अपना शहर चुनें

States

द्वेषपूर्ण कृत्य था कंगना रनौत के बंगले को गिराना, एजेंसी तय करेगी मुआवजा की राशि: हाईकोर्ट

कंगना रनौत.
कंगना रनौत.

फैसले में बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने कंगना रनौत (Kangana Ranaut) को भी सलाह दी कि बोलते समय वह भी संयम बरतें. अदालत ने यह भी कहा कि अदालत किसी भी नागरिक के खिलाफ प्रशासन को ‘बाहुबल’ का उपयोग करने की मंजूरी नहीं देती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2020, 11:42 PM IST
  • Share this:
मुंबई. बॉम्बे हाईकोर्ट ने (Bombay High Court) शुक्रवार को कहा कि, बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) द्वारा एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के बंगले के एक हिस्से को ध्वस्त करने की कार्रवाई द्वेषपूर्ण कृत्य थी और ऐसा एक्ट्रेस को नुकसान पहुंचाने के लिए किया गया था. हाईकोर्ट ने आकलन करने वाली एक एजेंसी की भी नियुक्ति की जो क्षति का आकलन करेगी ताकि क्षतिपूर्ति के लिए कंगना रनौत के दावे पर निर्णय किया जा सके.

हाईकोर्ट ने शिवसेना के संजय राउत द्वारा रनौत के खिलाफ चलाए गए अभियान को लेकर भी फटकार लगाई. बॉलीवुड एक्ट्रेस ने निर्णय को ‘लोकतंत्र की जीत’ बताया. बहरहाल, फैसले में न्यायमूर्ति एस जे काठवाला और न्यायमूर्ति आर आई चागला की पीठ ने रनौत को भी सलाह दी कि बोलते समय वह भी संयम बरतें. अदालत ने यह भी कहा कि अदालत किसी भी नागरिक के खिलाफ प्रशासन को ‘बाहुबल’ का उपयोग करने की मंजूरी नहीं देती है.

न्यायमूर्ति एस जे काठवाला और न्यायमूर्ति आर आई चागला की पीठ ने कहा कि नागरिक निकाय द्वारा की गई कार्रवाई अनधिकृत थी और इसमें कोई संदेह नहीं है. पीठ रनौत द्वारा 9 सितंबर को उपनगरीय बांद्रा स्थित अपने पाली हिल बंगले में बीएमसी द्वारा की गई कार्रवाई के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई कर रही थी.




कंगना रनौत को संयम बरतना चाहिए: अदालत

हालांकि पीठ ने स्पष्ट किया कि वह किसी भी नागरिक द्वारा किए गए किसी भी अवैध निर्माण को नजरअंदाज करने की पक्षधर नहीं है और न ही उसने रनौत के ट्वीट को सही ठहराया है, जिसके कारण यह पूरी घटना हुई. उन्होंने अपने आदेश में कहा, ‘यह अदालत अवैध कार्यों या सरकार के खिलाफ या फिल्म उद्योग के खिलाफ दिए गए किसी भी गैरजिम्मेदार बयान का अनुमोदन नहीं करती है. अदालत ने कहा, 'हमारा मानना है कि याचिकाकर्ता (कंगना रनौत) को लोकप्रिय व्यक्ति होने के नाते ट्वीट करते समय कुछ संयम बरतना चाहिए.’

हालांकि, आदेश में कहा गया है कि किसी नागरिक द्वारा अपनी व्यक्तिगत क्षमता में राज्य या उसके तंत्र के खिलाफ की गई टिप्पणियों को राज्य द्वारा नजरअंदाज किया जाना चाहिए. पीठ ने कहा, ‘और अगर कोई कार्रवाई की जाती है, तो यह कानून की सीमाओं में रहकर की जानी चाहिए. प्रशासन द्वारा किसी भी तरह के बाहुबल का प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए.’

आदेश में रनौत को भविष्य में सार्वजनिक रूप से अपनी राय व्यक्त करते हुए 'संयम' बरतने का भी निर्देश दिया गया. अपनी याचिका में रनौत ने दावा किया था कि मुंबई पुलिस के खिलाफ उनके ट्वीट के बाद शिवसेना सरकार चिढ़ गई थी और उसके बाद बीएमसी ने द्वेषपूर्ण भावना से यह कार्रवाई की. बीएमसी ने इन आरोपों से इनकार किया था और कहा था कि एक्ट्रेस ने बंगले में अवैध निर्माण करवाया था और इसलिए निगम के अधिकारियों ने कानून के मुताबिक तोड़ने की कार्रवाई की थी.

नागरिक निकाय ने गलत इरादे से कार्रवाई की

हालांकि पीठ ने कहा कि विध्वंस स्थल की तस्वीरों, बीएमसी द्वारा रनौत के आरोपों को नकारने वाले बयान, शिवसेना के संजय राउत द्वारा की गई टिप्पणियां, विध्वंस के बाद पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में संपादकीय, सभी ने स्पष्ट किया कि नागरिक निकाय ने द्वेषपूर्ण भावना से यह कार्रवाई की है. इसमें कहा गया है कि ध्वस्त हिस्से काफी समय से थे और बीएमसी द्वारा दावा किए गए किसी भी अवैध निर्माण का हिस्सा नहीं थे.

पीठ ने कहा कि नागरिक निकाय ने एक नागरिक के अधिकारों के खिलाफ गलत इरादे से कार्रवाई की है. रनौत ने बीएमसी से हर्जाने में दो करोड़ रुपये मांगे थे और अदालत से बीएमसी की कार्रवाई को अवैध घोषित करने का आग्रह किया था.

मार्च 2021 तक मुआवजे पर उचित आदेश दें अधिकारी

मुआवजे के मुद्दे पर पीठ ने कहा कि अदालत नुकसान का आकलन करने के लिए निजी कंपनी मेसर्स शेतगिरी को मूल्यांकन करने के लिए नियुक्त कर रही है जो याचिकाकर्ता और बीएमसी को विध्वंस के कारण होने वाले आर्थिक नुकसान पर सुनवाई करेगी. अदालत ने कहा, ‘मूल्यांकन अधिकारी मार्च 2021 तक मुआवजे पर उचित आदेश पारित करेगा.’

नागरिक निकाय ने याचिका का विरोध करते हुए कहा था कि एक्ट्रेस ने गैरकानूनी तरीके से अपने बंगले में निर्माण कार्य कराए थे. अदालत के फैसले के बाद रनौत ने ट्वीट किया, ‘जब कोई व्यक्ति सरकार के खिलाफ खड़ा होता है और जीतता है तो यह व्यक्ति विशेष की जीत नहीं होती बल्कि लोकतंत्र की जीत होती है. आप सभी को धन्यवाद जिन्होंने मुझे साहस दिया और उन लोगों को भी धन्यवाद जिन्होंने मेरे टूटे सपनों को लेकर हंसी उड़ाई. आप खलनायक की भूमिका निभाएंगे तभी मैं नायक हो सकती हूं.’ बीएमसी द्वारा 9 सितंबर को विध्वंस प्रक्रिया शुरु करने के बाद ही रनौत ने यह याचिका दायर की थी जिसके बाद अदालत ने अंतरिम आदेश में तोड़फोड़ पर रोक लगा दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज