UP Board: ये है दुनिया का सबसे बड़ा शिक्षा बोर्ड, 1921 में हुई थी स्थापना

वर्ष 2021 में यूपी बोर्ड की स्थापना की 100वीं वर्षगाठ

वर्ष 2021 में यूपी बोर्ड की स्थापना की 100वीं वर्षगाठ

वर्ष 1921 में उत्तर प्रदेश बोर्ड की स्थापना की गई थी. आज उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सिर्फ देश का ही नहीं बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा शिक्षा बोर्ड है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 4:28 PM IST
  • Share this:
UP Board: इस वर्ष यूपी बोर्ड की स्थापना के 100 वर्ष पूरे हो जाएंगे. उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सिर्फ देश का ही नहीं बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा शिक्षा बोर्ड है. वर्ष 1921 में उत्तर प्रदेश बोर्ड की स्थापना की गई थी.

कोरोना महामारी के बावजूद यूपी बोर्ड विद्यार्थियों के लिए लिखित परीक्षाएं आयोजित करने जा रहा है. यूपी बोर्ड की अपने स्टूडेंट्स के लिए व्यापकता का अंदाजा लगाया जा सकता है. इन 100 वर्षों में यूपी बोर्ड ने एक क्षेत्रीय शिक्षा बोर्ड से दुनिया के सबसे बड़े राज्य शिक्षा बोर्ड के तौर पर अपनी एक विशिष्ट पहचान कायम की है. आइए प्रदेश बोर्ड के बारे में जरूरी बातें.

परीक्षा में शामिल होने वाली विद्यार्थियों की संख्या कई देशों की जनसंख्या से अधिक

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इस शैक्षणिक सत्र 2020-21 की बोर्ड परीक्षाओं में जितने स्टूडेंट परीक्षा देने जा रहे हैं उनकी संख्या विश्व के कई देशों की जनसंख्या से भी अधिक है. इस वर्ष 56 लाख से अधिक विद्यार्थी उत्तर प्रदेश की दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाएं देंगे. कुल 56,03,813 विद्यार्थी लिखित परीक्षा देने के लिए शामिल किए जाएंगे. यह संख्या फिनलैंड, नॉर्वे, आयरलैंड और कई देशों से अधिक है.
पहली बार 5,744 विद्यार्थियों ने 179 केंद्रों में दी थी परीक्षा

यूपी बोर्ड स्थापना वर्ष 1921 में हुई थी. जिसमें दस्तावेजों के अनुसार पहली बार आयोजित की गई परीक्षा में 5,744 विद्यार्थियों ने विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था. परीक्षा कुल 179 केंद्रों पर आयोजित की गई थी. कुल परीक्षार्थियों में से इनमें से 5,665 विद्यार्थी हाईस्कूल के थे, जबकि 89 विद्यार्थी इंटरमीडिएट के थे. आज इस शैक्षणिक सत्र 2020-21 में होने वाली परीक्षा में शामिल होने वाले स्टूडेंट्स की संख्या करीब 976 गुणा बढ़ गई है .

आजादी के बाद बोर्ड परीक्षा के लिए अचानक से बढ़ गए रजिस्ट्रेशन



आजादी तक बोर्ड परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करवाने वाले विद्यार्थियों की संख्या बहुत धीमी गति से बढ़ रही थी. मगर देश की आजादी के बाद उत्तर प्रदेश बोर्ड में विद्यार्थियों के रजिस्ट्रेशन में एक बड़ा उछाल देखने को मिला. जहां देश की आजादी वाले वर्ष 1947 में कुल 244 परीक्षा केंद्रों में यूपी बोर्ड के परीक्षार्थियों की संख्या 48,519 थी. वही 1952 में विद्यार्थियों के पंजीकरण की संख्या बढ़कर 1,72,246 पहुंच गई.

ये भी पढ़ें

Railway Recruitment 2021: 10वीं पास के लिए बिना परीक्षा रेलवे में नौकरी का मौका

UPPBPB Recruitment 2021: जेल वार्डर, फायरमैन की पीईटी परीक्षा के लिए केंद्र आवंटित

इस वर्ष 56 लाख विद्यार्थी दे रहे हैं परीक्षा

उत्तर प्रदेश शिक्षा बोर्ड के सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने हाल ही में बताया था कि 2021 में आयोजित होने जा रही बोर्ड परीक्षा में कुल 56,03,813 विद्यार्थी शामिल होंगे. जिसमें से 29,94,312 परीक्षार्थी 10वीं से है, जबकि 26,09,501 परीक्षार्थी 12वीं के हैं. इसके साथ ही परीक्षा साथ का आयोजन 8,513 केंद्रों पर किया जाएगा.

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज