विदेश में एक करोड़ रुपये की जॉब छोड़ ऐसे आईएएस टॉपर बने कनिष्क कटारिया

कनिष्क कटारिया ने एक करोड़ रुपये का पैकेज छोड़कर आईएएस की तैयारी शुरू की.

IAS Success Story: कटारिया ने विदेश में एक करोड़ रुपये वार्षिक सैलरी की जॉब छोड़कर प्रशासनिक सेवा के जरिए देश सेवा करना तय किया था. उन्होंने यह सफलता महज 10 से 11 महीने की कोचिंग के बाद हासिल की थी.

  • Share this:











    upsc topper success story : बेहतर रणनीति और मजबूत इच्छाशक्ति हो तो यूपीएससी की परीक्षा में आसानी से सफलता हासिल की जा सकती है. इसके प्रमाण हैं 2018 में यूपीएससी की परीक्षा में पहली रैंक हासिल करने वाले राजस्थान कैडर के आईएएस अधिकारी कनिष्क कटारिया. कटारिया ने विदेश में एक करोड़ रुपये वार्षिक सैलरी की जॉब छोड़कर प्रशासनिक सेवा के जरिए देश सेवा करना तय किया था. उन्होंने यह सफलता महज 10 से 11 महीने की कोचिंग के बाद हासिल की थी. कनिष्क के रास्ते पर चलकर दूसरे अभ्यर्थी भी सफलता की अपनी राह बना सकते हैं.

    1. किसी को मत करो कॉपी

    आईएएस अधिकारी कनिष्क कटारिया ने किसी को कॉपी करने की बजाए अपनी रणनीति बनाई. कनिष्क के अनुसार, सबकी जरूरतें अलग होती हैं. सब एक ही रणनीति से सफलता नहीं पा सकते. उदाहरण के लिए, कनिष्क की जीएस बहुत कमजोर थी. उन्होंने परीक्षा के सालों पहले से पेपर पढ़ना और करेंट अफेयर्स पर नजर रखना शुरू कर दिया था.

    2. हॉबी रखती है भीतर से मजबूत

    यूपीएससी की तैयारी के दौरान अनावश्यक दबाव में आने से बचना चाहिए. कनिष्क कटारिया बताते हैं कि वह बोरियत होने पर फुटबाल मैच देखते थे. वह नियमित तौर पर आईपीएल मैच भी देखते रहे. सर्विसेज की तैयारी करने वालों को अपनी हॉबी भी रखनी चाहिए. कनिष्क के अनुसार, हॉबी ही ऐसी चीज है जो आपको अंदर से मजबूत करती है.

    3. राज्यसभा की डिबेट देखकर की इंटरव्यू की तैयारी

    इंटरव्यू की तैयारियों के संबंध में कनिष्क कटारिया बताते हैं कि वह सवालों के जवाब देने के लिए राज्यसभा की डिबेट देखते थे. इससे सवालों के जवाब देने के साथ ही आत्मविश्वास का स्तर भी बढ़ा. कटारिया का इंटरव्यू 35 मिनट तक चला था. कटारिया इंटरव्यू का अनुभव है कि वहां कोई भी बनावटी बात व झूठ नहीं बोल सकता.

    4. सोशल मीडिया है काफी उपयोगी

    आईएएस अधिकारी कनिष्क कटारिया सोशल मीडिया को काफी उपयोगी मानते हैं. कटारिया के अनुसार, इसका समझदारी से इस्तेमाल तैयारी में काफी मदद कर सकता है. दिल्ली में तैयारी करते समय उन्होंने तीन दोस्तों का एक वॉट्सएप ग्रुप बना रखा था. इस पर प्रत्येक समस्या और तैयारी के नोट्स डाले जाते थे. हालांकि, मोबाइल का इस्तेमाल सिर्फ परिवार और दोस्तों से बात करने के लिए ही करते थे.

    5. गलतियों पर किया फोकस

    यूपीएससी की तैयारी में गणित को कनिष्क कटारिया ने वैकल्पिक विषय के तौर पर रखा था. हालांकि, उनकी कमजोरी दूसरे विषय थे जिससे 12वीं में तकरीबन जान बचाकर भागे थे. वही विषय फिर से चुनने पड़े. कनिष्क ने बताया कि उन्होंने आम दिनों में कम से कम आठ घंटे और परीक्षा के पहले 12 से 14 घंटे तक पढ़ाई की. खूब प्रैक्टिस की. अपनी गलतियों पर फोकस किया और बड़ों का मार्गदर्शन भी लिया.

    ये भी पढ़ेंः
    Board Exams 2021: बोर्ड परीक्षा देने वाले 21 लाख स्टूडेंट्स के लिए राहत भरी खबर
    Board Exams 2021: हिमाचल में अब 4 मई से नहीं होंगी बोर्ड परीक्षाएं, शेड्यूल बदलने के निर्देश

     










    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.