• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • जब कोई 'नाजायज' कहता है, मुझे गर्व होता है: मसाबा

जब कोई 'नाजायज' कहता है, मुझे गर्व होता है: मसाबा

नाजायज कहने वालों को नासबा ने दिया जवाब

नाजायज कहने वालों को नासबा ने दिया जवाब

नाजायज कहने वालों को मसबा ने दिया जवाब

  • Share this:
    एक्ट्रेस नीना गुप्ता और वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के कप्तान विवियन रिचर्ड्स की 'लव-चाइल्ड' मसाबा ने फैशन की दुनिया में अपना अलग ही मुकाम बनाया है.

    बीते दिनों जब दिल्ली सरकार ने वहां पटाखों की बिक्री पर रोक लगाई, मसाबा ने इस रोक के समर्थन में एक ट्वीट किया.

    इसके बाद से लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू किया. कमेंट्स में उन्हें 'नाजायज' कहा गया. यह सिलसिला इतना बढ़ गया कि मसाबा को अपने ट्रोलर्स को जवाब देना ही पड़ा.

    मसाबा ने हाल ही में ट्विटर पर एक पोस्ट शेयर की है जिसमें उन्होंने इन सभी लोगों के मुंह पर करारा तमाचा मारा है. मसाबा ने लिखा कि जब भी कोई उन्हें 'नाजायज' कहता है, उन्हें बहुत गर्व होता है.

    अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए मसाबा ने कहा, "मैं जब 10 साल की थी तब से मुझे ऐसे नामों से बुलाया जा रहा है. मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. इससे उलट मुझे खुशी होती है कि मैं इस दुनिया के सबसे बेहतरीन दो लोगों की नाजायज बेटी हूं."


    मसाबा ने कहा कि उनका जायज होना उनके काम से प्रमाणित होता है ना की उनकी पैदाइश से. ट्रोलर्स को चुनौती देते हुए उन्होंने लिखा कि अगर मुझे इन नामों से बुलाने से तुम लोगों को खुशी मिलती है तो कहते रहो, क्यों मैं एक ऐसी भारतीय-कैरेबियन लड़की हूं जो तुम जैसे लोगों के सामने कभी कमजोर नहीं पड़ेगी.

    मसाबा पेशे से एक फैशन डिजाइनर हैं. बीते कुछ समय से वो ब्यूटी प्रोडक्ट की इंडस्ट्री में भी बहुत एक्टिव हैं. 2015 में उन्होंने फिल्म प्रोड्यूसर मधु मंटेना से शादी की.

    मसाबा अपनी मां नीना गुप्ता से बहुत क्लोज हैं. नीना ने अकेले ही मसाबा की परवरिश की है. मसाबा के जन्म के साथ ही उनसे जुड़ी बहुत सी कंट्रोवर्सीज पैदा हो गई थीं.

    दरअसल 80 के दशक के अंत में मसाबा की मां और जैविक पिता विवियन रिचर्ड्स के बीच अफेयर की खबरें उड़ने लगी थीं.

    नीना गुप्ता जब प्रेग्नेंट हुई थीं, उन्होंने मीडिया और अपने काम से दूरी बना ली थी. साल 1989 में उन्होंने मसाबा को जन्म दिया. अखबारों और फिल्म इंडस्ट्री में उनकी बच्ची के पिता का नाम जानने की खलबली मच गई. लेकिन नीना ने इस राज को लोगों के सामने उजागर नहीं होने दिया.

    अपनी मां नीना गुप्ता के साथ मसाबा


    विवियन रिचर्ड्स पूरी दुनिया में एक लोकप्रिय व्यक्ति थे. शायद नीना नहीं चाहती थीं कि उनकी छवि पर कोई गलत असर पड़े.

    लेकिन फिल्म प्रोड्यूसर और पत्रकार प्रीतिश नंदी को कहीं से मसाबा का बर्थ सर्टिफिकेट मिल गया. उस सर्टिफिकेट में पिता के स्थान में विवियन का नाम देखकर उन्होंने नीना को धमकी दी कि वो मीडिया में आकर मसाबा के पिता का नाम जगजाहिर करें, वरना प्रीतीश अखबार में मसाबा का बर्थ सर्टिफिकेट छपवा देंगे.

    नीना ने प्रीतीश नंदी की बात नहीं मानी. अगले दिन मसाबा का बर्थ सर्टिफिकेट 'वीकली ऑफ इंडिया' नाम के अखबार में छापा गया.

    इसके बाद नीना को दुनिया के सामने सच मानना ही पड़ा. अच्छी बात यह थी विवियन रिचर्ड्स ने भी यह बात मानी कि मसाबा उनकी बेटी है. वो अकसर नीना और मसाबा से मिलने इंडिया आते थे या उन्हें अपने साथ वेस्ट इंडीज ले जाते थे.

    मसाबा अपने पेरेंट्स की बहुत इज्जत करती हैं और इसीलिए उन्हें अपनी पहचान मानने और उसे एक्सेप्ट करने में कोई शर्म नहीं, बल्कि गर्व है.

    ये भी पढ़ें:

    'लंदन फिल्म फेस्टिवल' में होगा शाहिद कपूर के भाई की पहली फिल्म का प्रीमियर

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज