• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • Prem Chopra B'day Spl: एक्टिंग को फुल टाइम प्रोफेशन नहीं मानते थे प्रेम चोपड़ा, फिल्मों के साथ-साथ करते थे ये काम

Prem Chopra B'day Spl: एक्टिंग को फुल टाइम प्रोफेशन नहीं मानते थे प्रेम चोपड़ा, फिल्मों के साथ-साथ करते थे ये काम

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर प्रेम चोपड़ा का आज जन्मदिन है.
(फोटो साभारः PremChopra.com)

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर प्रेम चोपड़ा का आज जन्मदिन है. (फोटो साभारः PremChopra.com)

Happy Birthday Prem Chopra: बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर प्रेम चोपड़ा (Prem Chopra Birthday) का आज 86वां जन्मदिन है. उनका जन्म पाकिस्तान के लाहौर में हुआ था. उस वक्त लाहौर भारत का हिस्सा था. विभाजन के बाद उनका परिवार शिमला में आ गया था. प्रेम चोपड़ा को ग्रेजुएशन से एक्टिंग का शौक चढ़ा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर प्रेम चोपड़ा (Prem Chopra Birthday) का आज जन्मदिन है. वह आज अपना 86वां जन्मदिन मना रहे हैं. उनका जन्म ब्रिटिश इंडिया के पंजाब में लाहौर में 23 सितंबर 1935 को हुआ था, जोकि अब पाकिस्तान का हिस्सा है. देश के विभाजन के बाद उनका परिवार शिमला में आ गए और यहीं से उन्होंने अपनी स्कूलिंग पूरी की. उनके पिता चाहते थे कि प्रेम चोपड़ा डॉक्टर या आईएएस ऑफिसर बने. प्रेम ने पंजाब यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया था. उन्हें कॉलेज के दिनों से एक्टिंग का शौक लगा. ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद वह मुंबई आ गए. हालांकि उनके पिता ऐसा नहीं चाहते थे.

    प्रेम चोपड़ा (Prem Chopra Career) मुंबई आने के बाद कोलाबा में एक गेस्ट हाउस में रहे. वह अपने पोर्टफोलियो को लेकर फिल्म स्टूडियोज के चक्कर काटने लगे. लेकिन कहीं से अच्छा रिस्पांस नहीं मिला. अपना पेट पालने के लिए उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया में सर्कुलेशन ऑफिसर काम किया. महीने में 20 दिन वह बंगाल, उड़ीसा और बिहार में सर्कुलेशन का काम देखते थे. वह अपना टाइम बचाने के लिए एजेंट को स्टेशन पर ही बुलाते थे, जिससे उनसे काम की बातें कर तुरंत वापसी कर सकें. इस तरह वह 20 दिन का काम 12 दिन में कर लेते थे. बाकि बचा हुआ टाइम वह फिल्म स्टूडियोज के चक्कर काटने में लगाते थे.

    एक दिन एक ट्रेन में ट्रैवलिंग के दौरान एक अजनबी ने उन्हें रोका और पूछा कि क्या उन्हें फिल्मों में काम करने में इंटरेस्ट है. प्रेम ने तुरंत सहमति जताई. वो सख्श उन्हें रंजीत स्टूडियो लेकर गया, जहां ‘चौधरी करनैल सिंह’ के प्रोड्यूसर हीरो की तलाश में थे. प्रोड्यूसर जगजीत सेठी ने उन्हें पंजाबी फिल्म ‘चौधरी करनैल सिंह’ में एक हीरो के रूप में एक ब्रेक दिया. उनकी पहली फिल्म एक हिंदू-मुस्लिम रिश्ते पर आधारित लव स्टोरी थी, जो भारत-पाकिस्तान विभाजन की पृष्ठभूमि पर आधारित थी. यह एक बड़ी हिट साबित हुई. फिल्म ने सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री और सर्वश्रेष्ठ फिल्म की श्रेणियों में राष्ट्रीय पुरस्कार भी जीता. इस फिल्म के लिए उन्हें 2500 रुपये की फीस दी गई थी.

    फिल्मों में काम करने के बावजूद प्रेम टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ काम करते रहे. इस दौरान उन्होंने ‘वो कौन थी?’, ‘शहीद’, ‘मैं शादी करने चला’ और ‘तीसरी मंजिल’ जैस बड़ी फिल्मों में भी काम किया. 1960 के दशक की शुरुआत में उन्हें लगता था कि फिल्मों में एक्टिंग करना फुल टाइम जॉब नहीं है. अपने एक्टिंग के जुनून की वजह से वह फिल्मों में काम करते रहे. उन्होंने 1966 के बाद अखबार से संबंध खत्म कर लिए. अपनी शुरुआती फिल्म ‘शहीद’ में सुखदेव की भूमिका निभाई, जो उनकी दुर्लभ सकारात्मक प्रमुख भूमिकाओं में से एक थी. ‘मैं शादी करने चला की शूटिंग के दौरान किसी ने उन्हें खलनायक बनने का सुझाव दिया. ‘तीसरी मंजिल’ और ‘उपकार’ के बाद, वह फिल्मों में विलेन के रूप में स्थापित हुए.

    प्रेम चोपड़ा ने अपने 60 साल के फिल्मी करियर में कुल 360 फिल्मों की. इनमें हिंदी और पंजाबी फिल्में शामिल हैं. उन्होंने फिल्मों में हीरो और विलेन दोनों तरह के किरदार निभाए हैं. लेकिन उनके विलेन वाले किरदार को काफी पसंद किया गया और सराहा गया. उन्होंने राजेश खन्ना के साथ 19 फिल्में की और इन सभी में विलेन का किरदार ही निभाया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज