होम /न्यूज /education /UGC Guidelines: भारत अंतरराष्ट्रीय छात्रों का होगा पसंदीदा डेस्टिनेशन, UGC ने लिया ये अहम फैसला 

UGC Guidelines: भारत अंतरराष्ट्रीय छात्रों का होगा पसंदीदा डेस्टिनेशन, UGC ने लिया ये अहम फैसला 

UGC Guidelines: UGC ने UG, PG में अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए एडमिशन और अतिरिक्त सीटों के लिए दिशानिर्देशों  को मंजूरी दे दी है.

UGC Guidelines: UGC ने UG, PG में अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए एडमिशन और अतिरिक्त सीटों के लिए दिशानिर्देशों को मंजूरी दे दी है.

UGC Guidelines: UGC ने भारत में उच्च शिक्षा संस्थानों में ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्रामों में अंतरराष्ट्रीय छात् ...अधिक पढ़ें

UGC Guidelines: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने भारत में उच्च शिक्षा संस्थानों में ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्रामों में अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए एडमिशन और अतिरिक्त सीटों के लिए दिशानिर्देशों (UGC Guidelines) को मंजूरी दे दी है. यह फैसला 18 अगस्त को हुई UGC की 560वीं बैठक में लिया गया. राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) 2020 में भारत की उच्च शिक्षा प्रणाली के लिए एक नई और दूरदृष्टि की परिकल्पना की गई है. यह समानता, बहु-विषयकता, समग्र और मूल्य-आधारित शिक्षा जैसे प्रमुख मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करके वर्तमान शिक्षा प्रणाली के अत्यधिक आवश्यक परिवर्तन की नींव रखता है. इससे भारत अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए एक पसंदीदा डेस्टिनेशन बनेगा.

UGC के अध्यक्ष प्रो एम जगदीश कुमार ने कहा, “उच्च शिक्षा का अंतरराष्ट्रीयकरण राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का एक अनिवार्य पहलू है और उच्च शिक्षा में अंतरराष्ट्रीय और सांस्कृतिक आयामों को एकीकृत करने में मदद करता है.” अंतरराष्ट्रीय छात्रों, शिक्षाविदों और वित्त पोषण को आकर्षित करने के अवसर बढ़ रहे हैं और कई भारतीय उच्च शिक्षण संस्थान (HEI) अब अपनी अंतरराष्ट्रीय पहुंच बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों के अंतरराष्ट्रीयकरण की सुविधा के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए एडमिशन और अतिरिक्त सीटें बनाने के लिए दिशानिर्देश तैयार किए हैं.

प्रो. कुमार के अनुसार इन दिशानिर्देशों का मुख्य उद्देश्य भारत में उच्च शिक्षण संस्थानों में अंतरराष्ट्रीय छात्रों के सहज और सरल एडमिशन की सुविधा प्रदान करना, अंतरराष्ट्रीय छात्रों को भारतीय उच्च शिक्षा प्रणाली की ओर आकर्षित करने के लिए अनुकूल वातावरण और पसंदीदा डेस्टिनेशन बनाना है. उन्होंने कहा कि HEI को पारदर्शी प्रवेश प्रक्रिया का उपयोग करके अंतरराष्ट्रीय छात्रों को विदेशी विश्वविद्यालयों की तरह प्रवेश देने की अनुमति दी जाएगी. इन छात्रों को भारत में एडमिशन के लिए उपयोग की जाने वाली एडमिशन प्रोसेस से नहीं गुजरना पड़ता है.

HEI अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट कार्यक्रमों के लिए उनके कुल स्वीकृत नामांकन के अलावा 25 प्रतिशत तक अतिरिक्त सीटें सृजित कर सकते हैं. 25 प्रतिशत अधिसंख्य सीटों के संबंध में निर्णय संबंधित उच्च शिक्षण संस्थानों द्वारा बुनियादी ढांचे, संकाय और अन्य आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए नियामक निकायों द्वारा जारी विशिष्ट दिशानिर्देशों / विनियमों के अनुसार किया जाना है. अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए 25 प्रतिशत अतिरिक्त सीटों में अंतरराष्ट्रीय छात्रों को एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत या/और संस्थानों के बीच या भारत सरकार और अन्य देशों के बीच समझौता ज्ञापन (MoU) के माध्यम से शामिल नहीं किया जाएगा.

ये भी पढ़ें…
NLC इंडिया में 481 पदों पर आवेदन करने के बचे हैं चंद दिन, जल्द करें आवेदन
रखते हैं ये डिग्री, तो को-ऑपरेटिव बैंक में बन सकते हैं ऑफिसर, आवेदन शुरू

Tags: Admission Guidelines, Ugc

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें