गोलू गोल्ड का भोजपुरी गाना 'जईहs जनी बंगाल पिया' मचा रहा है धमाल, खेसारी लाल के 'बंगलिनिया' से नहीं कम!

भोजपुरी में बंगालन महिलाओं को लेकर कई ताबड़तोड़ गाने (Bhojpuri Song) रिलीज हो रहे हैं, जो यूट्यूब (Youtube) पर धमाल मचा रहे हैं. खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) और पाखी हेगड़े (Pakhi Hegde) अभिनीत 'बंगलिनिया' (Bangaliniya) के बाद भोजपुरी सिंगर (Bhojpuri Singer) गोलू गोल्ड (Golu Gold) का भी 'जईहs जनी बंगाल पिया' (Jaiha Jani Bangal Piya) रिलीज हो चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 11:06 AM IST
  • Share this:
Golu​ Gold का ये गाना तोड़ डाला सबका रिकॉर्ड | Video​ - जईहs जनी बंगाल पिया | Bhojpuri New Songs 2021 | पश्चिम बंगाल में इन दिनों चुनावी सरगर्मियां तेज हैं, तो दूसरी ओर नवरात्रि का भी माहौल है. लेकिन इस बीच भोजपुरी में भी बंगालन महिलाओं से जुड़े गाने ताबड़तोड़ रिलीज हो रहे हैं. खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) और पाखी हेगड़े (Pakhi Hegde) का 'बंगलिनिया' (Bangaliniya) सॉन्ग जहां धमाल मचा रहा है, जिसमें अंतरा सिंह प्रियंका (Antra Singh Priyanka) की भी आवाज है. वहीं अंकुश राजा (Ankush Raja) का 'फंसाली बंगलिनिया' (Fansali Bangaliniya) भी तेजी से वायरल हो रहा है. ऐसा ही बंगाली महिलाओं से जुड़ा एक गाना 'जईहs जनी बंगाल पिया' (Jaiha Jani Bangal Piya) रिलीज हुआ है, जिसे गोलू गोल्ड (Golu Gold) ने गाया है.

गोलू गोल्ड के इस गाने को वेव म्यूजिक भोजपुरी (Wave Music Bhojpuri) ने अपने यूट्यूब चैनल पर रिलीज किया है. गाने में गोलू गोल्ड के साथ अंतरा सिंह प्रियंका की आवाज है, जिसे सुनील सागर (Sunil Sagar) ने लिखा है संगीत एडीआर आनंद (Adr Anand) ने दिया है. वीडियो के डायरेक्टर सुशांत चंदन है. गाने का वीडियो बहुत ही सिम्पल अंदाज में फिल्माया गया है, जिससे यह बिल्कुल रियलिस्टिक लगता है. बोल्ड अंदाज से इतर त्रिशा कर मधु (Trisha Kar Madhu) का अंदाज भी काफी प्रभावशाली है. कोरस में डांस करने वाले मॉडल्स भी अच्छे लग रहे हैं.

Youtube Video


इस गाने को अब तक 5 लाख से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं. वहीं 8 हजार से ज्यादा लोगों ने यूट्यूब पर इस गाने को लाइक किया है. बात कमेंट की करें तो गोलू गोल्ड के फैन्स को यह गाना बढ़िया लग रहा है, जिसका धुन पारंपरिक अंदाज वाला है. बता दें कि पहले के जमाने में कमाने के लिए लोग पूरब दिशा यानी कोलकाता का रुख करते थे. उस दौरान बंगालन महिलाओं के बारे में कहा जाता था कि वह अपने सौन्दर्य से भोले-भाले लोगों को फंसा लेती थीं. भोजपुरी के शेक्सपियर कहे जाने वाले भिखारी ठाकुर (Bhikhari Thakur) के नाटक 'बिदेसिया' (Bidesia) में भी इस मुद्दे को दिखाया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज