• Home
  • »
  • News
  • »
  • education
  • »
  • UPSC IAS Exams Tips: आई.ए.एस. में पूछे जाने वाले प्रश्न​

UPSC IAS Exams Tips: आई.ए.एस. में पूछे जाने वाले प्रश्न​

यूपीएससी की तैयारी के प्रश्नों को समझना जरूरी है.

यूपीएससी की तैयारी के प्रश्नों को समझना जरूरी है.

यू.पी.एस.सी. की एवरेस्ट की तरह वह सबसे बड़ी चुनौती है, जिसकी ऊँचाई को बहुत कम लोग छू पाते हैं.

  • Share this:
कॉलेज के पेपर्स उसी तरह के नहीं आते हैं, जैसे आई.ए.एस. के आते हैं. मुझे तो सी.बी.एस.सी. के पेपर्स देखकर भी बड़ी निराशा होती है, क्योंकि वहाँ भी जिस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं, उनके उत्तर सीधे सपाट तरीके से ही दिए जा सकते हैं.

यूपीएससी में ऐसा नहीं चलता 

राज्य सेवा परीक्षाओं के पेपर्स की भी लगभग यही हालत है. प्रश्न सीधे-सीधे पूछे जाते हैं, आप सीधे-सीधे उत्तर दे दीजिए. आपको नम्बर मिल जाएँगे. इसलिए मुझे यह कहने में कतई कोई संकोच नहीं कि स्टेट सिविल सर्विस में चयन का मतलब बहुत कुछ ‘सब धान बाईस पसेरी‘ की तरह का ही होता है. वहाँ ब्रिलिएंट और जैन्यून विद्यार्थी पीछे रह सकते हैं और सामान्य स्तर के विद्यार्थी आगे. यदि रटा हुआ लिखना ही नम्बर दिलाने का आधार है, तो रटना कोई बहुत मुश्किल काम नहीं होता. इसे ज्यादातर लोग कर सकते हैं. लेकिन यू.पी.एस.सी. में यह कतई नहीं चलता और यही यू.पी.एस.सी. की एवरेस्ट की तरह वह सबसे बड़ी चुनौती है, जिसकी ऊँचाई को बहुत कम लोग छू पाते हैं और यही वह सबसे बड़ा कारण है कि टॉपर तक को यू.पी.एस.सी. में जगह नहीं मिल पाती.

असफलता का सबसे बड़ा कारण

आप यू.पी.एस.सी. का कोई भी पेपर उठाकर देखिए-प्रारम्भिक परीक्षा के सामान्य ज्ञान से लेकर मुख्य परीक्षा के सामान्य ज्ञान और यहाँ तक कि ऑप्शनल सब्जेक्ट्स के पेपर्स तक. इसमें थोडा समय लगाइए. जब आप प्रश्नों को पढ़ेंगे, तो आपको यह तो लगेगा कि यह प्रश्न सिलेबस से ही पूछा गया है. आपको यह भी लगेगा कि इसके बारे में आपने पढ़़ा है और आप कुछ-कुछ जानते भी हैं, लेकिन जब आप इसका उत्तर लिखने बैठेंगे, तो दो-चार लाइन लिखने के बाद ही आपकी कलम या तो रुक जाएगी या फिर उन्हीं बातों को बार-बार लिखने लगेगी. (भले ही थोड़े अलग तरीके से), जिन्हें आप इससे पहले भी लिख चुके हैं और बस, यही अधिकांश विद्यार्थियों की असफलता का सबसे बड़ा ही नहीं बल्कि एकमात्र कारण बन जाता है. इसे मैं सिविल सेवा की सबसे बड़ी चुनौती मानता हूँ.

ये भी पढ़ें
CBSE 10th 12th Board Exams: तो कल होगा बोर्ड परीक्षा की तारीखों का ऐलान
SSC 2020 : डाटा इंट्री ऑपरेटर, क्लर्क समेत 4726 पदों पर भर्तियां, देखें डिटेल

चुनौती से निपटा कैसे जाए

अब सवाल यह है कि इस चुनौती से निपटा कैसे जाए, क्योंकि आप अन्य कुछ भी कर लें, यदि आपने इसे ठीक नहीं किया तो कुछ भी नहीं होगा. मेरी इस चेतावनी को आप गाँठ बाँध लीजिए. उत्तर लिखने की वह पद्धति यहाँ कोई काम नहीं आती, जो अभी तक आप कॉलेज में प्रयोग करते आए हैं, और जिसके बल पर ढेर सारे नम्बर भी बटोरते आए हैं. दोष आपका नहीं है. आप लिखते रहे, आपको नम्बर मिलते रहे. फिर भला आप यह सोच ही कैसे सकते थे कि ‘मैं गलत हूँ और मुझे कुछ और लिखना चाहिए.‘ खैर, गलती किसी की भी हो, यहाँ उद्देश्य उसका मूल्यांकन करना नहीं है. उद्देश्य तो केवल यह है कि आप उन चुनौतियों को जान और समझ सकें, जिनका सामना आपको करना पड़ेगा और जिन्हें समझ लेने भर से आपकी तैयारी की पद्धति काफी कुछ बदल जाएगी.

(लेखक पूर्व सिविल सर्वेंट और afeias के संस्थापक हैं.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज