HBD: जब एक थप्पड़ ने बदल दी थी ललिता पवार की जिंदगी, मंथरा के रोल से हुई थीं मशहूर

ललिता पवार 'रामायण' में मंथरा का रोल निभाकर घर-घर मशहूर हो गई थीं (फाइल फोटो)

ललिता पवार 'रामायण' में मंथरा का रोल निभाकर घर-घर मशहूर हो गई थीं (फाइल फोटो)

बॉलीवुड की दिग्गज एक्ट्रेस ललिता पवार (Lalita Pawar) का आज जन्मदिन हैं. जिन्होंने धारावाहिक 'रामायण' (Ramayan) में मंथरा का ऐसा रोल प्ले किया था कि लोग उन्हें सच में मंथरा समझने लगे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 6:14 AM IST
  • Share this:
नई दिल्लीः टीवी के मशहूर धारावाहिक 'रामायण' (Ramayan) में मंथरा (Manthra) का रोल निभाकर घर-घर मशहूर हुईं ललिता पवार (Lalita Pawar) का आज जन्मदिन है. जिस किसी ने भी रामायण देखी है, वह कुबड़ी दासी 'मंथरा' को नहीं भूल सकता है. नाटक में हमने देखा था कि वे कैसे कैकेयी को राम के खिलाफ भड़काती थीं. ललिता पवार जी ने इस रोल में इतना अच्छा अभिनय किया था कि लोग उन्हें असली में मंथरा समझने लगे थे. मंथरा का जिक्र आते ही ललिता पवार का चेहरा सामने आ जाता है. ऐसा था उनके अभिनय का जादू.

ललिता जी ने कई फिल्मों में काम किया था और वे जवानी में बेहद सुंदर लगती थी. वे अपने जमाने में सबसे ज्यादा फीस लेने वाली एक्ट्रेस थीं, लेकिन एक हादसे ने उनकी खूबसूरती पर दाग लगा दिया था. यह घटना 1942 में फिल्म 'जंग-ए-आजादी' की शूटिंग के समय की थी. दरअसल, ललिता को एक्टर भगवान दादा के साथ एक थप्पड़ का सीन शूट करना था. इस सीन में भगवान दादा ललिता को इतनी जोर से थप्पड़ मार देते हैं कि वह गिर जाती हैं और उनके कान से खून बहने लगता है. कहते हैं कि कान के इलाज के दौरान डॉक्टर ने ललिता पवार को गलत दवा दे दी थी, जिससे ललिता पवार के शरीर के दाहिने हिस्से को लकवा मार गया था.

(फाइल फोटो)


बॉलीवुड की इस दिग्गज एक्ट्रेस का असली नाम अंबिका था. उनके इस नाम के पीछे भी एक दिलचस्प किस्सा है. जब ललिता की मां प्रेग्नेंट थीं तब अंबा देवी के मंदिर गई हुई थीं और वहीं पर उन्हें प्रसव पीड़ा हुई. तब मंदिर के बाहर जन्म होने के कारण उनका नाम अंबिका रख दिया गया. लेकिन, फिल्म की जरूरत के हिसाब से उन्होंने अपना नाम बदल कर ललिता रख लिया. उन्होंने मां और सास के रोल से अपनी खास पहचान बनाई थी.
ललिता का फिल्मों में आने का किस्सा भी मजेदार है. एक बार वे अपने पिता के साथ फिल्म की शूटिंग देखने गई थीं. वहां मौजूद निर्देशक नाना साहेब की नजर जब ललिता पर पड़ी, तब नाना साहेब ने ललिता को फिल्म 'राजा हरिश्चंद्र' में बाल कलाकार का रोल दिया. महज 9 साल की उम्र में ही ललिता ने एक्टिंग करनी शुरू कर दी थी. उनकी पहली डायलॉग वाली फिल्म 'हिम्मत-ए-मर्दा' थी, जो साल 1935 में रिलीज हुई थी. इस फिल्म में वे काफी बोल्ड रोल में नजर आई थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज