होम /न्यूज /education /

UGC One Exam Policy : अब नहीं होंगी नीट यूजी, जेईई मेन परीक्षाएं ! यूजीसी का है ये प्रस्ताव

UGC One Exam Policy : अब नहीं होंगी नीट यूजी, जेईई मेन परीक्षाएं ! यूजीसी का है ये प्रस्ताव

UGC One Exam Policy : सरकार NEET और JEE Main को सीयूईटी में विलय की संभावना तलाश रही है.

UGC One Exam Policy : सरकार NEET और JEE Main को सीयूईटी में विलय की संभावना तलाश रही है.

UGC One Exam Policy : यूजीसी का वन नेशन-वन एग्जाम प्रस्ताव लागू हो जाने के बाद नीट यूजी, और जेईई मेन परीक्षाएं नहीं होंगी. वन एग्जाम पॉलिसी के जरिए इन दोनों परीक्षाओं का सीयूईटी में विलय कर दिया जाएगा. यूजीसी अध्यक्ष के अनुसार, इससे छात्रों पर दबाव कम होगा.

अधिक पढ़ें ...

    UGC One Exam Policy : अगले साल NEET और JEE परीक्षा देने की सोच रहे छात्रों के लिए बड़ी खबर है. यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (UGC) मेडिकल और इंजीनियरिंग की इन प्रवेश परीक्षाओं को कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (CUET UG) में मर्ज करने पर विचार कर रहा है. सरकार का विचार सभी अंडरग्रेजुएट प्रवेश परीक्षाओं के लिए एक परीक्षा की नीति बनाने की है. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, यूजीसी के अध्यक्ष एम जगदीश कुमार ने शुक्रवार को कहा कि सरकार नेशनल इंजीनियरिंग और मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम्स को मौजूदा सीयूईटी में विलय करने की संभावना तलाश रही है.

    यूजीसी अध्यक्ष ने कहा कि सरकार जल्द से जल्द एक इंटीग्रेटेड एंट्रेंस एग्जाम शुरू करने पर विचार कर रही है. इसकी शुरुआत अगले साल से हो सकती है. उन्होंने कहा, हमारे पास मुख्यत: तीन बड़े एंट्रेंस एग्जाम हैं- NEET, JEE (Main) और CUET. इनमें बड़ी संख्या में छात्र शामिल होते हैं. इन तीनों परीक्षाओं का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी यानी एनटीए द्वारा किया जाता है. इसलिए हम सोच रहे हैं कि क्यों न सीयूईटी स्कोर का इस्तेमाल मल्टिपल डिसिप्लिन में एडमिशन के लिए किया जाए.

    सीयूईटी स्कोर से तय होगा डिसिप्लिन

    एम जगदीश कुमार ने बताया कि प्रस्ताव के अनुसार, तीनों एंट्रेंस एग्जाम में चार विषयों- गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के लिए छात्रों को अलग-अलग परीक्षा नहीं देनी होगी. वे एक ही परीक्षा देकर विभिन्न डिसिप्लिन में एडमिशन ले सकेंगे. परीक्षा का स्कोर उनकी वांछित स्ट्रीम तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे. उन्होंने कहा कि वन एग्जाम पॉलिसी के बाद छात्रों को सिर्फ कोर सब्जेक्ट ही नहीं, अन्य कोर्स में भी एडमिशन का मौका मिलेगा. इस पर आम सहमति को लेकर हायर एजुकेशन रेगुलेटरी स्टेकहोल्डर्स के साथ विचार-विमर्श के लिए एक समिति गठित कर रहा है.

    तीनों परीक्षाओं के लिए इस साल 4.3 मिलियन रजिस्ट्रेशन

    बता दें कि सीयूईटी देश की दूसरी सबसे बड़ी परीक्षा है. सीयूईटी 2022 में 1.49 मिलियन छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया है. NEET, JEE Main और CUET 2022 के लिए कुल 4.3 मिलियन रजिस्ट्रेशन हुए थे.

    ये भी पढ़ें:
    किसी अंग्रेजी वाक्य को सवाल में कैसे बदलें? इन उदाहरणों से समझें 10 नियम
    मौसम और दिशाओं को अंग्रेजी में क्या कहते हैं? इस जानकारी से बढ़ाएं ज्ञान

    Tags: CUET 2022, JEE Main Exam, Neet exam, Ugc

    अगली ख़बर