राजेश खन्ना के बंगले में जमीन पर बैठते थे डायरेक्टर- प्रोड्यूसर, लुंगी-कुर्ते में करते थे स्वागत

काका का स्टाइल सबसे जुदा था. @rajeshkhanna_first_superstar/Instagram

काका का स्टाइल सबसे जुदा था. @rajeshkhanna_first_superstar/Instagram

राजेश खन्ना के स्टारडम से जुड़े किस्से उनके फैंस दिल से कहना और सुनना पसंद करते हैं. काका के साथ तमाम फिल्मों में काम कर चुके अभिनेता जूनियर महमूद ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उस दौर में उनके (राजेश खन्ना) के बंगले आशीर्वाद में इंडस्ट्री के तमाम नामी डायरेक्टर-प्रोड्यूसर बैठकी लगाया करते थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 9:44 AM IST
  • Share this:
मुंबई. बॉलीवुड के 'काका' यानी राजेश खन्ना (Rajesh Khanna) अपने जमाने के वो सुपरस्टार रहे, जिन्होंने दुनिया को दीवाना बनाया. राजेश खन्ना ने जैसा स्टारडम देखा वैसा किसी दूसरे स्टार को नसीब नहीं हुआ. काका का स्टाइल सबसे जुदा था और यही वह वजह थी कि 70 के दशक में वह सफलता की सीढ़ियां चलते गए. बॉलीवुड (Bollywood) में एक दौर ऐसा भी आया जब राजेश खन्ना फिल्म के हिट होने की गारंटी बन गए थे. फिल्म 'आराधना' के बाद राजेश खन्ना बॉलीवुड में रोमांटिक ​एक्टर के रूप में फेमस हो गए थे. इसके बाद राजेश खन्ना ऐसे पहले सुपरस्टार बने जिन्होंने एक के बाद एक लगातार 15 हिट फिल्में दीं, जो अब भी एक रिकॉर्ड है. ऐसा उनकी दीवानगी के कारण था. इंडस्ट्री के तमाम दिग्गज डायरेक्टर-प्रोड्यूसर राजेश खन्ना की डेट पाने के लिए तमाम जुगाड़ लगाया करते थे.

कहा जाता है कि लड़कियां उनके लुक्स की इस तरह दीवानी थीं कि उनकी गाड़ी के जाने के बाद जो धूल उड़ती थी, उससे अपनी मांग भरती थीं. आज भी लोग राजेश खन्ना के स्टारडम से जुड़े किस्से उनके फैंस दिल से कहना और सुनना पसंद करते हैं. काका के साथ तमाम फिल्मों में काम कर चुके अभिनेता जूनियर महमूद ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उस दौर में उनके (राजेश खन्ना) के बंगले आशीर्वाद में इंडस्ट्री के तमाम नामी डायरेक्टर-प्रोड्यूसर बैठकी लगाया करते थे.

राजेश खन्ना बॉलीवुड के पहले ऐसे सुपरस्टार थे, जिन्होंने एक के बाद एक लगातार 15 हिट फिल्में दीं थीं. (File Photo)

एक इंटरव्यू में जूनियर महमूद ने कहा था कि राजेश खन्ना के बंगले आशीर्वाद का हॉल ऐसा था, जो उन्होंने किसी दूसरे एक्टर या एक्ट्रेस के घर पर नहीं देखा. उनसे मिलने जो भी आता, चाहे वह प्रोड्यूसर या डायरेक्टर कोई एक्टर हो, सब नीचे ही बैठा करते थे. काका दरवाजा खोलकर हाल में एंट्री लेते थे और थोड़ी ऊंचाई पर बैठ जाते थे, एक टेबल पर और एक-एक लोगों से बात करते थे.
जूनियर महमूद के मुताबिक, राजेश खन्ना बेहद मूडी इंसान थे. अगर उनका मूड ठीक रहता तो सब कुछ अच्छा चलता, दुनिया अच्छी रहती, लेकिन अगर उनका मूड ठीक नहीं होता था तो लोग उनके सामने आने से घबराते थे.

 बॉलीवुड अभिनेता राजेश खन्ना का जन्म 29 दिसंबर 1942 को हुआ था. पंजाब के अमृतसर में जन्मे हिंदीं फिल्म जगत के पहले सुपरस्टार को भले ही दुनिया राजेश खन्ना के नाम से जानती है लेकिन उनके फैन्स और पूरा बॉलीवुड उन्हेंकाका के नाम से जानता था. फिल्मों में आने से पहले राजेश खन्ना का नाम जतिन खन्ना था. बचपन से ही राजेश खन्ना की रुचि अभिनय में थी इसलिए वो अपने करियर के शुरुआती दिनों में ही थियटेर से जुड़ गए थे. कई सालों तक रुपहले पर्दे पर लोगों का मनोरंजन करने वाले राजेश खन्ना ने 18 जुलाई 2012 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया.

इस बातचीत में उन्होंने बताया कि राजेश खन्ना को सिल्क के कुर्ते और लुंगी काफी पंसद थी. वह अक्सर घर में इस परिधान में रहते थे. जूनियर महमूद ने बताया कि काका तमाम मेहमानों का स्वागत इसी परिधान में किया करते थे, भले ही वह कितना बड़ा या नामी शख्स क्यों न हो.



आपको बता दें कि राजेश खन्ना भले ही फिल्म इंडस्ट्री में नंबर 1 माने जाते थे, लेकिन उन्हें यह नंबर गेम बिल्कुल पसंद नहीं था. एक इंटरव्यू में जब उनसे पूछा गया कि स्टार्स को नंबर 1, नंबर 2 की पदवी दिए जाने पर उनकी क्या राय है तो उन्होंने इसका शानदार जवाब दिया. उन्होंने कहा कि नंबर्स घोड़ों के होते हैं, स्टार्स के नहीं. आईटीएमबी शोज़ के कार्यक्रम में राजेश खन्ना से पूछा गया था, ‘भारत में मीडिया की ओर से जो नंबर 1 स्टार, नंबर 1 हीरो आदि की जो की पदवी दी जाती है, उसके बारे में आपकी क्या राय है?’ राजेश खन्ना ने कहा था कि मेरा यही मानना है कि घोड़ों के नंबर होते हैं. मुझे नहीं लगता कि स्टार्स के नंबर होने चाहिए. स्टार तो स्टार होते हैं.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज