पाकिस्तान सरकार का बड़ा फैसला: म्यूजियम में तब्दील होंगे राज कपूर और दिलीप कुमार के पुश्तैनी घर

राज कपूर और दिलीप कुमार (फाइल फोटो)

राज कपूर और दिलीप कुमार (फाइल फोटो)

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के शोमैन राज कपूर (Raj Kapoor) और दिलीप कुमार (Dilip Kumar) की पाकिस्तान में पैतृक हवेली है. इन पर कब्जे को लेकर अक्सर चर्चा होती रहती है, लेकिन अब पाकिस्तान सरकार ने इन्हें म्यूजियम में तब्दील करने का फैसला लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 12, 2021, 6:58 PM IST
  • Share this:
मुंबई: हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के लिए बड़ी खुशखबरी है. हमारे देश के दो दिग्गज और महान कलाकारों राज कपूर (Raj Kapoor) और दिलीप कुमार (Dilip Kumar) को लेकर एक अच्छी खबर पाकिस्तान से आई है. इन दोनों ही कलाकारों का पैतृक घर पड़ोसी देश पाकिस्तान में है. इन दिग्गज अभिनेताओं का जन्म इसी घर में हुआ था. इसलिए इन घरों को लेकर राज कपूर के खानदान के साथ-साथ सिनेप्रेमियों का सेंटीमेंट भी जुड़ा हुआ है. इन पुराने घरों की हालत अब तो बहुत अच्छी नहीं है. इसलिए लंबे समय से इनके संरक्षण की मांग की जा रही है, जिसे पाकिस्तान सरकार ने मान लिया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पाकिस्तान के राज्य खैबर पख्तूनख्वाह की सरकार ने कानूनी तरीके से भारत के लीजेंड एक्टर्स राज कपूर और दिलीप कुमार के घरों को खरीदने की तैयारी शुरू कर दी है. खैबर पख्तूनख्वाह सरकार ने इसके लिए कानून लैंड एक्वीजिशन एक्ट 1894 के तहत इन दोनों घरों को अपने कब्जे में लेगी. जल्द ही इन घरों के मालिकों को मुआवजा पेशावर के कमिश्नर दे देंगे. दिलीप कुमार के घर की कीमत 80.56 लाख रुपये और राज कपूर के घर की कीमत 1.50 करोड़ रुपये लगाई गई है. यह कीमत पाकिस्तान के पुरातत्व विभाग ने तय की हैं. हालांकि इन घरों के मौजूदा मालिक इसे बेचने के लिए तैयार नहीं थे इसलिए कानूनी तौर पर सरकार इन घरों को अपने कब्जे में ले रही है.

बता दें कि दिलीप कुमार के घर के मौजूदा मालिक ने इस घर के लिए 25 करोड़ जबकि राज कपूर के घर के मालिक ने 200 करोड़ रुपये कीमत दिए जाने की मांग की थी. राज्य सरकार का कहना है इन घरों की अहमियत को देखते हुए मालिक गलत तरह से सरकारी अधिकारियों को ब्लैकमेल कर रहे हैं. बता दें कि राज कपूर का घर कपूर हवेली के नाम से जाना जाता है. यह पेशावर के किस्सा ख्वानी बाजार में है. इसे राज कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर ने 1918 और 1922 में बनवाया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज