अपना शहर चुनें

States

प्रशंसकों से बोले अक्षय कुमार- राम मंदिर निर्माण में अपनी क्षमता के अनुसार करें योगदान

अक्षय कुमार.
अक्षय कुमार.

अक्षय कुमार (Akshay Kumar) ने अपनी बेटी नितारा को एक गिलहरी की कहानी सुनाई, जो राम सेतु के निर्माण में छोटा योगदान देना चाहती थी ताकि भगवान राम लंका पहुंच सकें. यह कहानी हर किसी को इस बात के लिए प्रेरित करता है कि राम मंदिर निर्माण में जितना संभव हो सकें, उतना योगदान करें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2021, 8:55 PM IST
  • Share this:
मुंबई. एक्टर अक्षय कुमार (Akshay Kumar) ने एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें उन्होंने अपने प्रशंसकों और अनुयायियों से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण (Construction of Ram Temple) में योगदान देने को कहा है. उन्होंने अपने घर पर वीडियो शूट किया है, और अपने प्रशंसकों को दान करने को प्रेरित करने के लिए हिंदू महाकाव्य रामायण से एक कहानी सुनाई.

अक्षय कुमार ने इस बात से अपना वीडियो शुरू किया कि, उन्होंने अपनी बेटी नितारा को बीती रात एक गिलहरी की कहानी बताई थी, जो राम सेतु के निर्माण में अपना छोटा योगदान देना चाहती थी ताकि भगवान राम लंका पहुंच सकें. अक्षय ने कहा कि गिलहरी की कहानी हर किसी को इस बात के लिए प्रेरित करता है कि राम मंदिर निर्माण में जितना संभव हो सकें, उतना योगदान करें.

अक्षय ने अपने वीडियो में कहा है कि, ‘अयोध्या में भगवान श्री राम का एक बड़ा मंदिर बनाया जा रहा है. हम में से कुछ लोग वानर बनें, कुछ गिलहरी बनें और अपनी-अपनी क्षमता के अनुसार ऐतिहासिक भव्य राम मंदिर बनाने में साझीदार हों. मैं खुद करता हूं शुरुआत. मुझे विश्वास है कि आप भी मेरे साथ जुड़ेंगे, ताकी आने वाली पीढ़ियों को भव्य राम मंदिर से मर्यादा पुरुषोत्तम राम के जीवन और संदेशों पर चलने की प्रेरणा मिल सके. जय सियाराम’





वीडियो को ट्विटर पर शेयर करते हुए अक्षय कुमार ने लिखा है, ‘यह जानकर खुशी हो रही है कि अयोध्या में श्री राम के भव्य मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है ... अब योगदान देने की हमारी बारी है. मैंने शुरुआत कर दी है, उम्मीद है कि आप भी इसमें शामिल होंगे. जय सियाराम.’

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी मंदिर के निर्माण के लिए शुक्रवार को पांच लाख रुपए का योगदान दिया. 525,000 गांवों में निधि संग्रह अभियान चलाया जाएगा और एकत्रित धन को बैंकों में 48 घंटों के भीतर जमा करना होगा. संग्रह अभियान 15 जनवरी से शुरू किया गया है और यह 27 फरवरी तक चलाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज