फेक फॉलोवर केस: रैपर बादशाह बोले- मुझे जांच अधिकारियों पर पूरा भरोसा, स्कैम का हिस्सा नहीं

फेक फॉलोवर केस: रैपर बादशाह बोले- मुझे जांच अधिकारियों पर पूरा भरोसा, स्कैम का हिस्सा नहीं
संगीत निर्माता और रैपर बादशाह.

संगीत निर्माता और रैपर बादशाह (Music Producer and Rapper Badshah) ने फेक फॉलोवर घोटाले (Fake Followers Scam) में उन पर लगाए गए सभी आरोपों का खंडन किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 9, 2020, 12:23 PM IST
  • Share this:
मुंबई. फेक फॉलोवर स्कैम (Fake Followers Scam) के मामले में पुलिस के पूछताछ करने के बाद संगीत निर्माता और रैपर बादशाह (Music Producer and Rapper Badshah) ने एक बयान जारी किया है. बादशाह ने कहा कि उन्होंने जांच में सहयोग करके उसका समर्थन किया और कहा कि वे कभी भी इस घोटाले का हिस्सा नहीं थे.

बादशाह ने कहा, 'समन जारी होने के बाद मैंने मुंबई पुलिस से बात की है. मैंने इस स्कैम की जांच में अधिकारियों को सहयोग दिया है और मैंने अपनी ओर से हरसंभव परिश्रम किया है. मैंने स्पष्ट रूप से अपने खिलाफ लगाए गए सभी आरोपों का खंडन किया है और स्पष्ट किया कि मैं इस तरह की प्रैक्टिस में शामिल नहीं था और न ही मैं ऐसी प्रैक्टिस की निंदा करता हूं.'

अधिकारियों पर पूरा भरोसा है: बादशाह
बादशाह ने बताया कि, 'जांच प्रक्रिया को कानून के अनुसार पूरा किया जा रहा है और मुझे उन अधिकारियों पर पूरा भरोसा है, जो इस मामले को संभाल रहे हैं. मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने अपनी चिंता मुझे बताई है. यह मेरे लिए बहुत मायने रखता है. बादशाह शुक्रवार दोपहर करीब 12.30 बजे क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (CIU) के दफ्तर पहुंचे. एक अधिकारी ने बताया कि वह रात करीब 9.45 बजे सीआईयू कार्यालय से बाहर निकले.
भूमि त्रिवेदी ने फेक प्रोफाइल बनाने की पुलिस से की थी शिकायत


बॉलीवुड गायक भूमि त्रिवेदी ने पाया कि किसी ने सोशल मीडिया पर उसकी फर्जी प्रोफाइल बनाई थी और पुलिस से शिकायत की थी. जांच के दौरान, पुलिस ने उस रैकेट का खुलासा किया जो नकली सोशल मीडिया प्रोफाइल बनाता है, फेक फॉलोवर और लाइक बेचता है. यह रैकेट सेलेब्स और 'इन्फ्लुएंसर्स' को अपना बड़ा ग्राहक मानता है.

पुलिस ने मामले में करीब 20 लोगों के बयान दर्ज किए हैं. वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया है कि यह एक गंभीर मुद्दा था क्योंकि फर्जी प्रोफाइल का इस्तेमाल नकली समाचार या गलत सूचना फैलाने के लिए भी किया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज