राष्ट्रभक्ति की भावना: अरुणाचल प्रदेश में स्कूल के छात्रों के लिये तिरंगा मास्क 

16 नवंबर से अरुणाचल प्रदेश के स्कूल दोबारा खुलेंगे (सांकेतिक तस्वीर)
16 नवंबर से अरुणाचल प्रदेश के स्कूल दोबारा खुलेंगे (सांकेतिक तस्वीर)

मास्क की खरीदारी के लिये तीन नंवबर को आर्डर दिये गये थे और केवल छह दिन में खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग ने अपेक्षित तात्कालिकता को देखते हुये इसकी अपूर्ति कराई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2020, 5:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना महामारी के बाद 16 नवंबर को जब अरुणाचल प्रदेश के स्कूल दोबारा खुलेंगे तो प्रदेश के हजारों बच्चे खादी का तिरंगा मास्क पहन कर स्कूल आयेंगे. खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग ने सोमवार को इसकी जानकारी दी.

60 हजार सूती खादी मास्क
आयोग ने उच्च गुणवत्ता के 60 हजार सूती खादी मास्क स्कूली बच्चों के लिये अरुणाचल प्रदेश को भेजे हैं क्योंकि राज्य सरकार ने दसवीं एवं 12वीं कक्षा के बच्चों के लिये स्कूल खोलने का निर्णय किया है.

बड़े पैमाने पर खादी के मास्क का आर्डर 
आधिकारिक बयान में कहा गया है, 'खरीद के इस आर्डर का अपना महत्व है क्योंकि यह पहला मौका है जब पूर्वोत्तर के किसी राज्य की सरकार ने अपने छात्रों के लिये इतने बड़े पैमाने पर खादी के मास्क का आर्डर दिया है.'



ये भी पढ़ें-
मेडिकल स्टूडेंट्स को झटका- हरियाणा सरकार ने 66% बढ़ाई MBBS की फीस, यहां समझें पूरा फीस स्ट्रक्चर

HPPSC Recruitment 2020: वेटरनरी ऑफिसर पद के लिए वैकेंसी, 04 दिसंबर लास्ट डेट

तीन नंवबर को आर्डर दिये गये
बयान में कहा गया है कि मास्क की खरीदारी के लिये तीन नंवबर को आर्डर दिये गये थे और केवल छह दिन में खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग ने अपेक्षित तात्कालिकता को देखते हुये इसकी अपूर्ति कराई. दोहरे स्तर के सूती तिरंगा मास्क का मकसद छात्रों में राष्ट्रभक्ति की भावना पैदा करना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज