Home /News /entertainment /

Amjad Khan B'day Special: ‘गब्बर सिंह’ के लिए पहली पसंद नहीं थे अमजद खान, ऑफर मिलते ही घबरा गए थे

Amjad Khan B'day Special: ‘गब्बर सिंह’ के लिए पहली पसंद नहीं थे अमजद खान, ऑफर मिलते ही घबरा गए थे

अमजद खान 12 नवंबर 1940 में पैदा हुए थे.

अमजद खान 12 नवंबर 1940 में पैदा हुए थे.

Amjad Khan Birth Anniversary: 'शोले’ (Sholay) की बंपर सफलता के बाद अमजद खान (Amjad Khan) को पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा था. अमजद ने ‘चरस’, ‘परवरिश’, ‘अपना खून’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’, ‘मिस्टर नटवरलाल’, ‘सुहाग’, ‘कुर्बानी’, ‘याराना’, जैसी कई फिल्मों में अलग-अलग तरह के रोल किए. अमजद खान की खासियत ये थी कि वो कभी टाइपकास्ट नहीं हुए. अमजद ने इसके लिए अपने प्रोड्यूसरों और डायरेक्टरों का शुक्रिया अदा करते थे.

अधिक पढ़ें ...

    12 नवंबर 1940 को पैदा हुए अमजद खान (Amjad Khan Birth Anniversary) ने करीब 20 साल के फिल्मी करियर में 132 से अधिक फिल्मों में काम किया था. अमजद खान (Amjad Khan) को एक्टिंग विरासत में मिली थी. इनके पिता जयंत (Jayant) भी एक उम्दा अभिनेता थे. फिल्म इंडस्ट्री में बाल कलाकार के तौर पर कदम रखने वाले अमजद साहब ने अपने लंबे फिल्मी करियर में सिर्फ विलेन ही नहीं बल्कि हास्य कलाकार के तौर पर भी दर्शकों का खूब मनोरंजन किया. ये उनकी वर्सेटाइल एक्टिंग का का ही कमाल था कि सुपरहिट फिल्म ‘लावारिस’ में अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) के पिता की भूमिका भी निभाई तो ‘याराना’ में अमिताभ के दोस्त के रुप में नजर आए. हर रोल में जान फूंक देने वाले अमजद जब गब्बर सिंह बने तो खलनायिकी का मानक ही बदल दिया था.

    अमजद खान (Amjad Khan) ने कई सफल फिल्मों में दमदार अदायगी दिखाई लेकिन आज भी ‘शोले’ के ‘गब्बर सिंह’ के रोल की वजह से अधिक जाने जाते हैं. लेकिन शायद ही किसी को पता होगा कि ये रोल पहले मशहूर अभिनेता डैनी के लिए लिखा गया था. जब डैनी ने फिल्म करने से इनकार कर दिया तो अमजद खान को ऑफर दिया गया. मीडिया की खबरों की माने तो रमेश सिप्पी ने जब ऑफर दिया तो अमजद घबरा गए थे और गब्बर का किरदार निभाने से मना कर दिया था,लेकिन सिप्पी साहब को पहली मुलाकात में लग गया था कि गब्बर का रोल अगर अमजद प्ले करेंगे तो इतिहास रचेगा.  हालांकि बाद में इस रोल को अमजद खान ने चुनौती की तरह लिया और हिंदी सिनेमा के इतिहास में ‘गब्बर सिंह’ के रोल को स्वर्ण अक्षरों में लिख दिया. सबसे बड़ी बात ये रही कि अमिताभ बच्चन, धर्मेंद्र और संजीव कुमार जैसे दिग्गज एक्टरों के बीच इस फिल्म में अमजद अपनी अलग छवि बनाने में सफल रहें.

    amjad khan, gabbar singh

    अमजद खान को एक्टिंग विरासत में मिली थी.

    शोले की बंपर सफलता के बाद अमजद खान को पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा. अमजद ने ‘चरस’, ‘परवरिश’, ‘अपना खून’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’, ‘मिस्टर नटवरलाल’, ‘सुहाग’, ‘कुर्बानी’, ‘याराना’, जैसी कई फिल्मों में अलग-अलग तरह के रोल किए. अमजद खान की खासियत ये थी कि वो कभी टाइपकास्ट नहीं हुए. मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में अमजद ने इसके लिए अपने प्रोड्यूसरों और डायरेक्टरों का शुक्रिया अदा करते हुए कहा था कि मेरी फिल्म में दर्शकों को ये नहीं पता होता था कि मैं क्या करने वाला हूं.

    amjad khan

    अमजद खान विलेन ही नहीं बल्कि एक शानदार हास्य कलाकार भी थे.

    ये भी पढ़िए-33 Years Of Tezaab: माधुरी दीक्षित को जब कहा जाने लगा था ‘ये हीरोइन मैटेरियल नहीं है’, फिर मोहिनी ने किया चमत्कार

    अमजद खान की शादी शाइला खान से हुई थी. इनके तीन दो बेटे और और एक बेटी हैं. अमजद के बड़े बेटे शादाब खान ने भी कुछ फिल्मों में काम किया है. मीडिया की खबरों के मुताबिक साल 1986 में अमजद खान का एक एक्सीडेंट हो गया था. इसके बाद उनका वजन बेहिसाब बढ़ने लगा था. अधिक वजन की वजह से 27 जुलाई 1992 को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. हिंदी सिनेमा की इस अपूर्णनीय क्षति अभी तक पूरी नहीं जा सकी है.

    Tags: Amjad Khan, Sholay

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर