होम /न्यूज /education /UP Board : 14 दिन में जांची गई 3.19 करोड़ कापियां, समय से पहले पूरा हुआ मूल्यांकन, यूपी बोर्ड ने बनाया इतिहास

UP Board : 14 दिन में जांची गई 3.19 करोड़ कापियां, समय से पहले पूरा हुआ मूल्यांकन, यूपी बोर्ड ने बनाया इतिहास


UP Board Result : यूपी बोर्ड अब रिजल्ट जारी करने की तैयारी में जुट गया है.

UP Board Result : यूपी बोर्ड अब रिजल्ट जारी करने की तैयारी में जुट गया है.

UP Board Result : यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं की कॉपियों का मूल्यांकन पूरा हो गया है. यूपी बोर्ड ने इसी के साथ निर्धारि ...अधिक पढ़ें

प्रयागराज. यूपी बोर्ड ने इस वर्ष कापियों के मूल्यांकन में इतिहास बना दिया है. निर्धारित समय के पहले ही 3.19 करोड़ कापियों का मूल्यांकन पूरा हो गया है. गत वर्षों में निर्धारित अवधि के बाद भी मूल्यांकन होता रहा है. व्यावसायिक विषयों की कापियों को जांचने के लिए समय से परीक्षक भी नहीं मिलते थे. लेकिन बोर्ड ने कापियों के मूल्यांकन के लिए परीक्षकों को नियुक्त करने में पहले से ही सजगत बरती. इस बार नकल विहीन परीक्षा करा करके बोर्ड इतिहास रच चुका है. तीस वर्षों में पहली बार किसी केंद्र से प्रश्नपत्र की रांग ओपनिंग नहीं हुई और ना ही कहीं पुनर्परीक्षा की स्थिति पैदा हुई. बोर्ड अब समय से रिजल्ट निकालने की तैयारी में जुट गया है.

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटर की कापियों के मूल्यांकन की अवधि एक अप्रैल तक निर्धारित की गई थी. मूल्यांकन 18 मार्च को शुरू हुआ था. बोर्ड ने निर्धारित तिथि से एक दिन पहले यानी 31 मार्च को ही मूल्यांकन पूरा कर लिया. इस वर्ष बोर्ड के नए प्रशिक्षण माड्यूल ने भी मूल्यांकन कार्य को जल्द कराने में परीक्षकों को सहूलियत दी. स्टैटिक मजिस्ट्रेट की नियुक्ति भी कारगर रही. कापियों को रैंडम तरीके ही वितरित किया गया.

258 केंद्रों पर चेक हुई कॉपियां 

आपके शहर से (लखनऊ)

बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटर परीक्षा में कुल 58,85,745 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए थे. उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए कुल 258 मूल्यांकन केंद्रों बनाए गए थे. जिसमें 83 राजकीय एवं 175 सहायता प्राप्त स्कूल थे. इन केंद्रों पर हाईस्कूल की 1,86 करोड़ एवं इंटर की 133 करोड़ समेत कुल 3 करोड़ 19 लाख कापियां थीं. हाई स्कूल की कापियों के मूल्यांकन को 89,698 एवं इंटर के लिए 54,235 समेत कुल 1,43,933 परीक्षक लगाए गए थे.

यूपी बोर्ड ने जुलाई 2022 में शुरू कर दी थी परीक्षा की तैयारी

गौरतलब है कि यूपी बोर्ड ने इस बार जुलाई माह से ही परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी. परीक्षा नकल विहीन हो इसके लिए पहले गुणवर्त्ता पूर्ण शिक्षा पर ध्यान दिया गया. स्कूल में पठन-पाठन का माहौल बेहतर हो इसके लिए बोर्ड ने स्कूल की मानिटरिंग कराई. फिर नकल विहीन परीक्षा कराने पर फोकस किया. परीक्षा केंद्र बनाने में सावधानी बरती गई. इसका परिणाम सार्थक आने पर बोर्ड ने शुचितापूर्ण मूल्यांकन पर जोर दिया. गत वर्षों में मूल्यांकन अवधि के बाद भी कापियां जांची जाती रही थीं. इसकी वजह से बोर्ड की बहुत किरकिरी होती थी. इस बार बोर्ड ने मूल्यांकन भी समय से पहले करा दिया. जिन विषयों की कापियों के मूल्यांकन में दिक्तत आती थी उसे पहले दूर कर लिया गया था.

बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ला ने मूल्यांकन समय से पहले पूरा होने का पूरा श्रेय परीक्षकों को दिया है. उन्होंने कहा कि शिक्षकों ने पूरे मनोयोग से अपने दायित्व का निर्वहन किया है. साथ ही क्षेत्रीय कार्यालयों के अपर सचिव एवं स्टैटिक मजिस्ट्रेट एवं पर्यवेक्षकों ने भी पूरी सजगत बरती है.

ये भी पढ़ें 
Bank Jobs Alert: सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में 5000 पोस्ट पर निकली बंपर वैकेंसी, जानिए आवेदन की आखिरी डेट
Central Government Job: 12वीं पास युवाओं के लिए सरकारी नौकरी का मौका, EPFO में निकली भर्ती

Tags: Board exam news, Education news, Up board result

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें