सुशांत केस: मनोज तिवारी ने उद्धव ठाकरे से मांगी मदद, कहा- 62 दिन बाद भी FIR दर्ज नहीं

सुशांत केस: मनोज तिवारी ने उद्धव ठाकरे से मांगी मदद, कहा- 62 दिन बाद भी FIR दर्ज नहीं
मनोज तिवारी

भोजपुरी स्टार और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने महाराष्ट्र के उद्धव सरकार से सुशांत केस की जांच में सहयोग करने का निवेदन किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 16, 2020, 10:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत को 2 महीने से ज्यादा वक्‍त हो चुका है. उन्हें इंसाफ दिलाने की फैंस लगातार मांग कर रहे हैं. उनकी मौत को लेकर भोजपुरी स्टार और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) समेत कई एक्टर्स सीबीआई (CBI) जांच की मांग कर चुके हैं. अब मनोज तिवारी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) से इस मामले में सहयोग करने का निवेदन किया है.

बीजेपी सांसद ने ट्वीट कर कहा, ''निजी जिंदगियों का पोस्टमॉर्टम इसल‍िए हो रहा है क्योंकि सुशांत सिंह राजपूत की हत्या के 62 दिन बाद भी महाराष्ट्र सरकार FIR दर्ज नहीं कर पाई है. ये फिल्म जगत के लिए भी बहुत दुर्भायपूर्ण है. सब से गुजार‍िश है कि आगे आएं और महाराष्ट्र के मुख्यमत्री को निवेदन कर जांच में सहयोग करने का अनुरोध करें.''


बता दें कि सुशांत मामले में सीबीआई को केस ट्रांसफर करने का मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में लंबित है. हाल ही में सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने #GlobalPrayers4SSR के जरिए सुशांत के फैंस से सोशल मीडिया पर हाथ जोड़कर तस्वीर शेयर करने और उनके केस में सच सामना लाने के लिए प्रार्थना करने की अपील की थी. इस कैंपेन से सोशल मीडिया पर करोड़ो फैंस जुड़े थे. इसके अलावा वो सुशांत केस में सीबीआई जांच का सपोर्ट करती दिखी हैं, उन्हें इस कैंपेन ने कई सेलेब्रिटीज का भी सपोर्ट मिला है.





सुशांत का शव 14 जून को उनके फ्लैट में मिला था
बता दें कि एक्टर सुशांत सिंह राजपूत का शव बीते 14 जून को मुंबई के बांद्रा इलाके स्थित उनके फ्लैट में मिला था. पिछले महीने पिता केके सिंह ने पटना के राजीवनगर थाने में एक्ट्रेस और सुशांत की कथित गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती के खिलाफ केस दर्ज करवाया था. जिसके बाद पटना पुलिस की एक टीम मामले की जांच के लिए मुंबई गई थी. हाल ही में केंद्र सरकार ने बिहार सरकार के अनुरोध पर यह मामला सीबीआई को सौंप दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज