Rajasthan News : राजस्थान के शिक्षा अधिकारियों को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस, जानें डिटेल

Rajasthan News : राजस्थान के शिक्षा अधिकारियों को  सुप्रीम कोर्ट का नोटिस.

Rajasthan News : राजस्थान के शिक्षा अधिकारियों को  सुप्रीम कोर्ट का नोटिस.

Rajasthan News : सुप्रीम कोर्ट ने आदेश का पालन नहीं करने पर राजस्थान के शिक्षा अधिकारियों को नोटिस जारी किया है. जारी नोटिस पर कोर्ट ने चार सप्ताप में जवाब देने को कहा है.

  • Share this:

नई दिल्ली. आदेश का पालन नहीं करने पर सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान के शिक्षा अधिकारियों को नोटिस जारी किया है. जारी नोटिस में कोर्ट ने पूछा है कि साल 2019 के उसके आदेश का पालन नहीं करने पर उनके खिलाफ क्यों न अवमानना की कार्यवाही की जाए.

यह है पूरा मामला

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि साल 2011 में बंद हुए सरकारी सहायता प्राप्त एक स्कूल द्वारा शिक्षकों को दिए गए वेतन के 70 प्रतिशत हिस्से का भुगतान संबंधित संस्थान को किया जाए. लाइव हिन्दुस्तान डाट काम में छपी खबर के अनुसार न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन, न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय की पीठ ने कहा कि अधिकारियों ने कुछ नहीं किया है. बिश्वम्भर लाल माहेश्वरी एजुकेशन फाउंडेशन का स्कूल सरकारी सहायता प्राप्त शिक्षण संस्थान था, जो 2011 में बंद हो गया था. इस संस्थान को सरकार से 70 फीसदी सहायता मिलती थी.

यह भी पढ़ें -
CBSE 10th Result : सीबीएसई ने मानी दिल्ली सरकार की ये मांग, शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत

DFCCIL Recruitment 2021: डीएफसीसीआईएल में विभिन्न पदों पर बंपर नौकरियां, जानें डिटेल

कोर्ट ने चार सप्ताह के अंदर मांगा है जवाब



पीठ ने स्कूल ट्रस्ट द्वारा दायर की गई अवमानना याचिका पर 6 मई 2021 को राजस्थान सरकार के शिक्षा अधिकारियों को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब मांगा है. वहीं याचिकाकर्ता की ओर से पेश हुए अधिवक्ता दुष्यंत पाराशर ने दलील दी कि राजस्थान सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के 30 सितंबर 2019 के आदेश का पालन नहीं किया है. अदालत ने ट्रस्ट को निर्देश दिया था कि वह स्कूल के सभी शिक्षकों को छठे वेतन आयोग के अनुरूप वेतन दे और फिर इसकी भरपाई  वह राज्य सरकार से मांगे.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज