सड़क पर लिट्टी चोखा बेचने वाला रातोंरात बन गया YouTube का सुपरस्टार!

खेसारी के गानों के वीडियो देखकर आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि खेसारी कितनी बड़ी सेंसेशन है. उनके गानों को अपलोड होने के कुछ घंटो के अंदर ही लाखों व्यूज़ मिल जाते हैं और यही साबित करता है कि एक बड़ा फैन बेस है जो इस डिजिटल सुपरस्टार की पूजा कर रहा है

Sushant Mohan | News18Hindi
Updated: November 23, 2018, 9:09 PM IST
Sushant Mohan | News18Hindi
Updated: November 23, 2018, 9:09 PM IST
भोजपुरी सिनेमा को कभी बोल्ड फिल्मों या द्विअर्थी संवादो वाले गानों के लिए जाना जाता था. लेकिन आज भोजपुरी के पटल पर एक सुपरस्टार का उदय हुआ है जिसका नाम है खेसारी लाल यादव. अगर आप भोजपुरी सिनेमा से थोड़े भी परिचित हैं तो खेसारी का नाम आपके लिए कोई अनजाना नहीं होगा. लेकिन अगर आप इस नाम से अभी भी टकराए नहीं है तो भी देर नहीं हुई है, हम आपको मिलवाते हैं, भोजपुरी सिनेमा के वरुण धवन खेसारी लाल यादव से. खेसारी लाल यादव वो नाम है जो Jio की डाटा क्रांति की सफलता और डिजिटल माध्यमों की बढ़ती पहुंच का सबसे अच्छा उदाहरण है.

खेसारी को जानना आपके लिए इसलिए भी ज़रुरी है क्योंकि आज भारत में मौजूद गायकों में खेसारी का चैनल YouTube पर मौजूद अन्य गायकों के मुकाबले में दूसरे नंबर पर है.

खेसारी लाल यादव को 6.67 लाख लोग सब्सक्राइब करते हैं और इसके अलावा खेसारी के गानों से भरा ‘वेव म्यूज़िक’ सब्सक्राइबर्स के मामले में भारत का छठे नंबर का चैनल है, जिसे 1 करोड़ से ज्यादा लोग देखते हैं और हर मिनट 3 सब्सक्राइबर्स के रेट से इनके फॉलोवर्स बढ़ रहे हैं.

(फोटो : न्यूज़ 18 क्रिएटिव)


इस बात से आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि खेसारी कितनी बड़ी सेंसेशन है. उनके गानों को अपलोड होने के कुछ घंटो के अंदर ही लाखों व्यूज़ मिल जाते हैं और यही साबित करता है कि एक बड़ा फैन बेस है जो इस डिजिटल सुपरस्टार की पूजा कर रहा है और खेसारी की कहानी किसी के लिए भी प्रेरणा का सबब बन सकती है.

कौन हैं खेसारी ?
बिहार से दिल्ली चले आए शत्रुघ्न कुमार यादव का परिवार दिल्ली जैसे महानगर में छोटा मोटा काम कर अपना पेट पाल रहा था. खेसारी का असली नाम शत्रुघ्न ही था और पहले पिता के साथ दूध बेचने का काम करते थे और भैंसे चराते थे. न्यूज़ 18 से हुई खास बातचीत में खेसारी बताते हैं कि उन्होंने शुरुआती दिन काफी मुश्किलों में काटे, “मैं भैंसे चराता था और दूध बेचता था. अपना खर्चा निकालने के लिए दूध में पानी भी मिलाता था फिर एक दिन मुझे नौकरी करने के लिए कहा गया. घर में आय मुश्किल हो रही थी तो पिताजी ने BSF में लगवाने के लिए इंतज़ाम किया. वहां मेरा मन नहीं लगा और मैं भाग आया.”
Loading...

खेसारी बताते हैं कि नौकरी छोड़ कर भाग आने से नाराज़ उनके पिता ने उनकी शादी करवा दी. पत्नी की जिम्मेदारी सिर पर आ जाने से खेसारी को मजबूरन लिट्टी चोखा बेचने और धागा कटिंग की फैक्ट्री में काम करना पड़ा. यहां फैक्ट्री में काम के दौरान खेसारी के एक साथी ने उन्हें गायिकी की सलाह दी और खेसारी ने इस सलाह को गंभीरता से लिया.


मिला पहला हिट
खेसारी ने अपना पहला एलबम 22 हज़ार रुपए लगा कर रिकॉर्ड किया जो ज्यादा चला नहीं. खेसारी ने इससे हिम्मत नहीं हारी और एक बार फिर से पैसा जोड़कर अपना एक कैसेट निकाला जिसका वीडियो भी उन्होंने शूट किया. इस भोजपुरी गाने में खेसारी एक औरत बन कर नाचे.

खेसारी कहते हैं कि अगर ये वीडियो हिट नहीं होता तो शायद वो फिर कोशिश नहीं कर पाते. लेकिन इस वीडियो को यूपी और बिहार के कुछ क्षेत्रों में सुना गया और उन्हें हिम्मत मिली. इसके बाद खेसारी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और आज खेसारी के एक वीडियो से उन्हें लाख रुपए सिर्फ यूट्यूब से मिल जाते हैं.


Youtube सेंसेशन, Jio का कमाल
भारत में यूट्यूब का बाज़ार और इसका ऑडियंस तेज़ी से बढ़ा है. Jio की क्रांति आने के बाद सिर्फ शहरी लोगों तक सीमित डिजिटल माध्यमों को पूर्वांचल का एक बड़ा वर्ग मिला और इस नए दर्शक को अपने नए स्टार चाहिए थे. ज़ाहिर है, भोजपुरी के इन स्टार्स का ऑडियंस अब Jio के फ्री डाटा के साथ YouTube पर था और वो अपना आइकॉन ढूंढ रहे थे. भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार मनोज तिवारी राजनीति में कूद चुके थे और रवि किशन बॉलीवुड में हाथ पैर मार रहे थे. ऐसे में भोजपुरी को उनके तीन ‘खान’ मिले जिन्हे आप निरहुआ, पवन सिंह और खेसारी लाल के नाम से जानते हैं.

पवन सिंह का नाम लेकर मंदिर में नाचीं अक्षरा सिंह, 4 करोड़ लोगों ने देखा ये VIDEO

जहां निरहुआ को आप रोमांटिक हीरो मान सकते हैं वहीं पवन सिंह एक्शन के किंग हैं लेकिन इन दोनों के बीच की जगह ले गए खेसारी. अपने गाने खुद गाने वाले खेसारी ने छठ गीतों से लेकर रोमांस के गानों तक हाथ आज़माया और हर बार लोगों ने उन्हें स्वीकार किया. इस बात को खेसारी खुद मानते हैं कि वो कई बार YouTube पर अपने व्यूज़ देखकर हैरान हो जाते हैं.


भोजपुरी सिनेमा की हर फिल्म अब YouTube पर रिलीज़ होती है और साल 2011 में सुपरहिट फिल्म ‘साजन चले ससुराल’ को 63 लाख बार देखा गया है. 5 लाख की बजट की फिल्मों से अपना करियर शुरु करने वाले खेसारी अब तक 30 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं और उनकी आने वाली फिल्म ‘नागदेव’ भारी बजट के साथ बन रही है. एक साल में 5 फिल्में कर रहे खेसारी की व्यस्तता ही इस बात का सबूत है कि वो कितने सफल हैं और अभी वो अपने करियर की शुरुआत पर ही हैं.

YouTube पर हिट हुआ खेसारी लाल और काजल राघवानी का ये डांस! 9 करोड़ लोगों ने देखा VIDEO

खेसारी कहते हैं, “हम पहले मनोज तिवारी और रवि किशन की फिल्मों को देखते थे और सोचते थे कि वो कितने बड़े स्टार हैं. हम जैसे रीजनल सितारों को ज्यादा से ज्यादा मंच पर परफॉर्म करने को मिलेगा और हमारा एक दायरा सीमित रहेगा लेकिन YouTube के माध्यम से जो लोगों का प्यार मिला उसने मुझे हैरान भी किया है और सुकून भी दिया है.”

बदलती ऑडियंस
दिल्ली में डीएलएफ मॉल के पास रेहड़ी पर लिट्टी चोखा बेचने वाला खेसारी लाल आज करोड़पति सितारा है और इस बात को वो आज तक एक करिश्मा मानते हैं,“मां सरस्वती की कृपा और लोगों का प्यार है कि आज वो मुझे यहां तक ले आए लेकिन मैं मानता हूं कि भोजपुरी भाषा का भी इसमें बड़ा हाथ है. इस भाषा के चाहने वाले पूरी दुनिया में हैं और वो अपनी भाषा को ढूंढ रहे थे. हम बस माध्यम है और भाषा को ही हम आगे ले जा रहे हैं.”

खेसारी की सफलता इस बात का सबूत है कि भारत के साथ दुनिया भर में रीजनल कंटेंट की डिमांड बढ़ी है और अधिक से अधिक लोग अपनी भाषा के प्रति आकर्षित हो रहे हैं. खेसारी भोजपुरी का एक उदाहरण हैं और अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में भी आपको ऐसे सुपरस्टार मिलते हैं जो पहले नहीं मिलते थे. हरियाणा का अमित भडाना, पंजाबी फ्लेवर वाली पम्मी आंटी या कोलकाता से आईं विद्या वोक्स इस नए ट्रेंड को स्थापित करते हैं.



आज खेसारी इतने लोकप्रिय हैं कि वो राजनीति में आने की तैयारी कर रहे हैं. सांसद और दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी की राह पर चलते हुए वो भी अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत कर सकते हैं. हाल ही में एक कार्यक्रम में उनपर हमला हुआ और राजनीति से प्रेरित इस हमले के बाद से ऐसा माना जा रहा है कि वो भी अब इस चुनावी मैदान में उतरेंगे. इस मामले पर वो हां भी नहीं करते तो न भी नहीं कहते हैं. फिलहाल वो पानी की गहराई नाप रहे हैं और उनके लाइव कार्यक्रमों में आने वाली हज़ारों की भीड़ और YouTube पर आने वाले लाखों के व्यूज़ को वो वोट में बदल पाएंगे या नहीं, इस फिराक में है.

लेकिन राजनीति हो न हो, वो गाना और अभिनय अभी नहीं छोड़ेंगे और फिर...फिर वो गाने लगते हैं – नून रोटी खाएंगे, ज़िंदगी संग ही बिताएंगे, ठीक है!

Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->