HBD: आर माधवन को जब शादी न होने का था डर, फिर एक दिन डेट पर जाने का मिला मौका

आर माधवन 'रहना है तेरे दिल में' में मैडी का रोल निभाकर लोगों के दिलों पर छा गए थे (फोटो साभारः Instagram@actormaddy)

आर माधवन 'रहना है तेरे दिल में' में मैडी का रोल निभाकर लोगों के दिलों पर छा गए थे (फोटो साभारः Instagram@actormaddy)

आज आर माधवन (R Madhavan) का जन्मदिन है. इस मौके पर एक्टर्स के फैंस उन्हें ढेरों बधाइयां दे रहे हैं. वे 'रंग दे बसंती', 'रामजी लंदन-वाले', '3 इडियट्स', 'तनु वेड्स मनु', 'तनु वेड्स मनु रिटर्न्स' जैसी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं.

  • Share this:

नई दिल्लीः बॉलीवुड एक्टर रंगनाथन माधवन (R Madhavan) का जन्म आज यानी 1 जून 1970 को झारखंड के जमशेदपुर में हुआ था. आज इस एक्टर के लाखों दीवाने हैं, पर एक समय ऐसा था जब वे इस बात को लेकर चिंतित रहते थे कि उनकी शादी होगी भी या नहीं. दरअसल, वे अपनी सांवली रंगत की वजह से परेशान थे. खबरों की मानें तो एक बार माधवन ने इसका जिक्र किया था. शर्मीले स्वभाव के माधवन ने बताया था कि मेरी पत्नी सरिता जब मेरी छात्रा थीं, तब एक दिन उन्होंने मुझसे डेट पर चलने के लिए पूछा.

पुरानी यादों को टटोलते हुए, एक्टर ने आगे कहा था, 'मेरा रंग सांवला था और मुझे लगता था कि पता नहीं कभी मेरी शादी होगी या नहीं, इसलिए तब मुझे लगा कि यह अच्छा मौका है और मैंने यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया. माधवन एक ऐसे तमिल परिवार से आते हैं, जहां पढ़ाई को ज्यादा महत्व दिया जाता है. इसके बावजूद वे 8वीं में फेल हो गए थे. किसी तरह उन्हें कोल्हापुर के इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन मिला.

View this post on Instagram

A post shared by R. Madhavan (@actormaddy)



माधवन फिल्मों में करियर बनाना चाहते थे. उन्होंने 1996 में आए एक टीवी सीरियल 'बनेगी अपनी बात' से काम शुरू किया. इसी साल माधवन ने सुधीर मिश्रा की फिल्म 'इस रात की सुबह नहीं' में भी एक रोल किया था, जिसके लिए उन्हें क्रेडिट तक नहीं दिया गया था. फिर 1997 में माधवन ने मणिरत्नम की फिल्म 'इरुलर' के लिए ऑडिशन दिया था, पर मणिरत्नम ने यह कहकर उन्हें रिजेक्ट कर दिया था कि वे रोल के लिए फिट नहीं हैं.

काफी मशक्कत के बाद, वे 2001 में गौतम मेनन की फिल्म 'रहना है तेरे दिल में' में नजर आए. वे मैडी का रोल निभाकर लोगों के दिलों में बस गए थे. इस फिल्म के लिए माधवन को स्क्रीन अवॉर्ड से भी नवाजा गया था. इसके बाद उन्हें कभी पीछे मुड़कर देखने की जरूरत नहीं पड़ी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज