यूपी में 812 फर्जी बेसिक शिक्षकों की सेवा समाप्ति का आदेश, पढ़ें डिटेल

इन शिक्षकों का चयन आगरा विश्वविद्यालय की बीएड डिग्री के आधार पर हुआ था.

इन शिक्षकों का चयन आगरा विश्वविद्यालय की बीएड डिग्री के आधार पर हुआ था.

जिन अभ्यर्थियों के अंकपत्र में कूटरचना की गई है, उनके संबंध में हाईकोर्ट के आदेश की तारीख से चार महीने का वक्त निर्णय लेने के लिए दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 4, 2021, 10:15 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यूपी में 812 फर्जी बेसिक शिक्षकों की सेवा समाप्ति का आदेश दिया गया है. ये शिक्षक उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में तैनात थे. इन 812 शिक्षकों की सेवा समाप्ति के साथ ही उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने के आदेश दिए गए हैं.

इन शिक्षकों का चयन आगरा विश्वविद्यालय की बीएड डिग्री के आधार पर हुआ था. जिलों में कार्यरत इन शिक्षकों को चिन्हित करके नियमानुसार सेवा समाप्ति व एफआइआर की कार्रवाई की जाए.

हाई कोर्ट ने उत्तर प्रदेश राज्य व अन्य में 26 फरवरी को परिषदीय विद्यालयों में तैनात 814 शिक्षकों की बीएड डिग्री को फर्जी करार दिया था.



Youtube Video

ये दो शिक्षक नहीं हुए सस्पेंड
दो अभ्यर्थियों को छोड़कर अन्य 812 अभ्यर्थियों की डिग्री फर्जी होने की पुष्टि की गई है.
-अनीता मौर्या पुत्री भोला सिंह टीआरके कालेज अलीगढ़.
-विजय सिंह पुत्र हरि सिंह केआरटीटी कालेज मथुरा.

इन सात कैंडिडेट्स के लिए मिला पुनर्विचार का समय
हाई कोर्ट ने सात अभ्यर्थियों के संबंध में उपलब्ध कराए गए अभिलेखों के आधार पर यूनिवर्सिटी व राज्य को आदेश की तारीख से एक माह का समय पुनर्विचार के लिए दिया है.

ये हैं वो 7 कैंडिडेट्स
इनमें सुरेंद्र कुमार पुत्र मंजू लाल, राजीव सिंह यादव पुत्र राम लदित यादव, संदीप कुमार पुत्र अजय पाल सिंह, रीता गौतम पुत्री श्रीराम गौतम, रीता यादव पुत्री जानकी लाल यादव, अनिरुद्ध पुत्री राजेंद्र सिंह व रेखा लवनिया पुत्री विजेंद्र सिंह की सेवा एक माह तक जारी रहेगी.

ये भी पढ़ें
Sarkari Naukri : SSC GD कांस्टेबल पदों के लिए नोटिफिकेशन जल्द, जानें योग्यता व मानदंड
Sarkari naukri : क्लर्क, स्टेनोग्राफर की बंपर नौकरियां, 12वीं पास और ग्रेजुएट को मौका

जिन अभ्यर्थियों के अंकपत्र में कूटरचना की गई है, उनके संबंध में हाईकोर्ट के आदेश की तारीख से चार महीने का वक्त निर्णय लेने के लिए दिया गया है. टेंपर्ड श्रेणी के चिन्हित अभ्यर्थियों की सेवा यूनिवर्सिटी से निर्णय आने तक से चार माह तक के अधीन रखी जाएगी.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज