17 साल और कई सुपरहिट फिल्में करने के बाद भी एक्टर की थी ये हालत, सुनाई आपबीती

अभिनेता बिजेंद्र काला.
अभिनेता बिजेंद्र काला.

55 वर्षीय अभिनेता बिजेंद्र काला (Bijendra Kala) कहते हैं कि जब मसाला फिल्मों में उन्हें अध-कचरी भूमिकाएं मिलती थी तो वह...

  • Share this:
नयी दिल्ली. “पान सिंह तोमर (Pan Singh Tomar)” और “जब वी मेट (Jav We Met)” जैसी फिल्मों में हमारे आम जीवन से जुड़े किरदार निभा कर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाने वाले अभिनेता बिजेंद्र काला (Bijendra Kala) का कहना है कि शुजित सरकार की फिल्म “गुलाबो-सिताबो” उनके लिए विशेष है क्योंकि इस फिल्म में उनके किरदार को अच्छी तरह गढ़ा गया है.

55 वर्षीय अभिनेता काला कहते हैं कि जब मसाला फिल्मों में उन्हें अध-कचरी भूमिकाएं मिलती थी तो वह अपने किरदार को इस तरह निभाने की कोशिश करते थे ताकि लोग उनकी भूमिका को नजरअंदाज ना कर पाएं.

काला ने पीटीआई-भाषा को बताया, “ ‘पान सिंह तोमर’ के बाद पहली बार मैं एक सी फिल्म में काम कर रहा हूं जिसमें मेरे किरदार को अच्छी तरह लिखा गया है. मुझे बहुत बार अध-कचरे किरदार दिए जाते हैं जिसे मैं खुद से निखारने की कोशिश की है.”



“पान सिंह तोमर” में मशहूर डाकू का साक्षात्कार करने को आतुर रिपोर्टर की काला की भूमिका, “जब वी मेट” में दो लोगों की ट्रेन छुट जाने पर धीमी गति से गाड़ी चलाने वाले ढीठ ड्राइवर के किरदार या फिर “आंखों देखी” में पड़ोसी के किरदार ने लोगों के जेहन पर गहरी छाप छोड़ी है.
यह भी पढ़ेंः श्वेता तिवारी के पति अभिनव ने शेयर की चैट के स्क्रीनशॉट, भड़कीं एक्ट्रेस

“गुलाबो-सिताबो” में अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना मुख्य भूमिका में हैं. इसे शुजित सरकार ने निर्देशित किया है जबकि उनके साथ अक्सर काम करने वाली जूही चतुर्वेदी ने इसकी पटकथा लिखी है. यह एक मकान मालिक और किराएदार की हवेली पर कब्जा जमाने के लिए किए गए विचित्र षडयंत्रों की अनोखी कहानी है. इसमें काला वकील और विजय राज पुरातत्व विभाग के अधिकारी का मजबूत किरदार निभा रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि बिजेंद्र काला ने अपने अभिनय की शुरुआत साल 2003 में आई फिल्म हासिल से की थी. तब से अब तक वो कई सुपरहिट फिल्मों का हिस्सा रह चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज