होम /न्यूज /education /

UGC Merge NEET, JEE Main in CUET: मेडिकल, इंजीनियरिंग के लिए अब देना हो सकता सिंगल एग्जाम! जानें तमाम डिटेल

UGC Merge NEET, JEE Main in CUET: मेडिकल, इंजीनियरिंग के लिए अब देना हो सकता सिंगल एग्जाम! जानें तमाम डिटेल

UGC Plan to Merge NEET JEE Main in CUET: सिंगल एग्जाम आयोजन करने पर विचार किया जा रहा है.

UGC Plan to Merge NEET JEE Main in CUET: सिंगल एग्जाम आयोजन करने पर विचार किया जा रहा है.

UGC Merge NEET, JEE Main in CUET: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) इंजीनियरिंग (JEE Main) और मेडिकल प्रवेश परीक्षा (NEET) के लिए एक सिंगल एग्जाम (CUET-UG) आयोजित करने पर विचार कर रहा है.

UGC Plan to Merge NEET, JEE Main in CUET: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) इंजीनियरिंग और मेडिकल प्रवेश परीक्षा को कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट-अंडरग्रेजुएट (CUET-UG) में मर्ज करने पर विचार कर रहा है. UGC के अध्यक्ष एम जगदीश कुमार (M Jagadesh Kumar) ने TOI को बताया कि प्रस्ताव के अनुसार, तीन प्रवेश परीक्षाओं में चार विषयों – गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान के लिए उपस्थित होने के बजाय छात्र एक बार परीक्षा दे सकते हैं और अध्ययन के विभिन्न क्षेत्रों के लिए योग्य हो सकते हैं. हायर एजुकेशन रेगुलेटरी आम सहमति को लेकर स्टेकहोल्डर के साथ विचार-विमर्श करने के लिए एक समिति तैयार कर रहा है.

UGC के अध्यक्ष ने आगे कहा, “प्रस्ताव यह है कि क्या हम इन सभी प्रवेश परीक्षाओं को एकीकृत कर सकते हैं ताकि हमारे छात्रों को एक ही ज्ञान के आधार पर कई प्रवेश परीक्षाओं के अधीन न किया जाए? छात्रों के पास एक सिंगल प्रवेश परीक्षा होनी चाहिए, लेकिन विषयों के बीच आवेदन करने के कई अवसर होने चाहिए.” इंजीनियरिंग प्रवेश ‘संयुक्त प्रवेश परीक्षा (मुख्य)’, मेडिकल प्रवेश’ नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस एग्जाम- अंडरग्रेजुएट’ यानि CUET-UG देश में तीन प्रमुख प्रवेश परीक्षाएं हैं. इसमें करीब 43 लाख उम्मीदवारों के शामिल होने की संभावना थी. अधिकांश छात्र इनमें से कम से कम दो परीक्षाओं में शामिल होते हैं. उम्मीदवार JEE (मेन्स) के लिए भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित के लिए उपस्थित होते हैं जबकि NEET-UG में जीव विज्ञान गणित की जगह लेता है. ये विषय CUET-UG के 61 डोमेन विषयों का भी हिस्सा हैं.

एम जगदीश कुमार के अनुसार प्रस्ताव का उद्देश्य छात्रों को कई परीक्षाओं के तनाव से नहीं गुजरना चाहिए क्योंकि उनका परीक्षा सेम सेट के विषय के लिए किया जा रहा है. उन्होंने आगे कहा कि आमतौर पर, कौन से प्रोग्राम उपलब्ध हैं? कुछ छात्र मेडिकल या इंजीनियरिंग में जाना पसंद कर सकते हैं. यदि वे दोनों में नहीं आते हैं, तो कई सामान्य शिक्षा में शामिल होंगे. तो क्या सभी विषयों के लिए केवल एक CUET होना संभव है? जो छात्र इंजीनियरिंग में गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान में अपने अंक प्राप्त करना चाहते हैं, उनका उपयोग रैंकिंग सूची के रूप में और इसी तरह मेडिकल के लिए किया जा सकता है. यदि वे मेडिकल या इंजीनियरिंग में प्रवेश नहीं करते हैं, तो CUET के तहत उनके पास गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान आदि के समान अंकों का उपयोग करके विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होने का अवसर होगा. अतः इन चारों विषयों में एक बार लिखकर विद्यार्थी विभिन्न अवसरों के लिए प्रयास कर सकते हैं.

UGC “सिंगल एग्जाम” के लिए स्टेकहोल्डरों के बीच विचार-विमर्श के माध्यम से आम सहमति बनाने पर विचार कर रहा है ताकि उम्मीदवारों को इसे वर्ष में दो बार परीक्षा में शामिल होने का अवसर दिया जा सके. कुमार ने कहा, “पहला बोर्ड परीक्षा के बाद हो सकता है और दूसरा दिसंबर में हो सकता है.” पेन-पेपर NEET-UG को अपने दायरे में लाने पर कुमार ने कहा, “भविष्य कंप्यूटर आधारित मल्टीपल च्वाइस क्वेश्चन प्रकार की परीक्षा है क्योंकि OMR -आधारित टेस्टों में अभी भी मूल्यांकन की सटीकता के मामले में कुछ चुनौतियां हैं.”

ये भी पढ़ें…
PNB में इन पदों पर बिना परीक्षा पा सकते हैं नौकरी, जल्द करें आवेदन
कर्मचारी चयन बोर्ड में इन पदों पर निकली बंपर वैकेंसी, ग्रेजुएट करें आवेदन

Tags: Jee main, JEE Main Exam, NEET, Neet exam, Ugc

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर