लाल किला हिंसा: एक्टर दीप सिद्धू की जमानत याचिका पर कल फैसला सुनाएगी अदालत

दीप सिद्धू के वकील ने अदालत से कहा कि केवल मौजूदगी ही उनके मुवक्किल को गैर कानूनी रूप से एकत्र होने का आरोपी नहीं बना देती.

दीप सिद्धू के वकील ने अदालत से कहा कि केवल मौजूदगी ही उनके मुवक्किल को गैर कानूनी रूप से एकत्र होने का आरोपी नहीं बना देती.

Red Fort Violence: लाल किला परिसर में हुई हिंसा के मामले में दीप सिद्धू (Deep Sidhu) को 9 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था. सरकारी वकील ने जमानत अर्जी का विरोध किया और कहा कि यदि सिद्धू को रिहा किया गया तो वह सबूत को नष्ट कर देगा जैसा कि पहले दो फोन नष्ट कर दिए थे.

  • Share this:
नई दिल्ली. गणतंत्र दिवस के दिन लालकिला परिसर में हुई हिंसा (Red Fort Violence) के मामले में गिरफ्तार एक्टर-वर्कर दीप सिद्धू (Deep Sidhu) की जमानत याचिका पर दिल्ली की एक अदालत 15 अप्रैल को अपना फैसला सुनाएगी. विशेष न्यायाधीश नीलोफर आबिदा परवीन ने कहा कि सिद्धू की जमानत याचिका पर कोर्ट ने सोमवार को अपना आदेश सुरक्षित रख लिया.

सिद्धू के वकील ने अदालत से कहा कि केवल मौजूदगी ही उनके मुवक्किल को गैर कानूनी रूप से एकत्र होने का आरोपी नहीं बना देती और वह एक ईमानदार नागरिक है, जो प्रदर्शन का हिस्सा था. दिल्ली पुलिस की ओर से पेश लोक अभियोजक ने दावा किया कि सिद्धू हिंसा करने तथा राष्ट्रीय ध्वज का निरादर करने के उद्देश्य से प्रदर्शन में शामिल हुआ था और गैर कानूनी रूप से लोगों के एकत्र होने में उसकी मुख्य भूमिका थी. 26 जनवरी के दिन किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लालकिला परिसर में हुई हिंसा के मामले में सिद्धू को नौ फरवरी को गिरफ्तार किया गया था.

Youtube Video


सरकारी वकील ने यह दावा करते हुए जमानत अर्जी का विरोध किया कि यदि सिद्धू को रिहा किया गया तो वह सबूत को नष्ट कर देगा जैसा कि उसने पकड़े जाने से पहले दो फोन नष्ट कर दिए थे. उन्होंने अदालत से कहा कि 25 जनवरी से पहले सिद्धू ने मीडिया को एक इंटरव्यू दिया था और कहा था, ‘26 (जनवरी) आ रही है... अधिक से अधिक लोगों को पहुंचना चाहिए.’
उन्होंने दावा किया कि सिद्धू को पता था कि सिंघू बार्डर पर प्रदर्शनकारी निर्धारित मार्ग का पालन नहीं करेंगे. उन्होंने कहा, ‘मार्ग का पालन करने की कोई मंशा नहीं थी. हमारे देश को बदनाम करन की योजना थी. उन्होंने हमारे राष्ट्रध्वज का अपमान किया. जब पुलिस ने रोकने की कोशिश की तब उस पर भीड़ ने नृशंस हमला किया...144 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गये.’ सिद्धू के वकील ने इंटरव्यू के अंश को संदर्भ से परे हटाकर पेश करने का आरोप लगाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज