अपना शहर चुनें

States

तापसी-ऋचा के बाद उर्मिला मातोंडकर ने भी हरियाणा के मंत्री पर साधा निशाना, Tweet हुआ वायरल

हरियाणा कृषि मंत्री जे पी दलाल के कमेंट पर उर्मिला ने साधा निशाना
हरियाणा कृषि मंत्री जे पी दलाल के कमेंट पर उर्मिला ने साधा निशाना

बॉलीवुड एक्ट्रेस उर्मिला मातोंडकर (Urmila Matondkar ) को हरियाणा के कृषि मंत्री के बयान पर नाराजगी जताई है. हरियाणा के कृषि मंत्री जे पी दलाल (J P Dalal ) ने शनिवार को कहा था कि किसान अगर घर पर रहते तब भी उनकी मौत हो जाती. इसी बयान पर उर्मिला मातोंडकर ने ट्वीट कर निशाना साधा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 14, 2021, 10:49 PM IST
  • Share this:
मुंबई: हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल (JP Dalal) के बयान पर आम आदमी के साथ-साथ कई सेलिब्रिटी ने भी विरोध जताया है. किसानों को लेकर की गई मंत्री के बयान पर लगातार प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. बॉलीवुड एक्ट्रेस उर्मिला मातोंडकर  (Urmila Matondkar )  ने इस बयान से संबंधित एक न्यूज वीडियो क्लिप को ट्वीट कर लिखा है ‘जो लोग किसानों को खालिस्तानी और देशद्रोही कहते हैं, उनका हरियाणा के कृषिमंत्री जेपी दलाल जी के इस बेहद शर्मनाक और असंवेदनशील बयान पर क्या कहना है? उर्मिला मातोंडकर के इस ट्वीट पर लोग लगातार रिएक्शन दे रहे हैं.

प्रिंट शॉट ट्विटर


हरियाणा के कृषिमंत्री जे पी दलाल के कथित बयान पर रिएक्ट करने वाली उर्मिला मातोंडकर पहली एक्ट्रेस नहीं है. इससे पहले भी एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा (Richa Chaddha) और तापसी पन्नू (Taapsee Pannu)  मंत्री की टिप्पणी पर अपना गुस्सा जाहिर कर चुकी हैं. मंत्री के इस कमेंट पर एक प्राइवेट न्यूज चैनल के क्लिप को ट्वीट करते हुए तापसी पन्नू ने लिखा ‘मानव जीवन का कोई मोल नहीं है,अनाज पैदा करने वालों का कोई मोल नहीं है. उनकी मौत का मजाक बना रहे’. वहीं, ऋचा चड्ढा ने भी गुस्सा जाहिर करते हुए लिखा कि ‘बेहद अपमानजनक,हम बेहतर के लायक है’.




लंबे समय से दिल्ली बॉर्डर पर किसान अपनी मांगों को मनवाने के लिए धरने पर बैठे हैं. इस दौरान  कई किसान जान गंवा चुके हैं. एक प्रेस कांप्रेंस के दौरान हरियाणा के कृषिमंत्री से जब आंदोलन के दौरान 200 किसानों की मौत के बारे में पूछा गया तो उन्होंने जवाब दिया था ‘ अगर वे (किसान) घर पर होते तो क्या उनकी मौत नहीं होती ? अपने घर पर होते तो भी मरते. दो लाख लोगों में से क्या 6 महीने में 200 लोग नहीं मरते है ? किसी की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो जाती है, कोई बीमार पड़ने से मर जाता है. वे अपनी मर्जी से मर गए. उनके प्रति मेरी गहरी संवेदना है.






हालांकि अपनी बात पर सफाई देते हुए कहा था कि प्रेस कांफ्रेंस के दौरान मैंने किसान आंदोलन के दौरान मरने वालों किसानों के निधन पर शोक जताया था. मेरे बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया. मेरे बयान से कोई आहत हुआ हो तो मैं माफी मांगता हूं, मैं किसानों के कल्याण के लिए काम कर रहा हूं’.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज