कादर खान के वो दमदार डायलॉग्‍स जिनसे अमिताभ बच्चन बने Superstar

पिछले साल आज के ही दिन कादर खान के तौर पर भारतीय सिनेमा ने अपना एक और दिग्‍गज कलाकार खोया था.

बहुत कम लोग ये जानते हैं कि कादर खान ने पर्दे के पीछे रहकर भी बॉलीवुड को काफी कुछ दिया. कादर खान के लिखे डायलॉग्‍स को जब अमिताभ पर्दे पर बोलते तो तालियों की गड़गड़ाहट से पूरा सिनमाहॉल गूंज जाता था.

  • Share this:
    मुंबई: बॉलीवुड (Bollywood) में यूं तो कई हीरो-हीरोइन की जोड़ियां सुपरहिट हुईं, लेकिन अपने अलग डायलॉग्‍स और स्‍टाइल के लिए पहचाने जाने वाले एक्‍टर कादर खान (Kader Khan) बॉलीवुड के वो स्टार रहे, जिनके एक- एक डायलॉग को आज भी लोग याद करते हैं. कादर खान को लोग अकसर उनके कॉमिक अंदाज के लिए ही जानते थे. लेकिन, कादर खान हिंदी सिनेमा के वो सितारे थे, जो सिर्फ एक ही काम नहीं करते थे, बल्कि फिल्‍मों में कॉमेडी करने से लेकर विलेन बनने तक हर अंदाज में नजर आए. वह जितना पर्दे के आगे सक्रिय रहे, उतना ही पर्दे के पीछे भी अपना हुनर दिखाते थे. 2019 की पहली सुबह लोगों को जानकारी मिली कि 31 दिसंबर 2018 को बॉलीवुड का 'कादर' चल बसा. आज उनको गए पूरा एक साल हो गया है.

    Kader Khan, Dialogues, Bollywood, Death Anniversary बॉलीवुड, कादर खान, मनोरंजन
    फोटो क्रेडिट- ट्विटर@SrBachchan


    कादर खान के तौर पर भारतीय सिनेमा ने अपना एक और दिग्‍गज कलाकार खोया. कादर खान ने अपने करियर में 300 से ज्‍यादा फिल्‍मों में काम किया. वह हर बड़े कलाकार के साथ पर्दे पर नजर आ चुके हैं. आज भी उनकी फिल्मों को देखकर लोग उनके रंग में रंगने की कोशिश करते हैं. बहुत कम लोग ये जानते हैं कि कादर खान ने पर्दे के पीछे रहकर भी बॉलीवुड को काफी कुछ दिया. अमिताभ बच्चन के सुपरस्टार बनने में कादर खान का बड़ा योगदान माना जाता है. कादर खान के लिखे डॉयलाग्स को जब अमिताभ पर्दे पर बोलते तो तालियों की गड़गड़ाहट से सिनमाहॉल गूंज जाता. आइए उन दमदार डायलॉग्‍स के जरिये कादर को याद करते हैं.

     



     




    View this post on Instagram




     

    🔥🔥 #kaderkhan #shayari #shayaristatus


    A post shared by Rishabbirdi786 (@rishab_virdi_84) on






    - 'सुख तो बेवफा है आता है जाता है, दुख ही अपना साथी है, अपने साथ रहता है. दुख को अपना ले तब तकदीर तेरे कदमों में होगी और तू मुकद्दर का बादशाह होगा.' 1978 में आई फिल्म 'मुकद्दर का सिकंदर' से.

    - 'आप हैं किस मर्ज की दवा, घर में बैठे रहते हैं, ये शेर मारना मेरा काम है? कोई मवाली स्मग्लर हो तो मारूं मैं शेर क्यों मारूं, मैं तो खिसक रहा हूं और आपमें चमत्कार नहीं है तो आप भी खिसक लो.' - 1979 में आई फिल्म 'मिस्टर नटवरलाल'

    - 'दारू पीता नहीं है अपुन, क्योंकि मालूम है दारू पीने से लीवर खराब हो जाता है, लीवर.'- साल 1982 में आई फिल्म 'सत्ते पे सत्ता' से.

    - 'बचपन से सर पर अल्लाह का हाथ और अल्लाहरख्खा है अपने साथ, बाजू पर 786 का है बिल्ला, 20 नंबर की बीड़ी पीता हूं और नाम है 'इकबाल'.' - साल 1983 में आई फिल्म 'कुली'

     



     




    View this post on Instagram




     

    #KaderKhan on his birth anniversary. A '90s movie was incomplete without Kader Khan in it.


    A post shared by Bollywoodirect (@bollywoodirect) on






    - 'मालिक मुझे नहीं पता था कि बंदूक लगाए आप मेरे पीछे खड़े हैं. मुझे लगा, मुझे लगा कि कोई जानवर अपने सींग से मेरे पीछे खटबल्लू बना रहा है.' साल 1983 में ही आई फिल्म 'हिम्मतवाला'. इस फिल्म के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ कॉमेडियन के फिल्मफेयर पुरस्कार से नवाजा गया था.

    - 'विजय दीनानाथ चौहान, पूरा नाम, बाप का नाम दीनानाथ चौहान, मां का नाम सुहासिनी चौहान, गांव मांडवा, उम्र 36 साल 9 महीना 8 दिन और ये सोलहवां घंटा चालू है.' - साल 1990 में आई सुपरहिट फिल्म 'अग्निपथ' से.

    - 'कहते हैं किसी आदमी की सीरत अगर जाननी हो तो उसकी सूरत नहीं उसके पैरों की तरफ देखना चाहिए, उसके कपड़ों को नहीं उसके जूतों की तरफ देख लेना चाहिए.'- साल 1991 में आई फिल्म 'हम' का ये डायलॉग है. इस फिल्म में उन्होंने डबल रोल प्ले किया था.

    ये भी पढ़ें: प्रिया प्रकाश वॉरियर के बाद दीपिका पादुकोण ने मारी आंख, फिदा हुए फैन्स, देखें VIDEO

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.