Kangana Vs BMC: बॉम्बे हाईकोर्ट ने कंगना रनौत की याचिका पर संजय राउत से मांगा जवाब

संजय राउत और कंगना रनौत (फाइल फोटो)

संजय राउत और कंगना रनौत (फाइल फोटो)

एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के ऑफिस में तोड़फोड़ के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने एक्ट्रेस की याचिका पर शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) से गुरुवार को जवाब मांगा.

  • भाषा
  • Last Updated: September 24, 2020, 5:14 PM IST
  • Share this:
मुंबई. एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के ऑफिस में तोड़फोड़ के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने एक्ट्रेस की याचिका पर शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) से गुरुवार को जवाब मांगा. जस्टिस एसजे कथावाला और जस्टिस आरआई चागला की बेंच ने बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) के एच-वार्ड के अधिकारी भाग्यवंत लाते को भी याचिका पर अपनी प्रतिक्रिया दाखिल करने का निर्देश दिया.

एक्ट्रेस के बंगले के एक हिस्से को गिराने के आदेश पर लाते ने 7 सितंबर को हस्ताक्षर किए थे.

रनौत के वकील वरिष्ठ अधिवक्ता बीरेंद्र सराफ ने मंगलवार को अदालत में एक डीवीडी सौंपी थी, जिसमें शिवसेना नेता राउत द्वारा एक्ट्रेस को कथित तौर पर धमकाने वाला एक बयान है. इसके बाद पीठ ने राउत और लाते को मामले में पक्षकार बनाने की अनुमति दे दी थी.

राउत के वकील प्रदीप थोराट ने शिवसेना के राज्यसभा सांसद के अभी नई दिल्ली में होने की दलील देते हुए जवाब दाखिल करने के लिए अतिरिक्त समय की मांग की. वहीं, बीएमसी के वरिष्ठ वकील अनिल साखरे ने भी लाते को जवाब दाखिल करने के लिए अतिरक्त समय देने का अनुरोध किया.
जस्टिस एसजे कथावाला ने कहा कि पीठ रनौत की याचिका पर शुक्रवार से सुनवाई शुरू करेगी और अदालत में अपनी दलीलें रखने के लिए राउत अपनी बारी आने से पहले कभी भी अपना जवाब दाखिल कर सकते हैं.

बेंच ने कहा कि बीएमसी लाते की ओर से सोमवार तक जवाब दाखिल करे. उसने कहा कि वह सुनवाई में देरी नहीं कर सकती. पीठ ने कहा, ''हम ध्वस्त किए गए घर को ऐसे ही नहीं छोड़ सकते. इमारत आंशिक रूप से ध्वस्त की गई है और भारी मानसून में उसे वैसी ही स्थिति में छोड़ा नहीं जा सकता. हम याचिका पर कल से सुनवाई शुरू करेंगे.''

रनौत ने 9 सितंबर को हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी, जिसमें याचना की गई कि कि यहां पाली हिल क्षेत्र में उनके बंगले के एक हिस्से को बीएमसी द्वारा तोड़े जाने को अदालत अवैध घोषित करे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज