UP Board 10th Exam 2021: पिछले साल 10वीं में फेल यूपी के चार लाख से अधिक विद्यार्थी असमंजस में

UP Board 10th Exam 2021: पिछले साल 10वीं परीक्षा में फेल हुए यूपी बोर्ड के चार लाख से अधिक विद्यार्थी में असमंजस की स्थिति.

UP Board 10th Exam 2021: पिछले साल यूपी बोर्ड में फेल हुए चार लाख से अधिक विद्यार्थियों में असमंजस की स्थिति है. बोर्ड ने 10वीं के विद्यार्थियों के 9वीं के साल 2020 के अंक अपलोड करने के निर्देश दिए है. ऐसे में इन विद्यार्थियों का क्या होगा यह एक बड़ा सवाल बना हुआ है.  

  • Share this:
    नई दिल्ली. यूपी बोर्ड के चार लाख से अधिक विद्यार्थियों में असमंजस की स्थिति है. ये वो विद्यार्थी हैं, जो पिछले वर्ष 10वीं बोर्ड परीक्षा में फेल हो गए थे. इन विद्यार्थियों ने दोबारा से 10वीं की परीक्षा 2021 के लिए पंजीकरण कराया है.

    10वीं के विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रमोट करने के लिए बोर्ड की ओर से 10वीं के विद्यार्थियों का कक्षा 9वीं कक्षा 2020 वार्षिक परीक्षा के पूर्णांक और प्राप्तांक मांगे गए हैं, जबकि पिछले वर्ष फेल हुए 10वीं के विद्यार्थियों के पास 9वीं कक्षा का साल 2019 का रिजल्ट है. ऐसे में पिछले वर्ष 10वीं की बोर्ड परीक्षा में फेल हुए विद्यार्थियों में असमंजस की स्थिति है.

    विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पिछले वर्ष 10वीं की बोर्ड परीक्षा में कुल 27,72,656 परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया था. जिनमें से 23,09,802 विद्यार्थी पास हुए थे. वहीं 10वीं की परीक्षा में करीब 4,62,854 विद्यार्थी फेल घोषित किए गए थे. इनमें से ज्यादातर विद्यार्थियों ने 10वीं बोर्ड परीक्षा के लिए फिर से पंजीकरण कराया है.

    यह भी बताया जाता है कि नंबर अपलोड करने के लिए जो पोर्टल बना है. उसमें भी साल का कोई रिकार्ड नहीं है. लाइव हिंदुस्तान डाट काम में प्रकाशित खबर के अनुसार यदि कोई 2018 या फिर 2017 के अंक अपलोड कर दे तो उसे चेक करने का बोर्ड के पास क्या सिस्टम है, किसी को पता नहीं. बोर्ड ने इससे पहले कभी छमाही और  प्री बोर्ड या फिर कक्षा 9 की परीक्षा के अंक अपलोड नहीं कराए हैं.

    ये भी पढ़ें -
    12वीं की बोर्ड परीक्षा कराने के खिलाफ दिल्ली सरकार, कहा-पहले वैक्सीन लगाओ
    CBSE 12th Exam 2021 : होम सेंटर पर ही होगी 12वीं की परीक्षा, सीबीएसई ने रखा ये प्रस्ताव

    इस जोन में इतने विद्यार्थी पिछले साल हुए थे फेल
    प्रयागराज - 1,22,679
    वाराणसी - 1,53,142
    बरेली - 40,769
    गोरखपुर - 76,983
    मेरठ -  69,281