बॉलीवुड में नेपोटिज्म है, लेकिन इंडस्ट्री में बने रहने के लिए टैलेंट जरूरी: विक्रांत मेस्सी

बॉलीवुड में नेपोटिज्म है, लेकिन इंडस्ट्री में बने रहने के लिए टैलेंट जरूरी: विक्रांत मेस्सी
एक्टर विक्रांत मेस्सी.

‘छपाक (Chhapak)’, ‘हाफ गर्लफ्रेंड (Half Girlfriend)’, ‘दिल धड़कने दो (Dil Dhadakne Do)’ और ‘लिप्सटिक अंडर माई बुरका (Lipstick Under My Burqa)’ में काम कर चुके एक्टर विक्रांत मेस्सी (Vikrant Massey) ने कहा है कि, ‘फिल्म इंडस्ट्री में भाई-भतीजावाद है, लेकिन अंत में यहां बने रहने के लिए टैलेंट का होना भी बेहद जरूरी है.’

  • Share this:
मुंबई. ऐसे वक्त में जब बॉलीवुड (Bollywood) में ‘बाहर से आने वाले बनाम इंडस्ट्री वाले’ पर तीखी बहस जारी है, एक्टर विक्रांत मेस्सी (Vikrant Massey) ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. उनका कहना है कि जब कोई फिल्म निर्माता उन्हें ध्यान में रखते हुए भूमिका लिखता है तो बहुत कमाल लगता है.

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की सुसाइड के बाद इंडस्ट्री के कई लोग खुलकर अपने संघर्ष के बारे में बात कर रहे हैं. नए निर्देशकों जैसे सीमा पहवा और आरती कादव के लिए पसंदीदा कलाकार बन चुके मेस्सी ने 2000 के दशक की शुरुआत में छोटे पर्दे से अपने करियर की शुरुआत की थी. इतने साल में वे टीवी, फिल्म और वेब तीनों माध्यमों में काम कर चुके हैं.

फिल्म लुटेरा’ से मिला बॉलीवुड में ब्रेक
टीवी पर मेस्सी को सबसे ज्यादा लोकप्रियता बालिका वधु सीरियल में श्याम की भूमिका से मिली. उन्होंने ‘बाबा ऐसो वर ढूंढो’ और ‘कबूल है’ में भी काम किया है. मेस्सी को बॉलीवुड में पहला ब्रेक सात साल पहले विक्रमादित्य मोटवाणे की ‘लुटेरा’ से मिली जिसमें उन्होंने रणवीर सिंह और सोनाक्षी सिन्हा के साथ काम किया.
फिल्मी दुनिया में सब अपनों का साथ देते हैं


‘छपाक (Chhapak)’, ‘हाफ गर्लफ्रेंड (Half Girlfriend)’, ‘दिल धड़कने दो (Dil Dhadakne Do)’ और ‘लिप्सटिक अंडर माई बुरका (Lipstick Under My Burqa)’ में काम कर चुके मेस्सी का कहना है कि उन्हें शुरुआत में ही समझ आ गया था कि फिल्मी दुनिया में सब अपनों का साथ देते हैं.

मेस्सी ने न्यूज एजेंसी को दिए इंटरव्यू में बताया कि, ‘टीवी में काम करते हुए मैंने ये बातें देखीं और लोगों ने मुझे इसके बारे में समझाया. मुझे पता था कि फिल्म इंडस्ट्री में अपने पांव जमाने के लिए मुझे 10-11 साल लगेंगे. मैं ऐसा करने को तैयार भी था, क्योंकि मुझे पता है कि मेरे पास कुछ ऐसा है जो अनोखा है और अब लोग उसे पहचानने लगे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘आज अजीब स्थिति यह है कि फिल्म इंडस्ट्री में भाई-भतीजावाद है, लेकिन अंत में यहां बने रहने के लिए टैलेंट का होना जरूरी है.’ टीवी से फिल्मों में आने के अपने फैसले को सोचा समझा बताने वाले 33 वर्षीय मेस्सी उस वक्त टीवी का जाना-माना चेहरा बन गए थे. फिल्मों में मेस्सी ने शुरुआत भले ही सहकलाकारों वाली भूमिकाओं के साथ की हो लेकिन उन्होंने जल्दी ही फिल्मों के साथ-साथ वेब सीरिज की दुनिया में भी अपना नाम बना लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज