फिल्म निर्माताओं की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने रिपब्लिक टीवी, टाइम्स नाउ से मांगा जवाब

दिल्ली हाईकोर्ट.
दिल्ली हाईकोर्ट.

दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने ‘रिपब्लिक टीवी (Republic TV)’ और ‘टाइम्स नाउ (Times Now)’ को कथित ‘गैर जिम्मेदाराना और अपमानजनक टिप्पणियां’ करने या प्रकाशित करने से रोकने के अनुरोध वाली बॉलीवुड के फिल्म निर्माताओं की याचिका पर संबंधित मीडिया घरानों से सोमवार को जवाब मांगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने ‘रिपब्लिक टीवी (Republic TV)’ और ‘टाइम्स नाउ (Times Now)’ को कथित ‘गैर जिम्मेदाराना और अपमानजनक टिप्पणियां’ करने या प्रकाशित करने से रोकने का अनुरोध करते हुए याचिका लगाई गई है. बॉलीवुड के फिल्म निर्माताओं की इस याचिका पर हाईकोर्ट ने ‘रिपब्लिक टीवी’ और ‘टाइम्स नाउ’ से सोमवार को जवाब मांगा.

न्यायमूर्ति राजीव शकधर ने ‘एआरजी आउटलायर मीडिया’ और ‘बेनेट कोलमैन’ समूह से यह सुनिश्चित करने को भी कहा कि उनके चैनलों या सोशल मीडिया मंचों पर ofकोई मानहानिकारक सामग्री ‘अपलोड’ न की जाए. याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने कड़ी टिप्पणी की और पीछा कर रहे मीडिया से बचने की कोशिश के दौरान ब्रिटेन की राजकुमारी डायना की मौत का जिक्र किया तथा कहा कि ‘स्वर कुछ धीमा किए जाने’ की आवश्यकता है क्योंकि लोग ‘लोकतंत्र के चौथे स्तंभ’ से इसकी शक्तियों की वजह से भयभीत हैं.

अदालत ने याचिका पर ‘रिपब्लिक टीवी’, इसके प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी और रिपोर्टर प्रदीप भंडारी, ‘टाइम्स नाउ’, इसके प्रधान संपादक राहुल शिवशंकर और समूह संपादक नविका कुमार और गूगल, फेसबुक तथा ट्विटर से जवाब मांगा. प्रमुख फिल्म निर्माताओं ने एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद विभिन्न मुद्दों पर बॉलीवुड के सदस्यों के खिलाफ ‘गैर जिम्मेदाराना और अपमानजनक टिप्पणियां’ करने या प्रकाशित करने तथा कथित मीडिया ट्रायल पर रोक लगाने का आग्रह किया है.




याचिका बॉलीवुड के चार संगठनों और 34 प्रमुख फिल्म निर्माताओं ने दायर की है. मीडिया घरानों के वकील ने अदालत को यह आश्वासन दिया कि वे कार्यक्रम संहिता और केबल टीवी नेटवर्क (नियमन) अधिनियम का पालन करेंगे. अदालत ने बेनेट कोलमैन समूह की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता संदीप सेठी से पूछा कि यदि चैनल स्व-नियमन का पालन नहीं करता तो आगे क्या कदम उठाया जाएगा.

कोर्ट ने कहा, ‘स्वर कुछ धीमा किए जाने की आवश्यकता है. अदालत के अधिकारी के रूप में मुझे बताएं कि यदि आप स्व-नियमन का पालन नहीं करते, तो अगला कदम क्या है? हम इस बारे में क्या करें? अदालत को आपका हलफनामा सही नहीं लग रहा है. आप सभी को कुछ न कुछ करना है. यह निराशाजनक है और हर किसी को निरुत्साहित करता है.’

अदालत ने कहा, ‘उचित रिपोर्टिंग होनी चाहिए. कल आपका (कानूनी) समुदाय हो सकता है. आपको अपने वृतांत से ऊपर उठना होगा और मुझे बताएं कि क्या किया जाना चाहिए.’ इसने कहा कि लोग लोकतंत्र के चौथे स्तंभ से इसकी शक्ति की वजह से भयभीत हैं और अदालतें इसमें हस्तक्षेप करने वाला अंतिम विकल्प है. न्यायाधीश ने कहा, ‘राजकुमारी डायना की मौत इसलिए हुई क्योंकि वह मीडिया से बचकर भाग रही थीं. आप इस तरह नहीं कर सकते.’ हाईकोर्ट ने मामले में आगे की सुनवाई के लिए 14 दिसंबर की तारीख तय की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज