लाइव टीवी

Bhojpuri Celebrity Life: गांव में भैंस चराने जाया करते थे भोजपुरी स्टार Khesari Lal Yadav, जानिए उनकी कामयाबी की संघर्ष भरी दास्तान!

News18Hindi
Updated: March 15, 2019, 1:19 PM IST
Bhojpuri Celebrity Life: गांव में भैंस चराने जाया करते थे भोजपुरी स्टार Khesari Lal Yadav, जानिए उनकी कामयाबी की संघर्ष भरी दास्तान!
khesari lal yadav

Khesari Lal Yadav Lifestyle: दिल्ली में लिट्टी चोखा बेचते थे भोजपुरी स्टार खेसारी लाल यादव, जानिए उनका लाइफस्टाइल!

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 15, 2019, 1:19 PM IST
  • Share this:
Khesari Lal Yadav Lifestyle: भोजपुरी सिनेमा में स्टार 'खेसारी लाल यादव' (Khesari Lal Yadav) का वही जलवा है जो साउथ की फिल्मों में 'रजनीकांत' का है. खेसारी लाल जो कुछ भी करते हैं उनके प्रशंसक उसे हाथों-हाथ लेते हैं. फिल्म एक्टर खेसारी लाल यादव को बॉडी बिल्डिंग का भी काफी शौक है. इसके लिए वो अपना अच्छा ख़ासा समय जिम में बिताते हैं. ताकि अपनी बॉडी को मेन्टेन रख सकें. उन्हें गाने और Bike का भी काफी शौक है. लेकिन क्या आप जानते हैं स्टार बनने से पहले आपके पसंदीदा स्टार खेसारी लाल यादव ने काफी संघर्ष किया है. इसके बाद आज वो इस मुकाम पर पहुंचे हैं. आइए जानते हैं उनका लाइफ स्टाइल और कैसा रहा है उनका बीता जीवन.



खेसारी लाल यादव' (Khesari Lal Yadav) मूल रूप से बिहार के छपरा से हैं. भोजपुरी सिनेमा में एक्टिंग करने से पहले वो गाने गाते थे. हालांकि उनके कई गाने नहीं पसंद किए गए. लेकिन, 'भौजी केकरा से लड़ब पिया अरब गईले ना' इस गाने ने उन्हें रातों रात स्टार बना दिया.







खेसारी लाल यादव' (Khesari Lal Yadav) ने दैनिक भास्कर को एक साक्षात्कार में जानकारी दी कि परिवार का पेट पालने के लिए वो दिल्ली की एक मिल में धागा काटने का काम करते थे. लेकिन इसी दौरान घरवालों ने उनकी शादी करा दी. जिसके बाद खर्चा और बढ़ गया तो उन्होंने दिल्ली के ओखला के संजय कॉलोनी में लिट्‌टी बेचते का काम शुरू किया. ये काम ठीक-ठाक चल रहा था. पत्नी भी उनका हाथ बंटाती थी. लेकिन तभी उनकी नौकरी BSF में लग गयी. लेकिन उनका मन नौकरी में नहीं लग रहा था क्योंकि उनके मन में तो फिल्म स्टार बनने का ख्वाब था.



थोड़े पैसे बचाकर खेसारी लाल जॉब छोड़कर दिल्ली आ गए. उन्होंने अपने गाने का पहला एल्बम लॉन्च किया लेकिन उन्हें सफलता मिली 'माल भेटाई मेला' से. खेसारी लाल यादव की पहली फिल्म 'साजन चले ससुराल' थी जिसे लिए उन्हें केवल 11 हजार रुपए फीस मिली थी. लेकिन ये फिल्म हिट साबित हुई और उन्हें फिल्मों के ऑफर मिलने लगे.



बचपन के दिनों को याद करते हुए खेसारी लाल यादव ने बताया कि बचपन में वो रोज गांव में भैंस चराने जाया करते थे. लेकिन बाद में सबकुछ छोड़कर पिताजी दिल्ली आकर चने बेचने लगे. वो भी पिताजी के साथ ही आये थे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनोरंजन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 2, 2019, 3:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading