Home /News /entertainment /

18 साल में ख़ास पहचान क्यों नहीं बना पाए अभिषेक बच्चन?

18 साल में ख़ास पहचान क्यों नहीं बना पाए अभिषेक बच्चन?

फिल्म के एक दृश्य में अभिषेक बच्चन और तापसी पन्नू

फिल्म के एक दृश्य में अभिषेक बच्चन और तापसी पन्नू

अभिषेक बच्चन की अगली फिल्म 'मनमर्जियां' 7 सितंबर को रिलीज हो रही है. काफी समय बाद वह बड़े परदे पर एक बेहतर भूमिका के साथ लौट रहे हैं.

    किसी भी इंडस्ट्री में काम करने के लिए 18 साल का समय काफी होता है. काफी होता है...मतलब काफी ज्यादा होता है. फिल्म इंडस्ट्री की बात हो, तो 18 साल में 50-55 फिल्में करना भी कुछ बुरा रिकॉर्ड नहीं है. लेकिन इन दोनों ही फैक्ट्स से राब्ता रखने वाले अभिषेक बच्चन के करियर का ग्राफ इस सबके बावजूद भी कुछ अच्छा नहीं कहा जा सकता है. उस पर भी महानायक अमिताभ बच्चन और मशहूर अभिनेत्री जया बच्चन का बेटा होने के नाते लोगों में अभिषेक से कुछ अच्छे की उम्मीद और भी बढ़ जाती है. मगर फिर भी कुछ अच्छा न हो पाना....किस तरफ इशारा करता है. आखिर क्या गड़बड़ हो रही है अभिषेक बच्चन के साथ?

    कैसी फिल्में चुनते हैं अभिषेक
    जे.पी.दत्त की रिफ्यूजी से जब अभिषेक ने शुरुआत की थी, तब वह एक ऐसे एक्टर के तौर पर नजर आए थे, जो बड़ा होकर पापा का नाम रोशन कर सकता था. मगर ऐसा हो न सका. इसके बाद उन्होंने शरारत, ढाई अक्षर प्रेम के, मैं प्रेम की दीवानी हूं जैसी फिल्में की और स्क्रीन पर आने के बाद भी लोगों के दिल तक नहीं पहुंच सके. हालांकि बंटी और बबली, गुरु, युवा जैसी फिल्मों ने उनकी एक्टिंग के प्रति लोगों को संवेदनशील बनाया और फिर धूम से उनके करियर को थोड़ा-सा बूम भी मिला.

    मेन लीड से प्यार क्यों नहीं करते अभिषेक
    कुछ चुनिंदा फिल्मों की बात करें, तो अभिषेक बच्चन ने सोलो रोल में भी अच्छा परफॉर्म किया. मगर उन्होंने अपनी मेन लीड से उस तरह प्यार नहीं किया, जैसे शाहरुख, सलमान और आमिर करते आए हैं. उन्होंने मल्टीस्टारर फिल्में चुनीं और उस स्टारकास्ट में कहीं खो गए. फिर चाहे धूम-3 की बात हो, प्लेयर्स की या हैप्पी न्यू ईयर की.

    यहां देखें फिल्म का ट्रेलर


    एक्सपेरिमेंट करने से बचते रहे अभिषेक
    जिस वक्त अभिषेक का करियर एक नया मोड़ ले सकता था, उस वक्त भी अभिषेक कहीं नजर नहीं आए. बीते काफी समय से हिंदी सिनेमा में रियल्स्टिक फिल्मों का दौर चल रहा है. छोटी भूमिकाओं के साथ भी अभिनेता बड़े-बड़े एक्सपेरीमेंट कर रहे हैं. दर्शक ऐसे प्रयोगों को पसंद भी कर रहे हैं, लेकिन अभिषेक ऐसा कोई रिस्क लेते नहीं दिखे. उन्होंने कमर्शियल फिल्मों के जरिये बॉक्स ऑफिस पर हिट होने का ख्वाब संजोया और ख्वाब की हकीकत ख्वाब ही के पिंजरे में कैद होकर रह गई.

    उम्मीदों का बोझ और शुद्ध देसी उम्मीदें
    अमिताभ और जया का बेटा होने के नाते बेशक अभिषेक पर दर्शकों और फिल्म इंडस्ट्री के लोग कुछ ज्यादा ही उम्मीदें लगाए बैठे थे. मगर जो लोग गुरु, युवा और सरकार जैसी फिल्में देखकर शुद्ध रूप से सिर्फ अभिषेक की अदायगी के फैन बने, उन्हें अब भी उनसे काफी उम्मीदें हैं और हाल में रिलीज होने जा रही उनकी फिल्म मनमर्जियां इन उम्मीदों का एक बड़ा सहारा बन सकती है. फिल्म के ट्रेलर में अभिषेक काफी प्रोमिसिंग लग रहे हैं. नये लुक में है, काफी समय बाद लौटे हैं, तो हो सकता है ये वापसी लंबे समय के लिए हो.

    ये भी पढ़ें
    रिलीज़ हुआ Manmarziyaan का ट्रेलर, पहली बार इस लुक में नज़र आएंगे अभिषेक बच्चन

    Tags: Abhishek bachchan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर