Home /News /entertainment /

बर्थडे स्पेशल: दोस्त हों तो गुलज़ार और पंचम दा जैसे!

बर्थडे स्पेशल: दोस्त हों तो गुलज़ार और पंचम दा जैसे!

गुलजार और आर.डी बर्मन

गुलजार और आर.डी बर्मन

गुलज़ार बताते हैं कि कितनी ही बार वो आरडी के घर लिरिक्स लेकर आते और आरडी उन्हें कभी गाड़ी में तो कभी लिविंग रूम में वेट करवाते.

    आरडी बर्मन और गुलज़ार के बीच अक्सर ऐसी चुटकियां हो जाती थी, जिन्हें सुनकर खुद ही हंसी निकल जाए. आरडी और गुलज़ार बेहद अच्छे दोस्त थे और बिल्कुल जिगरी दोस्तों की तरह ही वो काम भी करते थे. दोनों ने साथ बहुत सारे हिट गाने दिए हैं, जिनके बारे में लगभग सभी लोग जानते हैं. लेकिन इन गानों के पीछे की कहानियां भी बेहद दिलचस्प हैं.


    गुलज़ार बताते हैं कि कितनी ही बार वो आरडी के घर लिरिक्स लेकर जाते और आरडी उन्हें कभी गाड़ी में तो कभी लिविंग रूम में वेट करवाते. एक बार गुलज़ार जब गाना लेकर आरडी के पास आए तो बर्मन दा किसी काम को करने के मूड में नहीं थे. उन्होंने गुलज़ार को टालना चाहा, लेकिन गुलज़ार भी अड़ गए. आरडी कभी चाय की बात करते तो कभी सिनेमा की, लेकिन गुलज़ार उन्हें खींच कर गाने पर ले आते. आखिरकार घंटों तक इधर-उधर बचकर भागते आरडी को गुलज़ार की ज़िद के आगे हारना पड़ा.

    कुछ ऐसा ही किस्सा है फिल्म आंधी के गाने ‘इस मोड़ से जाते हैं’ से जुड़ा. इस गाने में एक शब्द है ‘नशेमन’ और पंक्ति है ‘तिनकों के नशेमन तक, इस मोड़ से जाते हैं’. आर डी और गुलज़ार इस गाने को रिकॉर्ड कर चुके थे और मिक्सिंग में बैठे थे, तभी आरडी ने कहा कि दोस्त गाना तो तूने अच्छा लिखा है, लेकिन ये नशेमन कहां पड़ता है और ये किस मोड़ से जाते हैं, कभी होकर आया जाए. गुलज़ार न हंस सके, न गुस्सा हो सके और उन्होंने कहा कि भाई तुम गाना ही बनाओ, नशेमन फिर कभी जाएंगे.


     ऐसा ही एक मशहूर किस्सा है कि गुलज़ार जब इजाज़त फिल्म का गीत ‘मेरा कुछ सामान’ के लिरिक्स लेकर पंचम दा के पास पहुंचे तो पंचम दा गाना देखकर परेशान हो गए. संगीत के एक्सपर्ट्स भी मानते हैं कि इस गाने को कंपोज़ करना बहुत मुश्किल था और पंचम दा भी कह उठे- भाई गुलज़ार, तू कल को टाइम्स ऑफ इंडिया की हेडलाइन लेकर आएगा और कहेगा कि गाना बना दो, तो मैं बना थोड़े ही दूंगा? हालांकि बाद में इसी गाने के लिए आशा भोंसले को राष्ट्रीय पुरस्कार मिला और आज भी ये गाना कानों को प्यारा लगता है.


     ये भी पढ़ें
    Gulzar Special: गुलज़ार के लिखे वो गाने जो भुलाए न भूले जाएंगे

    Tags: Gulzar

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर