भोजपुरी के फेमस रैपर एमी कांग ने रैप करते हुए बताया- 'बिहार में ई बा..?', देखें VIDEO

एमी कांग एमी का जन्म पंजाब में हुआ है. वह पंजाब में ही पले बढ़े हैं.
एमी कांग एमी का जन्म पंजाब में हुआ है. वह पंजाब में ही पले बढ़े हैं.

इन दिनों भोजपुरी फिल्म जगत को एक अच्छे मुकाम तक ले जाने की कोशिश करते हुए मशहूर रैपर एमी कांग (Ammy Kang) के भोजपुरी रैप सोशल मीडिया पर काफी पॉपुलर हो रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 6:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भोजपुरी (Bhojpuri) बोलने और सुनने वालों की संख्या हमारे देश में ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी बहुत ज्यादा है, इसलिए तो भोजपुरी एक्टर पवन सिंह, खेसारीलाल यादव और दिनेशलाल यादव 'निरहुआ' के गाने रिलीज होते ही वर्ल्डवाइड छा जाते हैं. इससे साफ पता चलता है कि भोजपुरी का क्षेत्र हम जितना सोचते हैं, उससे भी कई ज्यादा बड़ा है. इन दिनों भोजपुरी फिल्म जगत को एक अच्छे मुकाम तक ले जाने की कोशिश करते हुए मशहूर रैपर एमी कांग (Ammy Kang) के भोजपुरी रैप सोशल मीडिया पर काफी पॉपुलर हो रहे हैं.

पंजाब के रहने वाले हैं एमी
News18 Hindi से खास बातचीत करते हुए एमी ने कहा कि वह भोजपुरी को एक ऐसे लेवल तक ले जाना चाहते हैं, जिससे वह सिर्फ रीजनल बनकर न रह जाए, बल्कि उसकी एक अलग पहचान बन जाए. बता दें, एमी का जन्म पंजाब में हुआ है. वह पंजाब में ही पले बढ़े हैं, साथ उनकी भाषा भी पंजाबी है, लेकिन एक भोजपुरी साथी सिंगर की मदद से वह भोजपुरी बोलना सीखे और अब भोजपुरी रैपर की रूप में छाते चले जा रहे हैं. उनका कहना है कि जिस तरह से पिछले 10 सालों से पंजाबी फिल्म इंडस्ट्री आगे बढ़ा है, वह उसी तरह भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री को भी आगे ले जाना चाहते हैं. एमी को भोजपुरी भाषा से बहुत अधिक प्रेम हो गया है, उनका मानना है कि भोजपुरी बहुत मीठी बोली है.

एमी ने बताया 'बिहार में ई बा'
इन दिनों बिहार में चुनाव का माहौल है और ऐसे में एक गाना के माध्यम से लोग बिहार की बखान भी करते नजर आ रहे हैं, तो कई इसकी समस्याओं को भी इस गाने से बताने की कोशिश में लगा है. कोई 'बिहार में का बा..' गा रहा है, तो कोई 'बिहार में ई बा...' गाता नजर आ रहा है. वहीं, एमी ने अपने 'बिहार में ई बा...' को रैप के जरिए लोगों के सामने रखा.. आप भी देखिए ये वीडियो-





एमी का कहना है कि जब वह पहली बार बिहार की राजधानी पटना गए, तो उन्हें लगा ही नहीं कि वह पटना में हैं, क्योंकि दिल्ली जैसा ही क्राउड उन्हें पटना की सड़कों पर दिखी, वही मॉल और तमाम तरह की शो रूम... तो उनका कहना ये है कि जब पटना ऐसा हो सकता है तो फिर बिहार के दूसरे शहर को ऐसा क्यों नहीं बनाया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज