आयुष्मान खुराना नहीं थे 'Article 15' के लिए पहली पसंद, निर्देशक से छीन कर ले गए थे स्क्रिप्ट

फिल्म 'आर्टिकल 15' की तारीफ चारों ओर हो रही है. इस फिल्म के लीड अभिनेता आयुष्मान खुराना के अभिनय को भी सराहना मिल रही है लेकिन इस फिल्म के निर्देशक अनुभव सिन्हा ने बताया कि आयुष्मान उनकी पहली पसंद नहीं थे.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 11:56 AM IST
आयुष्मान खुराना नहीं थे 'Article 15' के लिए पहली पसंद, निर्देशक से छीन कर ले गए थे स्क्रिप्ट
आयुष्मान खुराना निर्देशक की पहली पसंद नहीं थे लेकिन वो इस फिल्म को करने की ज़िद पर अड़ गए
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 11:56 AM IST
फिल्म 'आर्टिकल 15' (Article 15) में अपने अभिनय के लिए लगातार सराहना पा रहे आयुष्मान खुराना के बारे में इस फिल्म के निर्देशक अनुभव सिन्हा ने एक ऐसी बात कही जिस पर यकीन करना मुश्किल लगता है. दरअसल आयुष्मान इस फिल्म के लिए अनुभव की पहली पसंद नहीं थे और इस फिल्म को करने के लिए उनको फिल्म की स्क्रिप्ट छीननी पड़ी थी.

अनुभव सिन्हा इस फिल्म की शुरुआत से पहले का किस्सा साझा करते हुए बीबीसी हिंदी को बताते हैं कि वो इस फिल्म से पहले एक अन्य फिल्म के सिलसिले में आयुष्मान खुराना से मिले. आयुष्मान को वो 'आर्टिकल 15' के लिए फिट नहीं समझते थे और ऐसे में वो इस स्क्रिप्ट को उनसे साझा नहीं करना चाहते थे.

छीनी स्क्रिप्ट

Anubhav Sinha Article 15
निर्देशक अनुभव सिन्हा से ब्राह्मण समाज खासा नाराज़ है. वो लगातार धमकियां झेल रहे हैं.


अनुभव सिन्हा ने बताया कि वो (आयुष्मान) आया था किसी और फिल्म के लिए. इसी दौरान बातों बातों में अनुभव ने आयुष्मान को 'आर्टिकल 15' की कहानी भी सुना दी और ये बिल्कुल भी प्रायोजित या सोचा हुआ नहीं था.

अनुभव के अनुसार,"वो पीछे पड़ गया और कहने लगा की ये फिल्म (Article 15) मुझे ही करनी है. फिर स्क्रिप्ट छीन कर ले गया और कहा कि ये पिक्चर आप बनाएंगे और मैं ही इस फिल्म को करूंगा."

मिली धमकियां
Loading...



इस फिल्म में ब्राह्मण समाज के चित्रण को लेकर समाज का एक वर्ग अनुभव सिन्हा से खासा नाराज़ है. उन्हें लगातार धमकियां मिल रही हैं. अनुभव ने बताया कि अखबार में खबर छपी कि किसी संगठन ने दावा किया है कि अनुभव सिन्हा की जीभ काट कर लाने पर 7 लाख रुपये मिलेंगे. इस पर प्रशासन की ओर से कोई एक्शन भी नहीं लिया गया है.

अनुभव ने कहा कि उन्होंने ये फिल्म बनाई है और इसका विरोध करना जायज हो सकता है लेकिन शारीरिक विरोध बिल्कुल गलत है.

आर्टिकल 15 उत्तर प्रदेश में समाज में जातीय भेदभाव पर आधारित एक फिल्म है जो तीन दलित लड़कियों के उत्पीड़न की गुत्थी सुलझाने में लगे एक आईपीएस ऑफिसर के इर्द गिर्द घूमती है.

ये भी पढ़ें - अपनी रिसेप्शन पार्टी में कमाल की लगी TMC सांसद और अभिनेत्री नुसरत जहां 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बॉलीवुड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 11:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...