• Home
  • »
  • News
  • »
  • education
  • »
  • JEE Main March 2021: फरवरी से कम स्टूडेंट्स ने किया है मार्च सेशन के लिए आवेदन, देखें पूरी डिटेल

JEE Main March 2021: फरवरी से कम स्टूडेंट्स ने किया है मार्च सेशन के लिए आवेदन, देखें पूरी डिटेल

इस बार फरवरी से कम आवेदन होने से जेईई मेन मार्च 2021 के रिजल्ट पर कितना फर्क पड़ेगा

इस बार फरवरी से कम आवेदन होने से जेईई मेन मार्च 2021 के रिजल्ट पर कितना फर्क पड़ेगा

इस बार परीक्षा देने के लिए रजिस्ट्रेशन करने वाले स्टूडेंट्स की संख्या पिछली बार रजिस्ट्रेशन कराने वाले छात्रों की संख्या से कम है. तो क्या इस बार कम छात्रों द्वारा रजिस्ट्रेशन कराने से स्कोर की गिनती में फर्क पड़ेगा?

  • Share this:
    नई दिल्ली. JEE Main March 2021: जेईई मेन मार्च सेशन की परीक्षाएं 16 मार्च से शुरू हो चुकी हैं. इस बार कुल 6,19,638 स्टूडेंट ने परीक्षा देने के लिए रजिस्ट्रेशन किया है. यह संख्या पिछली बार रजिस्ट्रेशन कराने वाले छात्रों की संख्या से कम है. पिछली बार जेईई मेन एग्जाम के लिए 6,52,627 स्टूडेंट ने रजिस्ट्रेशन कराया था. जेईई मेन परीक्षा में रिलेटिव मार्किंग होती है जहां पर सबसे ज्यादा अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थी को 100 परसेंटाइल का स्कोर दिया जाता है.

    तो क्या इस बार कम छात्रों द्वारा रजिस्ट्रेशन कराने से स्कोर की गिनती में फर्क पड़ेगा?
    मोशन एजुकेशन के एमडी, जय का मानना है कि आवेदन करने वाले उम्मीदवारों और उनके द्वारा दिए गए अटेंप्ट की बढ़ोतरी के कारण नॉर्मलआईजेशन प्रक्रिया भी बढ़ जाती है. इस बार रजिस्ट्रेशन कम हुए हैं मगर यह इतना भी बड़ा अंतर नहीं है. इसलिए हमें स्कोर में कोई बहुत बड़ा अंतर देखने को नहीं मिलेगा.

    उन्होंने आगे बताया कि, “अटेंप्ट की संख्या बढ़ने के कारण स्टूडेंट में कंपटीशन बढ़ जाता है, लेकिन उसके साथ ही हर स्टूडेंट को अपना स्कोर बढ़ाने का मौका भी मिलता है. जो स्टूडेंट आईआईटी और एनआईटी दोनों के लिए पढ़ रहे थे उनके पास अपना परसेंटाइल बढ़ाने का मौका है ताकि उन्हें अच्छे कॉलेज में अच्छा कोर्स मिल सके. साथ ही जिन परीक्षार्थियों का आईआईटी क्वालीफाई करने का उद्देश्य है उनके लिए जेईई एडवांस की परीक्षा ज्यादा जरूरी है. यह स्टूडेंट पहले ही अटेम्प्ट में अच्छे से अच्छा परसेंटाइल लाने की कोशिश करते हैं ताकि वे पूरी तरह से आईआईटी जेईई एडवांस परीक्षा पर ध्यान केंद्रित कर सकें. 2 लाख रजिस्ट्रेशन ऊपर रजिस्ट्रेशन होने पर, परीक्षार्थियों का कम या ज्यादा होना है बहुत बड़ा अंतर पैदा नहीं करता है.”

    कुल 13 भाषाओं में हो रही है परीक्षाएं
    इस वर्ष से जेईई मेन की परीक्षाएं वर्ष में चार बार होना शुरू हुई है. यह परीक्षा इंग्लिश और हिंदी को मिलाकर कुल 13 भाषाओं में करवाई जा रही है. फरवरी सेशन की तरह इस बार भी लगभग 40,000 स्टूडेंट क्षेत्रीय भाषा में परीक्षा दे रहे हैं. 5,79,759 स्टूडेंट इंग्लिश में परीक्षा देने के लिए फॉर्म भरा है 19,497 स्टूडेंट्स हिंदी में परीक्षा दे रहे हैं.

    कुल विद्यार्थियों की संख्या
    इस बार मार्च सेशन 2021 में आवेदन करने वाले 6,19,638 विद्यार्थियों में सबसे अधिक 4,28,888 छात्र एवं उसके बाद 1,90,748 छात्राएं और दो ट्रांसजेंडर उम्मीदवार भी परीक्षा दे रहे हैं.

    सुरक्षा प्रदान करने लिए किए गए इंतजाम
    परीक्षा कुल 334 शहरों में 792 केंद्रों पर आयोजित की जाएगी. इनमें से 12 शहर ऐसे हैं जो बाहर के हैं. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के मुताबिक परीक्षा में चीटिंग को रोकने के लिए और परीक्षार्थियों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक कंट्रोल रूम, दो राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर, 19 क्षेत्रीय कोऑर्डिनेटर, 6 स्पेशल कोऑर्डिनेटर, 261 शहरी कोऑर्डिनेटर और 707 परीक्षा ऑब्जर्वर रखा गया है.

    ये भी पढ़ें
    SSC GD Constable 2021: एसएससी जीडी कांस्टेबल भर्ती के लिए नोटफिकेशन जल्द, जानें योग्यता व आयुसीमा

    Sarkari Naukri: 2385 पटवारी और ग्राम सचिव पदों पर 22 मार्च से पहले करें आवेदन

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज