सरोज खान को किया गया सुपुर्द-ए-खाक, नम आंखों से अपनों ने दी अंतिम विदाई

सरोज खान को किया गया सुपुर्द-ए-खाक, नम आंखों से अपनों ने दी अंतिम विदाई
सरोज खान ने 71 साल की उम्र में अंतिम सांस ली.

सरोज खान को शुक्रवार सुबह मलाड के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक (Saroj Khan Final Last Rites) कर दिया गया.

  • Share this:
मुंबई. मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान (Saroj Khan Passed Away) ने दुनिया को अलविदा कह दिया है. कार्डियक अरेस्ट के चलते मुंबई में उनका निधन हो गया. सरोज खान को पिछले कुछ दिनों से सांस लेने में तकलीफ हो रही थी, जिसके बाद उन्हें बांद्रा के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था. सरोज खान को शुक्रवार सुबह मलाड के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक (Saroj Khan Final Last Rites) कर दिया गया. सरोज खान को आखिरी विदाई देने के लिए उनके परिवारवाले और कुछ रिश्तेदार ही मौजूद थे.

सरोज खान के निधन के बाद उनके परिवार के साथ बॉलीवुड की तमाम हस्तियां दुख जता रही हैं. सोशल मीडिया पर लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं. सरोज खान के परिवार ने उनकी अंतिम यात्रा को सुबह ही संपन्न किया. दरअसल, मुंबई में कोरोना के मामलों को देखते हुए पुलिस ने सरोज खान की फैमिली को निर्देश दिया था कि अंतिम विदाई में 50 से ज्यादा लोग शामिल नहीं होंगे. पुलिस के इस निर्देश का पालन करते हुए परिवार ने ये फैसला लिया और बिना देर किए सुबह-सुबह ही सरोज खान को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया.

सरोज खान डायबिटीज और इससे संबंधित बीमारियों से जूझ रही थीं. इसके चलते उन्होंने बीच में अपने काम से एक लंबा ब्रेक लिया था. साल 2019 में सरोज ने 'कलंक' और 'मणिकर्णिकाः द क्वीन ऑफ झांसी' में एक-एक गाने को कोरियॉग्राफ किया था. 'कलंक' में उन्होंने 'तबाह हो गए' गाने को कोरियोग्राफ किया था, जिसमें माधुरी दीक्षित ने बेहतरीन डांस कर सभी का दिल जीत लिया था.



ये भी पढ़ें- सरोज खान के पास जब इंडस्ट्री में नहीं था काम, सलमान खान ने किया था ये वादा
सरोज ने महज 3 साल की उम्र में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया था. उनकी पहली फिल्म नजराना थी, जिसमें उन्होंने श्यामा नाम की बच्ची का किरदार निभाया था. 71 साल की सरोज खान का जन्म 22 नवंबर 1948 में हुआ था. 50 के दशक में वो कई बॉलीवुड फिल्मों में बतौर बैकग्राउंड डांसर भी काम किया. चार दशक से अधिक के करियर में सरोज खान को 2 हजार से अधिक गीतों को कोरियोग्राफ करने का श्रेय जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज