• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • Trivia : बॉलीवुड में इस तरह अपनी जगह बना पाई बिकिनी

Trivia : बॉलीवुड में इस तरह अपनी जगह बना पाई बिकिनी

फ्रेंच फैशन डिजाइनर लुईस रीड ने 1946 में टू-पीस स्विमसूट लांच किया और इसे 'बिकिनी' कहा. 'बिकिनी अटॉल' के नाम पर इसका नाम बिकिनी रखा गया था. बिकिनी अटॉल ही वह जगह थी जहां अमेरिका ने इस साल लगातार कई परमाणु परीक्षण किये थे.

फ्रेंच फैशन डिजाइनर लुईस रीड ने 1946 में टू-पीस स्विमसूट लांच किया और इसे 'बिकिनी' कहा. 'बिकिनी अटॉल' के नाम पर इसका नाम बिकिनी रखा गया था. बिकिनी अटॉल ही वह जगह थी जहां अमेरिका ने इस साल लगातार कई परमाणु परीक्षण किये थे.

फ्रेंच फैशन डिजाइनर लुईस रीड ने 1946 में टू-पीस स्विमसूट लांच किया और इसे 'बिकिनी' कहा. 'बिकिनी अटॉल' के नाम पर इसका नाम बिकिनी रखा गया था. बिकिनी अटॉल ही वह जगह थी जहां अमेरिका ने इस साल लगातार कई परमाणु परीक्षण किये थे.

  • Share this:
कई लोग मानते हैं, शर्मिला टैगोर की फिल्म 'एन इवनिंग इन पेरिस' (1967) में पहली बार उन्होंने बिकिनी पहनी और आगे के लिये बॉलीवुड में अभिनेत्रियों को बिकिनी जैसे कॉस्ट्यूम के साथ ऑनस्क्रीन आने के लिये सहज कर दिया. पर यह सच नहीं है. फिल्म में शर्मिला टैगोर स्विम सूट पहन रखा है. कहा जाता है फिल्म में उनके बिकिनी पहनने की बात जरूर थी पर ऐसा हो नहीं सका था. इस फिल्म के कुछ वक्त बाद ही फिल्मफेयर मैग्जीन के लिये एक फोटोशूट में शर्मिला टैगोर ने बिकिनी पहनी थी. हालांकि शर्मिला का यह कदम आसान नहीं था और उन्हें इसके लिये कई लोगों की आलोचनाओं का शिकार भी होना पड़ा था. कहा तो यह भी जाता है कि इसके बाद शर्मिला अपनी छवि बदलने के लिये 'आराधना' और 'सत्यकाम' जैसी फिल्में करती रहीं.



वैसे शर्मिला टैगोर के बाद ज़ीनत अमान सहित तमाम एक्ट्रेस को हम स्क्रीन पर बिकनी में देख चुके हैं पर शर्मिला का पहला कदम बेहद साहसी था क्योंकि इसने आगे स्त्रियों को अपनी देह पर गर्व करने का एक मौका दिया, कई पारंपरिक लोगों को असहज करते हुये और उनका विरोध सहते हुये. आज अगर आलिया भट्ट बॉलीवुड फिल्म 'शानदार' में बीच पर मजे से टहलते हुये देखी जाती हैं तो कहीं न कहीं उसके पीछे शर्मिला टैगोर का यह साहसी कदम भी है.

जब भारतीय सिनेमा में पहली बार स्विमसूट दिखा
हालांकि बॉलीवुड में ऑनस्क्रीन बिकिनी का किस्सा पुराना है और 1930 से शुरू होता है. मीनाक्षी शिरोडकर (शिल्पा और नम्रता शिरोडकर की दादी) ने रुढिवादी मानसिकता को चुनौती दी थी जब उन्होंने 1938 में आई मराठी फिल्म 'ब्रह्मचारी' में पहली बार स्विमसूट पहना था. इस सीन में वे मास्टर विनायक को आकर्षित करना चाहती थीं. वैसे बताते चलें कि मास्टर विनायक भी एक्ट्रेस नंदा के पिता थे. हालांकि उस दौर में भी उनके इस कदम से देशभर में बहुत हलचल हुई थी. लेकिन तब तक टू पीस बिकिनी लांच भी नहीं हुई थी.



बिकिनी ही क्यों है बिकिनी?
फ्रेंच फैशन डिजाइनर लुईस रीड ने 1946 में टू-पीस स्विमसूट लांच किया और इसे 'बिकिनी' कहा. 'बिकिनी अटॉल' के नाम पर इसका नाम बिकिनी रखा गया था. बिकिनी अटॉल ही वह जगह थी जहां अमेरिका ने इस साल लगातार कई परमाणु परीक्षण किये थे. रीड को आशा थी कि उनका कॉस्ट्यूम भी परमाणु धमाके जितना ही कॉमर्शियल और कल्चरल रिएक्शन लेकर आयेंगे. हालांकि टू-पीस बाथिंग सूट जैक्स हेम ने मई, 1946 में इंट्रोड्यूस किया और दुनिया के सबसे छोटे बाथिंग सूट के रूप में इसका प्रचार किया. लेकिन दो महीने बाद, रीड ने सबसे छोटे से भी छोटा बाथिंग सूट इंट्रोड्यूस किया और इसी बिकिनी कहा.



बिकिनी पहनना रुढिवादी मानसिकता को चुनौती देना भी था
शर्मिला टैगोर सबसे पहले बिकिनी पहने फिल्मफेयर मैग्जीन के कवर पर दिखीं. वहीं एन इवनिंग इन पेरिस (1967) में वे एक स्विमसूट पहने दिखी थीं. पूरा देश दांतों तले उंगली दबाये उन्हें देख रहा था. शर्मिला टैगोर के इस कदम ने स्क्रीन को हमेशा के लिये बदल दिया. बिकिनी अब मेनस्ट्रीम हो चुकी थी हालांकि बिकिनी को पूरी तरह से एक्सेप्ट करने में भारतीय सिनेमा को कुछ साल लगे. 1970 में एक्ट्रेस डिंपल कपाडिया और ज़ीनत अमान ने फिल्मों में बिकिनी पहनना शुरू किया. अपनी डेब्यू फिल्म बॉबी में ही उन्होंने बिकिनी पहनी और रातोंरात छा गईं.



ज़ीनत अमान ने कई फिल्मों में बिकिनी पहनी. ज़ीनत अपने दौर में दर्शकों का ख्वाब बन चुकी थीं. हालांकि अभी भी कई एक्ट्रेस बिकिनी पहनने में सहज नहीं थीं और वे वनपीस स्विमसूट ही पहन रही थीं. 90 के दशक ने भारतीय सुंदरियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित किया. और सुष्मिता सेन पहली मिस यूनिवर्स बनीं. इन प्रतियोगिताओं में एक स्विमसूट प्रतियोगिता भी होती है, जो उस दौर में चर्चा का सबब हुआ करती थी. पर इसके साथ ही दर्शक स्विमसूट और बिकिनी जैसे कॉस्ट्यूम के साथ सहज होते गये.



1994 में मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में ऐश्वर्या राय स्विमसूट राउंड में छा गईं. इस बार की विजेता भी वे ही थीं. 2000 के बाद बॉलीवुड में अक्सर एक्ट्रेस बिकिनी में नज़र आने लगीं. बिपाशा बासु उनमें से एक थीं. उन्होंने धूम (2006) में पहली बार बिकिनी पहनी. बाद में ऐश्वर्या राय ने धूम 3 में भी बिकिनी पहनी. सनी लियोनी अबतक कई बार बिकिनी में दिख चुकी हैं. आजकल विदेशों में जा रहे भारतीय कई बार बिकिनी में बीच पर देखे जा सकते हैं.



यह भी पढ़ें : Trivia : फ्राइडे को ही क्यों रिलीज होती हैं फिल्में?

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज