अपना शहर चुनें

States

Singh Rajput Death Case: बॉम्‍बे हाई कोर्ट ने कहा-इस मामले में 'मीडिया ट्रायल' हुआ है

सुशांत स‍िंंह राजपूत.
सुशांत स‍िंंह राजपूत.

बंबई उच्च न्यायालय ने सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) मौत मामले के कवरेज पर कहा क‍ि इस मामले में 'मीडिया ट्रायल' हुआ है. कोर्ट ने र‍िपब्लिक टीवी और टाइम्‍स नाउ का ज‍िक्र करते हुए कहा कि इन दो चैनलों ने मुंबई पुल‍िस पर ज‍िस तरह का कवरेज क‍िया, वो 'प्रथम दृष्‍ट्या अवमानना' है.

  • Last Updated: January 18, 2021, 4:40 PM IST
  • Share this:
मुंबई. बंबई उच्च न्यायालय ने सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) मौत मामले के कवरेज पर दाखिल एक जनहित याचिका पर अपना फैसला सुनाते हुए कहा क‍ि इस मामले में 'मीडिया ट्रायल' हुआ है. दो जजों की बैंच ने इस मामले पर अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि इस मामले में बेशक ‘मीडिया ट्रायल’ हुआ है जो केबल टीवी नेटवर्क नियमन कानून के तहत कार्यक्रम नियमावली का उल्लंघन करता है. अपने इस फैसले में कोर्ट ने र‍िपब्लिक टीवी और टाइम्‍स नाउ का ज‍िक्र करते हुए कहा कि इन दो चैनलों ने मुंबई पुल‍िस पर ज‍िस तरह का कवरेज क‍िया, वो 'प्रथम दृष्‍ट्या अवमानना' है.

इसके साथ ही कोर्ट ने मृत्‍यू और आत्‍महत्‍या के मामले की मीडिया करवरेज को लेकर नई गाइडलाइंस जारी की हैं. इस आदेश में कहा गया है कि अब 'क्राइम सीन का कोई नाट्यरूपांतरण और कोई भी 'संवेदनशील जानकारी' मीडिया में लीक होने जैसी कवरेज नहीं होनी चाहिए.

इस फैसले में कहा गया है कि जांच एजेंसी ऐसे मामलों में क‍िसी अधिकारी को न‍ियुक्‍त कर सकती है जो पत्रकारों को सही और जरूरी सवालों के जवाब दे सके. लेकिन इसी फैसले में आगे कहा गया है कि जांच एजेंसी को क‍िसी भी हालत में और दबाव में संवेदनशील सूचना उजागर करने की जरूरत नहीं है.



Sushant Singh Rajput, Shweta Singh Kirti, Shweta Singh Kirti shared Unseen note, Sushant wrote deep talk in 30 years, News 18, Network 18, सुशांत सिंह राजपूत, श्वेता सिंह कीर्ति, श्वेता सिंह कीर्ति ने शेयर किया अनसीन नोट, 30 साल में सुशांत ने लिखी गहरी बात, न्यूज18, नेटवर्क 18
सुशांत सिंह राजपूत.

कोर्ट ने अपने फैसले में ये भी कहा क‍ि प्र‍िंट मीडिया को प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा जारी गाइडलाइन्‍स का पालन करना चाहिए.

बता दें कि सुशांत स‍िंह राजपूत की मौत के मामले में मीडिया के कवरेज को लेकर कई जनहित याचिका दायर की गई थीं. कोर्ट ने आज ये फैसला इन्‍हीं जनहित याचिकाओं पर सुनाया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज