सुशांत सिंह राजपूत पर बन रही फिल्मों के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका, पिता ने की रोक की मांग

न्यायमूर्ति मनोज कुमार ओहरी ने फिल्म निर्माताओं को नोटिस जारी कर उनसे याचिका पर जवाब मांगा है.

न्यायमूर्ति मनोज कुमार ओहरी ने फिल्म निर्माताओं को नोटिस जारी कर उनसे याचिका पर जवाब मांगा है.

याचिका में दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने फिल्मों में उनके बेटे के नाम या उससे मिलते जुलते पात्रों के इस्तेमाल पर रोक की मांग की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 2:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली हाईकोर्ट ने दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के पिता की ओर से दायर एक याचिका पर अभिनेता की जिंदगी पर आधारित विभिन्न प्रस्तावित और आगामी फिल्मों के निर्माताओं को मंगलवार को नोटिस जारी किया. याचिका में सुशांत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने फिल्मों में उनके बेटे के नाम या उससे मिलते जुलते पात्रों के इस्तेमाल पर रोक की मांग की है.

न्यायमूर्ति मनोज कुमार ओहरी ने फिल्म निर्माताओं को नोटिस जारी कर उनसे 24 मई तक याचिका पर जवाब मांगा है. याचिका में कहा गया, ‘फिल्मकार हालात का फायदा उठा रहे हैं और अपने छिपे हुए मकसदों को पूरा करने के लिहाज से मौके को भुनाने का प्रयास कर रहे हैं.’ इसमें कहा गया कि याचिकाकर्ता को आशंका है कि तरह-तरह की सामग्री प्रकाशित की जाएगी जिससे राजपूत और उनके परिवार की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंच सकता है.

बता दें, हाल ही में सुशांत की बहन प्रियंका सिंह (Priyanka Singh) ने भी ट्वीट कर अपनी प्राइवेसी में दखलअंदाजी करने वालों को जमकर खरी-खोटी सुनाई थी, जो आज भी सुशांत की मौत को लेकर अमानवीयता दिखाते रहते हैं. प्रियंका ने ट्वीट कर कहा था, ‘इस दर्द ने हमारे पूरे परिवार को हिलाकर रख दिया है. यह हमारे परिवार के सबसे प्यारे सदस्य के खोने का दर्द है जो अभी भी गहरा है मगर कुछ लोग हमारे दुख का फायदा उठा रहे हैं और अपनी गलत भावनाओं को पूरा कर रहे हैं. ऐसे लोगों को क्रिमिनल कहा जाना चाहिए.

उन्होंने आगे लिखा था, ‘ऐसी हरकतें न सिर्फ हमारी प्राइवेसी में दखल देती हैं, बल्कि हमारे प्यारे सुशांत का नाम भी खराब करती हैं, लेकिन कुछ लोग इस तरह के काम कर रहे हैं. आखिर हम कैसे खुद को इंसान कह सकते हैं जब दूसरों से सहानुभूति नहीं रख सकते हैं. उन लोगों के लिए जो अमानवीय होने से खुश हैं, आपको कोर्ट में देखेंगे’.
(इनपुट भाषा से भी)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज