एक्टर अमित साध ने किया खुलासा बोले- '16 साल की उम्र में आते थे सुसाइड के ख्याल'

एक्टर अमित साध ने किया खुलासा बोले- '16 साल की उम्र में आते थे सुसाइड के ख्याल'
अमित साध हाल ही में अभिषेक बच्चन के साथ ब्रीदः इंटू द शैडो में नजर आए हैं. (photo credit: instagram/@theamitsadh)

एक्टर अमित साध (Amit Sadh) ने हाल ही में बताया कैसे उन्हें सुसाइड जैसे विचार आया करते थे और फिर कैसे वह इस अंधेरे से निकल गए.

  • Share this:
मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के निधन के बाद से लोग अब अपनी परेशानी और डिप्रेशन (Depression) के बारे में खुलकर बातें कर रहे हैं. बॉलीवुड (Bollywood) और टेलीविजन (Television) के कई लोगों ने अपनी तकलीफ को साझा करने की कोशिश की और साथ ही ये बताया कि वह किस बात से डिप्रेस हैं या थे. सुशांत की तरह ही टीवी से बॉलीवुड में एंट्री करने वाले एक्टर अमित साध (Amit Sadh) ने हाल ही में खुलासा किया है कि उन्हें भी आत्महत्या के ख्याल (Suicidal Thoughts) आया करते थे, लेकिन उन्होंने खुद को संभाल लिया.

एक्टर अमित साध (Amit Sadh) ने हाल ही में इस बात का खुलासा किया. उन्होंने बताया कैसे उन्हें सुसाइड जैसे विचार आया करते थे और फिर कैसे वह इस अंधेरे से निकल गए. बॉलीवुड हंगामा को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि मुझे लगता है कि इसको करने के लिए बहुत हिम्मत चाहिए होती है. ये आपकी ताकत का ही एक नमूना है जब आप ये स्वीकारते हैं कि आप गलत थे या आप कमजोर हैं या फिर आप फेल हुए हैं. बात बस इतनी है कि आप खुशकिस्मत हैं कि आपके आस-पास ऐसे लोग और माहौल है कि जब आप उन्हें बताते हैं कि आप फेल हो रहे हैं तो वो आपका साथ देते हैं.

इस बातचीत में उन्होंने आगे कहा कि हमें अपने आस-पास ऐसा माहौल बनाने की जरूरत है, जिसमें कोई भी अपनी भावनाओं को खुलकर व्यक्त कर सके. एक्टर ने कहा कि समाज में इस समय इसी बदलाव की जरूरत है. समाज ही नहीं हमें खुद को भी बदलना होगा ताकि इस तरह की स्थिति से आसानी से निकला जा सके.



अमित साध ने कहा कि हमें किसी को जज करने की जगह उनकी मदद करनी चाहिए और उन्हें जिंदगी जीने के लिए प्रेरित करना चाहिए.
ये भी पढ़ें- R Madhavan ने बताया बोर्ड एग्जाम में कितने आए थे नंबर, रिजल्ट के बाद बच्चों को दी ये सलाह

एक कलाकार के तौर पर होने वाले दबाव के बारे में उन्होंने कहा यदि कोई मेरे अभिनय की आलोचना करे और मेरी फिल्म देखने के बाद कहे 'अमित तुमने टिकट के मेरे 300 रुपये बर्बाद कर दिए' तो मुझे दुख होगा. क्योंकि वो मेरे लिए मायने रखता है. लेकिन अगर कोई कहेगा कि 'मुझे तुम्हारी टी-शर्ट पसंद नहीं है' तो मैं कहूंगा कि 'कुछ और देखो.' यह मेरे लिए मायने नहीं रखता.

आपको बता देें कि हाल ही में अमित साध ने कहा था कि 'मैंने फिल्मों में जाने के लिए टेलीविजन नहीं छोड़ा था. टेलीविजन ने मुझे बैन कर दिया गया था. वे एक-दूसरे को कॉल करके कहते थे कि इसको काम मत दो तो फिर मैंने कहा, अच्छा नहीं दे रहे हो? तो मैं फिल्मों में जाऊंगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज