ड्रग्स केस: 45 मोबाइल फोन जब्त, फोन उगल रहे हैं बॉलीवुड ड्रग्स मंडली के राज

सारा अली खान, दीपिका पादुकोण और श्रद्धा कपूर.
सारा अली खान, दीपिका पादुकोण और श्रद्धा कपूर.

करीब 45 मोबाइल फोन में से 15 से ज्यादा मोबाइल फोन की फोरेंसिक रिपोर्ट NCB को मिल चुकी है. दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone), सारा अली खान (Sara Ali Khan) और श्रद्धा कपूर (Shraddha Kapoor), करिश्मा प्रकाश और जया शाह के मोबाइल फोन की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 12:46 AM IST
  • Share this:
मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस (Sushant Singh Rajput Suicide Case) से जुड़े ड्रग्स मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की जांच में बॉलीवुड के कई बड़े स्टार फंसते दिख रहे हैं. एजेंसी पूरे बॉलीवुड में फैले ड्रग्स नेटवर्क का खात्मा करने का मन बना लिया है. जांच में जुटी NCB अब तक इस केस में करीब 45 मोबाइल फोन सीज कर चुकी है. ये मोबाइल फोन बॉलीवुड ड्रग्स मंडली के राज उगल रहे हैं.

बरामद करीब 45 मोबाइल फोन में से 15 से ज्यादा मोबाइल फोन की फोरेंसिक रिपोर्ट NCB को मिल चुकी है, जिसके आधार पर आगे की तफ्तीश को एक नई दिशा मिली है. बरामद मोबाइल फोनों में से अन्य की रिपोर्ट आना है अभी बाकी है, जिसमें दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone), सारा अली खान (Sara Ali Khan), श्रद्धा कपूर (Shraddha Kapoor) करिश्मा प्रकाश और जया शाह के मोबाइल फोन की रिपोर्ट काफी मायने रखती है.

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के महानिदेशक ने मुंबई के अधिकारियों के साथ बैठक की थी. सूत्रों के अनुसार, बैठक के बाद एनसीबी ने इस केस की जांच में अपनी कुछ प्राथमिकताएं तय की हैं. इसमें सबसे अहम है कि एनसीबी दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली खान और रकुल प्रीत सिंह के बैंक अकाउंट से किए गए ट्रांजेक्शन की जांच करेगी.



पहली प्राथमिकता अब तक लिए गए सभी लोगों के बयानों को रिव्यू करना है. हर किसी के बयान का मिलान करना है, चाहे वह रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) का बयान हो या दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone), सारा अली खान (Sara Ali Khan) और श्रद्धा कपूर (Shraddha Kapoor) का. साथ ही साथ सभी पैडलर्स के बयानों को भी रिव्यू किया जाएगा.
सूत्रों के अनुसार, फोन के डंप डाटा आने के पहले बयानों को रिव्यू कर उसके बाद क्या कुछ निकलता है. उस पर आगे की रणनीति तय की जाएगी. कॉल डिटेल हो, SMS हो या वाट्सऐप चैट; 2017 से 2020 तक के डंप डाटा को खंगालना है. यह सब करना इतना आसान नहीं है. इसमें समय भी लगेगा, साथ ही साथ इस दौरान अगर कोई इनपुट मिला तो कार्रवाई भी की जाएगी.

एनसीबी के सूत्रों के अनुसार, मोबाइल फोन जब्त करना, उसको खंगालना ये जांच का प्रोसेस है. इसके तहत यह देखा जाता है कि बयानों में कितनी सच्चाई है. कौन किसके संपर्क में था या कितने लोगों के संपर्क में था. ये बातें डंप डाटा से ही पता चलेंगी. एनसीबी ड्रग्स एंगल को खंगाल रही है.

इनपुट - आनंद तिवारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज