होम /न्यूज /education /

कोरोना काल में छात्रों के ल‍िए होम-स्कूलिंग प्रोग्राम में बड़ा मददगार बना uFaber

कोरोना काल में छात्रों के ल‍िए होम-स्कूलिंग प्रोग्राम में बड़ा मददगार बना uFaber

ऑनलाइन एजुकेशन का कॉन्‍सेप्‍ट भी तेजी के साथ उभरा है. कोरोना काल में कई माता-पिता होम-स्कूलिंग पैटर्न में विश्वास कर रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

ऑनलाइन एजुकेशन का कॉन्‍सेप्‍ट भी तेजी के साथ उभरा है. कोरोना काल में कई माता-पिता होम-स्कूलिंग पैटर्न में विश्वास कर रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Online Education: uFaber का रियल-स्कूल प्रोग्राम, पूरे भारत में बच्चों के लिए एक प्रभावी होम-स्कूलिंग कार्यक्रम प्रदान करता है. छात्रों को अपने घरों में आराम से पूरी तरह से शिक्षा प्राप्त होती है जहां वे न केवल तनाव के बिना सीख सकते हैं बल्कि अन्य हितों को आगे बढ़ाने के लिए भी पर्याप्त समय प्राप्त कर सकते हैं. यूफैबर (uFaber) अपने रियल-स्कूल ब्रांड (भारत के पहले हाइब्रिड स्कूल) के माध्यम से K12 छात्रों के लिए एक सहयोगी सीखने का माहौल प्रदान करता है.

अधिक पढ़ें ...

    नई द‍िल्‍ली. कोरोना संक्रमण (Coronavirus) महामारी ने दुनि‍या को पूरी तरह से ड‍िज‍िटल मोड पर लाकर खड़ा कर द‍िया है. इस महामारी के चलते श‍िक्षा का क्षेत्र बेह‍द प्रभावित हुआ है. इसके चलते ऑनलाइन एजुकेशन का कॉन्‍सेप्‍ट भी तेजी के साथ उभरा है. कोरोना काल में कई माता-पिता होम-स्कूलिंग पैटर्न में विश्वास कर रहे हैं.

    पैरेंट्स अपने बच्चों के लिए सुरक्षित, भरोसेमंद और आरामदायक होम-स्कूलिंग पैटर्न की जरूरत महसूस करते हैं. देश के सबसे लाभदायक एडटेक स्टार्ट-अप में से एक यूफैबर (uFaber) भी है जोक‍ि अपने रियल-स्कूल ब्रांड (भारत के पहले हाइब्रिड स्कूल) के माध्यम से K12 छात्रों के लिए एक सहयोगी सीखने का माहौल प्रदान करता है.

    इस रियल-स्कूल में, प्रत्येक छात्र की अनूठी जरूरतों को पूरा करने के साथ-साथ सीखने को मनोरंजक बनाने के लिए पाठ्यक्रम बनाया जाता है जो छात्रों को उनकी असुरक्षाओं को दूर करने और पारंपरिक स्कूलों में कक्षाओं के दौरान अक्सर देखे जाने वाले साथियों के दबाव से लड़ने में मदद करता है.

    ये भी पढ़ें: Delhi School Reopen Updates: दिल्ली में स्कूल कॉलेज खोलने पर अगले हफ्ते होगा फैसला, देखें डिटेल 

    ऑनलाइन शिक्षा को लेकर भारतीय अभिभावकों के विचार इस समय बदल रहे हैं. K12 विद्यार्थियों के लिए, uFaber का रियल स्कूल पाठ्यक्रम पर्यवेक्षित शिक्षण और सेल्फ- स्टडी का मिश्रण प्रदान करना चाहता है. इसका लक्ष्य बच्चों के स्क्रीन समय में कटौती करने के साथ उन्हें आकर्षक शैक्षिक जानकारी प्रदान करना है. टेक्नोलॉजी वास्तविक समय में प्रगति की पहचान करना और सीखने के अंतराल को पाटकर एक व्यक्तिगत पाठ्यक्रम प्रदान करती है. विद्यार्थी इससे निर्देशित अभ्यास, निर्देशात्मक वीडियो और एक व्यक्तिगत शिक्षण डैशबोर्ड के माध्यम से अपने महत्वपूर्ण थिंकिंग स्किल, रीज़निंग स्किल और स्मृति में सुधार कर सकते हैं.

    यूफैबर (uFaber) के संस्थापक रोहित जैन ने उल्लेख करते हुए कहा है क‍ि “बच्चों के लिए शिक्षा प्रदान करने के लिए माता-पिता और शिक्षकों के बीच अविश्वसनीय दर से उभर रहे सहयोग के समाधान खोजने के उद्देश्य से रियल-स्कूल का निर्माण किया गया है. जैसा कि uFaber टीम ने एक ऑनलाइन होम-स्कूलिंग प्रोग्राम ने निर्देशात्मक उपकरण और प्रौद्योगिकी स्थापित करने के लिए एक साथ जुड़कर बच्चों को ऐसे तरीके से पढ़ाया है जिसकी कल्पना पहले कभी नहीं की गई थी. स्टेनर, और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के स्नातक पाठ्यक्रम मारिया मोंटेसरी से प्रेरित है.

    uFaber का रियल-स्कूल प्रोग्राम, पूरे भारत में बच्चों के लिए एक प्रभावी होम-स्कूलिंग कार्यक्रम प्रदान करता है. छात्रों को अपने घरों में आराम से पूरी तरह से शिक्षा प्राप्त होती है जहां वे न केवल तनाव के बिना सीख सकते हैं बल्कि अन्य हितों को आगे बढ़ाने के लिए भी पर्याप्त समय प्राप्त कर सकते हैं.

    ये भी पढ़ें: MP School Reopen: मध्य प्रदेश के स्कूलों में जारी रहेंगी ऑनलाइन कक्षाएं, देखें पूरी जानकारी

    भारतीय शिक्षा प्रणाली में उनके गृह-विद्यालय कार्यक्रम के साथ पर्याप्त परिवर्तन किए जा रहे हैं, जिसमें छात्रों को पढ़ाने के लिए संभावित भारतीय विशेषज्ञ और शिक्षक शामिल हैं. व्यावहारिक जीवन, संवेदी, अंकगणित, भाषा, प्राणी विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, भूगोल, विज्ञान, कला और संगीत आंदोलन, शारीरिक शिक्षा, संस्कृति और इतिहास 14 महीने से 12 साल के बच्चों के लिए रियल-वर्ल्ड स्कूल में उपलब्ध पाठ्यक्रमों में शामिल हैं.

    यूफैबर का राजस्‍व पहुंचा 100 करोड़ के पार
    वित्त वर्ष 2021-2022 में, 1 मिलियन से अधिक शिक्षार्थियों और 60,000+ ग्राहकों के साथ uFaber का राजस्व 100 करोड़ रुपए तक पहुंच गया. आईआईटी-मुंबई के दो इंजीनियरों द्वारा 2015 में स्थापित यूफैबर का लक्ष्य प्रत्येक छात्र को प्राथमिकता देते हुए शेड्यूलिंग और कक्षा प्रतिबंधों को समाप्त करके एक आदर्श शिक्षा पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करना है.

    अंग्रेजी बोलना सीखाने में सहायता करने पर भी फोकस
    uFaber न केवल K-12 आयु वर्ग के बच्चों के लिए द रियल स्कूल की पेशकश करता है, बल्कि यह सभी उम्र के लोगों को द फ्लुएंट लाइफ के माध्यम से धाराप्रवाह अंग्रेजी बोलना सीखाने में सहायता करने पर भी ध्यान केंद्रित करता है. यह छात्रों को सबसे आवश्यक और प्रतिष्ठित परीक्षाओं, जैसे आईईएलटीएस निंजा में आईईएलटीएस और यूपीएससी पाठशाला में यूपीएससी के लिए उपस्थित होने में सहायता और नेतृत्व करता है.

    Tags: COVID 19, Delhi news, Education news, Online education

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर