Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    निर्वाचन आयोग ने एक्टर सोनू सूद को बनाया पंजाब का राज्य ‘आइकन’

    बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद.
    बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद.

    एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) को निर्वाचन आयोग ने पंजाब का राज्य ‘आइकन’ नियुक्त किया है. पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एस करुणा राजू के हवाले से कहा गया कि उनके कार्यालय ने निर्वाचन आयोग (Election Commission) को इस संबंध में एक प्रस्ताव भेजा था, जिसने इसे मंजूर कर लिया है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 16, 2020, 11:11 PM IST
    • Share this:
    चंडीगढ़. एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) को निर्वाचन आयोग (Election Commission) ने पंजाब का राज्य ‘आइकन’ नियुक्त किया है. यह जानकारी सोमवार को यहां जारी एक आधिकारिक बयान में दी गई. बयान में पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एस करुणा राजू के हवाले से कहा गया कि उनके कार्यालय ने भारत निर्वाचन आयोग को इस संबंध में एक प्रस्ताव भेजा था, जिसने इसे मंजूर कर लिया है.

    पंजाब के मोगा जिले के निवासी सूद को तब पूरा देश जान गया था, जब उन्होंने कोविड-19 लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने में बढ़-चढ़कर मदद की थी. सूद ने प्रवासी मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए परिवहन सेवा उपलब्ध कराई थी और उनके मानवीय कार्य की समाज के सभी तबकों ने खुलकर प्रशंसा की थी.

    कोरोना काल में प्रवासियों को उनके घर भेजने के बाद सोनू सूद ने वाराणसी के नाविकों समेत अनेक लोगों की आगे बढ़कर मदद की थी. अब इस बॉलीवुड एक्‍टर ने देवरिया के एक गरीब छात्र के सपने को पूरा करने का बीड़ा उठाया है.



    देवरिया में एक छात्र कम्प्यूटर इंजीनियर बनकर मां के सपने को पूरा करना चाहता था, लेकिन उसकी गरीबी पढ़ाई के आड़े आ रही थी. अब सोनू सूद ने छात्र की इंजीनियरिंग की पढ़ाई का पूरा खर्च वहन करने का जिम्मा लिया है. एक्‍टर ने सूर्य प्रकाश से कहा कि मम्‍मी से बोल देना कि तेरा बेटा इंजीनियर बन रहा है.
    देवरिया जिले के लार ब्लॉक के रक्सा गांव निवासी सूर्य प्रकाश यादव कम्यूटर इंजीनियर बनने का लक्ष्य बनाए हुए हैं. परिवार की माली हालत इतनी अच्छी नहीं थी कि उनको किसी इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला दिलाया जा सके. ऐसे में 23 सितंबर को सूर्य प्रकाश ने सोनू सूद को ट्वीट किया. इसमें उन्होंने लिखा, 'सर मेरे पापा नहीं हैं. मां गांव में आशा कार्यकर्ता हैं. हमारी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है. परिवार की आय सालाना 40 हजार है. यूपी बोर्ड की 10वीं परीक्षा में मेरे 88 प्रतिशत और 12वीं में 76 प्रतिशत था. मुझे पढ़ना है.'
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज