Home /News /entertainment /

46 Years Of Kabhi Kabhie: इसी फिल्म ने बदली थी अमिताभ बच्चन की इमेज, एक्शन हीरो से बन गए थे रोमांटिक एक्टर

46 Years Of Kabhi Kabhie: इसी फिल्म ने बदली थी अमिताभ बच्चन की इमेज, एक्शन हीरो से बन गए थे रोमांटिक एक्टर

'कभी कभी' फिल्म 27 फरवरी 1976 में रिलीज हुई थी. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

'कभी कभी' फिल्म 27 फरवरी 1976 में रिलीज हुई थी. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

‘कभी कभी’ (Kabhi Kabhie) फिल्म को बनाने का ख्याल यश चोपड़ा (Yash Chopra) को अपने अजीज दोस्त और गीतकार साहिर लुधियानवी की कविता से आया था. साहिर के गीतों ने उन्हें इस फिल्म को बनाने की प्रेरणा दी. यश इस फिल्म के गाने उस दौर के मशहूर संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल से कंपोज करवाना चाहते थे लेकिन साहिर इसके लिए तैयार नहीं थे. उन्हें लगता था कि गीतों का जो मूड है, उससे न्याय नहीं हो पाएगा.

अधिक पढ़ें ...

यश चोपड़ा (Yash Chopra) की यादगार फिल्म ‘कभी कभी’ (Kabhi Kabhie) 27 फरवरी 1976 में रिलीज हुई थी. इस फिल्म के गाने ऐसे हैं कि जब भी सुनों, दिल को रुहानी सुकून हासिल होता है. अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) के फिल्मी करियर में मील का पत्थर साबित हुई इस फिल्म में राखी (Rakhee), शशि कपूर (Shashi Kapoor), ऋषि कपूर (Rishi Kapoor), वहीदा रहमान (Waheeda Rehman), नीतू सिंह (Neetu Singh) जैसे भारी भरकम कलाकारों की फौज थी. फिल्म की शूटिंग के दौरान, कास्टिंग को लेकर कई ऐसे दिलचस्प मोड़ आए थे, जिसके बारे में हम आपको फिल्म के 46 साल पूरे होने पर बताने जा रहे हैं.

‘कभी कभी’ ने बदली थी बिग बी इमेज

सदी के महानायक बन चुके अमिताभ बच्चन ने इंडस्ट्री को कई शानदार फिल्में दी हैं, इसी में से एक है फिल्म ‘कभी कभी’. यश चोपड़ा ने अमिताभ और शशि कपूर की जोड़ी को दूसरी बार इसी फिल्म में एक साथ कास्ट किया था. इससे पहले 1975 में फिल्म ‘दीवार’ में लिया था. ‘कभी कभी’ एक रोमांटिक ड्रामा, म्यूजिकल फिल्म थी, इस फिल्म में अमिताभ को लेकर यश ने एक तरह से बड़ा रिस्क भी लिया था. इसकी वजह भी बताते हैं. दरअसल, अमिताभ की इमेज उस समय तक एंग्री यंग मैन की थी, अब ऐसे एक्टर को कविता पाठ करते, रोमांस करते देख दर्शक कितना पसंद करते हैं, ये एक बड़ा चैलेंज था. लेकिन यश एक ऐसे फिल्मकार थे, जिसे अपने सेलेक्शन पर बहुत भरोसा हुआ करता था. इस भरोसे को अमिताभ ने कायम भी रखा.

kabhi kabhie film
यश चोपड़ा की इस फिल्म से बदली थी अमिताभ की इमेज. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

साहिर के गीतों ने रच दिया इतिहास

इस फिल्म को बनाने का ख्याल यश चोपड़ा को अपने अजीज दोस्त और गीतकार साहिर लुधियानवी की कविता से आया था. साहिर के गीतों ने उन्हें इस फिल्म को बनाने की प्रेरणा दी. यश इस फिल्म के गाने उस दौर के मशहूर संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल से कंपोज करवाना चाहते थे लेकिन साहिर इसके लिए तैयार नहीं थे. उन्हें लगता था कि गीतों का जो मूड है, उससे न्याय नहीं हो पाएगा. उन्हें लगता था कि खय्याम ही बेहतर संगीत रच पाएंगे और हुआ भी ऐसा ही. फिल्म का गीत ‘कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है’… के बोल, कंपोजीशन, गायिकी इतनी बेमिसाल है कि सुनते ही दिल को ताजगी से भर देती है.

kabhi kabhie, neetu singh, rishi kapoor
यश चोपड़ा (Yash Chopra) की यादगार फिल्म फिल्म ‘कभी कभी’ .(फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

‘कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है’

‘कभी कभी’ फिल्म को इसके गाने, इसके संगीत के लिए 46 साल बाद भी याद किया जाता है. खय्याम को सर्वश्रेष्ठ संगीत के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था जबकि साहिर लुधियानवी को ‘कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है’ के लिए सर्वश्रेष्ठ गीतकार का पुरस्कार मिला था. इसे गाने वाले मुकेश को बेस्ट प्लेबैक मेल सिंगर का अवॉर्ड मिला था. लता मंगेशकर ने भी इसे अपनी मधुर आवाज दी थी.

‘कभी कभी’ ने तोड़ दिए थे बॉक्स ऑफिस के सारे रिकॉर्ड 

ये फिल्म जब रिलीज हुई तो बॉक्स ऑफिस के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए थे. कश्मीर की खूबसूरत वादियों में फिल्माए गए दृश्यों ने सिनेमाघर में बैठे दर्शकों को ताजगी से भर दिया था. इस फिल्म की सफलता के साथ ही एंग्री यंग मैन अमिताभ की इमेज रोमांटिक हीरो की बन गई. अपनी शानदार आवाज में अमिताभ ने जब इन पंक्तियों को बोला था तो सिनेमाघर में बैठे दर्शक मंत्रमुग्ध हो गए थे.

पढ़िए साहिर लुधियानवी के गीत.(फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

इसे भी पढ़िए-Bachchhan Pandey का अंदाज UP पुलिस को आया पसंद, कहा- ‘भाई हो या गॉडफादर, भौकाल सिर्फ कानून का चलेगा

हरिवंश राय बच्चन-तेजी बच्चन भी फिल्म में थे

इस गाने के अलावा ‘मैं पल दो पल का शायर’, ‘सुर्ख जोड़े की ये जगमगाहट’, ‘मेरे घर आई एक नन्हीं परी’, ‘तेरा फूलों जैसा रंग’ जैसे गाने भी बेहद पसंद किए जाते है. इस फिल्म में अमिताभ बच्चन के पिता हरिवंशन राय बच्चन और मां तेजी बच्चन भी नजर आए थे. एक सीन में राखी के माता-पिता का रोल प्ले किया था. इस फिल्म के दौरान ऋषि कपूर और नीतू सिंह का प्रेम भी खूब परवान चढ़ा. दोनों की जोड़ी बेहद प्यारी थी.

Tags: Amitabh bachchan, Neetu Singh, Rakhi Gulzar, Rishi kapoor, Shashi Kapoor

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर