ऋतिक रोशन VS कंगना रनौत ई-मेल केस: बयान दर्ज कराने को एक्टर को समन जारी करेगा क्राइम ब्रांच

मुंबई क्राइम ब्रांच के सीआईयू के सूत्रों ने बताया कि रितिक रोशन को इस सप्ताह मामले में अपना स्टेटमेंट दर्ज कराने के लिए समन जारी किया जाएगा.

मुंबई क्राइम ब्रांच के सीआईयू के सूत्रों ने बताया कि रितिक रोशन को इस सप्ताह मामले में अपना स्टेटमेंट दर्ज कराने के लिए समन जारी किया जाएगा.

ऋतिक रोशन (Hrithik Roshan) बनाम कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ईमेल मामले की जांच तेज हो गई है. क्राइम ब्रांच जल्द ही ऋतिक रोशन को समन जारी करेगा. सूत्रों ने बताया कि रितिक रोशन को इस सप्ताह मामले में अपना स्टेटमेंट दर्ज कराने के लिए समन जारी किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 10:55 PM IST
  • Share this:
मुंबई. मुंबई क्राइम ब्रांच की क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (CIU), ऋतिक रोशन (Hrithik Roshan) बनाम कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ईमेल मामले की जांच तेज कर दी है. क्राइम ब्रांच जल्द ही ऋतिक रोशन को समन जारी करेगा. मुंबई क्राइम ब्रांच के सीआईयू के सूत्रों ने बताया कि रितिक रोशन को इस सप्ताह मामले में अपना स्टेटमेंट दर्ज कराने के लिए समन जारी किया जाएगा.

साल 2016 में कंगना रनौत से जुड़े एक ई-मेल मामले में ऋतिक रोशन को ये समन भेजा जाएगा. एक्ट्रेस कंगना रनौत से जुड़े इस मामले की जांच पहले साइबर पुलिस कर रही थी. पिछले साल दिसंबर में ऋतिक रोशन के 4 साल पुराने केस को क्राइम ब्रांच इंटेलिजेंस यूनिट (सीआईयू) को ट्रांसफर कर दिया गया था.

आप को बता दें कि ऋतिक रोशन ने कंगना के अकाउंट से 100 से अधिक ई-मेल मिलने पर साल 2016 में शिकायत दर्ज कराई थी. 2016 में ऋतिक रोशन ने एक शिकायत दर्ज कराई थी जिसमें कहा गया था कि कोई व्यक्ति उनकी फर्जी ईमेल आईडी बनाकर एक्ट्रेस कंगना रनौत को ईमेल कर रहा था. कंगना ने तब दावा किया था कि रोशन ने ही उन्हें यह ईमेल आईडी दी थी और 2014 तक ऋतिक रोशन इसी ईमेल आईडी के माध्यम से उनसे कम्यूनिकेट कर रहे थे.



2016 में, रोशन ने कंगना को एक कानूनी नोटिस भेजा था क्योंकि उन्होंने एक्टर को कथित रूप से सिली एक्स कह दिया था. रोशन ने उनके और कंगना के बीच किसी भी तरह के रिश्ते से इनकार किया था. दोनों कलाकारों ने काइट्स (2010) और क्रिश 3 (2013) जैसी फिल्मों में काम किया था. रोशन ने तब दावा किया था कि कंगना उन्हें बेतुके ईमेल भेज रही थीं. 2016 में साइबर सेल ने ऋतिक रोशन के लैपटॉप और फोन को भी जांच के लिए अपने कब्जे में ले लिया था. यह मामला पहले मुंबई पुलिस के साइबर सेल के पास था. ऋतिक रोशन के वकील के विशेष अनुरोध पर दिसंबर 2020 में इसे CIU में स्थानांतरित कर दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज