रही है. एनटीए के महानिदेशक विनीत जोशी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, ‘‘अगले वर्ष सीयूईटी के आयोजन को लेकर परीक्षा केंद्र के संबंध में कई तरह के सुझाव आ रहे हैं. एक सुझाव यह है कि चुनिंदा संस्थानों पर परीक्षा केंद्र बनाये जाएं, दूसरा यह है कि एनटीए अलग से अपने परीक्षा केंद्र स्थापित करे.’’

    उन्होंने कहा, ‘‘वर्तमान परीक्षा (सीयूईटी) की प्रक्रिया पूरी होने के बाद इन सुझावों पर विचार किया जाएगा. अंतत: हमारा मकसद यह है कि परीक्षा सुरक्षित होनी चाहिए और इसकी निष्पक्षता बनी रहे. इसे ध्यान में रखकर ही विचार किया जायेगा कि क्या बेहतर होगा. ‘मिश्रित मॉडल’ अपनाये जाने पर भी विचार किया जाएगा.’’ हालांकि उन्होंने कहा कि अभी अंतिम रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता, इस पर आने वाले समय में फैसला होगा.

    15 लाख स्टूडेंट ने कराया था रजिस्ट्रेशन
    बता दें कि देश भर के विश्वविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए पहली बार आयोजित की गई सीयूईटी-यूजी परीक्षा 30 अगस्त को संपन्न हो गई है. इस परीक्षा के दौरान कई केंद्रों पर सामने आईं तकनीकी खामियों, केंद्र बदले जाने, अंतिम समय में परीक्षा टालने को लेकर कई तरह के सवाल भी उठे और राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोपों का दौर भी चल. इस परीक्षा के लिए करीब 15 लाख छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया था और प्रथम संस्करण में करीब 60 प्रतिशत उपस्थिति दर्ज की गयी थी.

    क्या विलय होगा सीयूईटी, नीट और जेईई परीक्षा का
    वहीं सीयूईटी, नीट और जेईई परीक्षा का विलय करने के यूजीसी अध्यक्ष के प्रस्ताव के बारे में पूछे जाने पर एनटीए के महानिदेशक ने कहा, ‘‘इसे नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति के परिप्रेक्ष्य में व्यापक दृष्टिकोण के साथ देखा जाना चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि प्रवेश परीक्षा की संख्या कम हो, यह आबादी का एक बड़ा हिस्सा और शिक्षाविदों का एक बड़ा वर्ग चाहता है, ऐसे में आने वाले सुझावों और आपत्तियों पर सभी हितधारकों से विचार विमर्श किया जाना चाहिए. जोशी ने कहा, ‘‘एक ही परीक्षा कराये जाने के बारे में सभी हितधारकों को एकमत होना चाहिए, क्योंकि इस विषय से अलग-अलग विभाग जुड़े हैं. ऐसे में सभी का पक्ष आना जरूरी है। सिद्धांतत: यह विचार राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप है.’’ (भाषा के इनपुट के साथ)

    Tags: CUET 2022, NEET, NTA

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें