होम /न्यूज /मनोरंजन /

37 Years of Abodh: ‘अबोध’ माधुरी दीक्षित ने इस फिल्म से बता दिया था आने वाला वक्त उनका है

37 Years of Abodh: ‘अबोध’ माधुरी दीक्षित ने इस फिल्म से बता दिया था आने वाला वक्त उनका है

'अबोध' फिल्म से माधुरी दीक्षित ने डेब्यू किया था. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

'अबोध' फिल्म से माधुरी दीक्षित ने डेब्यू किया था. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

राजश्री प्रोडक्शन (Rajshri Production) की फिल्म ‘अबोध’ (Abodh) में काम करना माधुरी दीक्षित (Madhuri Dixit) के लिए महज इत्तेफाक था. गर्मी की छुट्टियां बिताने के लिए फिल्म साइन कर लिया था.

    मुंबई: फिल्म इंडस्ट्री की धक-धक गर्ल माधुरी दीक्षित (Madhuri Dixit) की पहली फिल्म ‘अबोध’ (Abodh) थी. इस फिल्म में माधुरी को देख किसी को अंदाजा भी नहीं होगा कि मासूम सी दिखने वाली लड़की अपने ग्लैमरस अंदाज से एक दिन फिल्म इंडस्ट्री पर राज करेगी. 10 अगस्त 1984 में रिलीज हुई  फिल्म ‘अबोध’ के 37 साल हो गए हैं. इन 37 बरसों में माधुरी के करियर का ग्राफ ऊंचाइयों तक पहुंच गया. सफल फिल्मी करियर और सफल पर्सनल लाइफ बिताने वाली माधुरी की तरह फेमस होने का सपना हर नई एक्ट्रेस देखती है. कहते हैं कि गर्मी की छुट्टियों में 17 साल की टीनएजर माधुरी ने समय बिताने के लिए फिल्म ‘अबोध’ में काम करने का मन बनाया था.

    फैमिली फिल्म बनाने के लिए फेमस राजश्री प्रोडक्शन को अपनी फिल्म की कहानी के मुताबिक एक ऐसी नायिका की तलाश थी जो वाकई किरदार के अबोधपन के साथ न्याय कर पाए. मेकर्स ने माधुरी को देखा और फिल्म में ब्रेक दे दिया. माधुरी ने भी जब इस फिल्म को साइन किया तो फिल्मी करियर को लेकर बहुत सीरियस नहीं थीं. एक टीवी शो में शिरकत करने पहुंची माधुरी दीक्षित ने बताया था कि ‘उस वक्त पढ़ाई कर रही थी, गर्मी की छुट्टी में खाली समय होता था, सोचा कि फिल्म कर ली जाए’.

    madhuri dixit, abodh

    (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

    हालांकि माधुरी को तब ये एहसास नहीं रहा होगा कि इस फिल्म के बाद उनके पास समय बिताने का बिलकुल समय नहीं मिलेगा. ‘अबोध’ के बाद तो एक के बाद एक फिल्मों के ऑफर आने लगे. माधुरी पढ़ाई के साथ-साथ फिल्में करती रहीं. अबोध फिल्म में कई अलग-अलग शेड्स थे. नटखट शरारती से लेकर दुखी नायिका तक, यानी बाली उमर में की गई पहली ही फिल्म में माधुरी ने हर रंग दिखाए. इस फिल्म के हीरो बंगाली फिल्मों के एक्टर तापस पॉल थे. तापस पर माधुरी की अदाकारी भारी पड़ गई और हिंदी फिल्मों में इसके बाद शायद ही कोई काम मिला हो लेकिन माधुरी की अदाकारी कई फिल्मकारों ने नोटिस किया जिसमें सुभाष घई भी थे.

    (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

    कॉटन की साड़ी में माधुरी दीक्षित का अबोध रुप वाला सफर आगे धक-धक तक कयामत ढाएगा इसका अंदाजा भी किसी को नहीं था. घूंघट में सिमटी लजाई सकुचाई लड़की का रोल प्ले कर माधुरी ने आहट दे दी थी कि आने वाला वक्त उनका ही है.

    ये भी पढ़िए-‘नगीना’ के लिए श्रीदेवी से पहले जया प्रदा को मिला था ऑफर, फिल्म बन गई दुश्मनी की वजह!

    राजश्री प्रोडक्शन के बैनर तले बनी फिल्म ‘अबोध’ में माधुरी के अबोध रुप को डायरेक्टर हिरेन नाग ने बखूबी दिखाया. यह फिल्म एक ऐसी लड़की की कहानी है जिसकी शादी तो हो गई लेकिन उसे रिश्ते और शादीशुदा जिंदगी के बारे में किसी तरह की जानकारी नहीं होती है. उम्र का असर और अल्हड़पन से भरी माधुरी इस फिल्म के लिए परफेक्ट थीं. रविंद्र जैन के संगीत से सजी ये फिल्म हिट नहीं रही लेकिन इस फिल्म ने माधुरी को सुपरस्टार माधुरी दीक्षित बना दिया.

    Tags: Madhuri dixit

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर