ऑस्कर की रेस: ‘जल्लीकट्टू’ बाहर, लघु फिल्म श्रेणी में ‘बिट्टू’ से देश की उम्मीदें अभी भी कायम

'जल्लीकट्टू' और ऑस्कर रेस में देश की उम्मीदों को कायम रखने वाली लघु फिल्म 'बिट्टू'.

'जल्लीकट्टू' और ऑस्कर रेस में देश की उम्मीदों को कायम रखने वाली लघु फिल्म 'बिट्टू'.

ऑस्कर के लिए अंतरराष्ट्रीय फीचर फिल्म की दौड़ से भारत की ऑफिशियल एंट्री ‘जल्लीकट्टू (Jallikattu)’ बाहर हो गई है. फिर भी देशवासियों को निराश होने की जरूरत नहीं है. लघु फिल्म ‘बिट्टू (Bittu)’ के साथ देश लघु फिल्म श्रेणी में अब भी ऑस्कर के मुकाबले में बना हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2021, 8:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ऑस्कर की रेस (Race of Oscar) से अंतरराष्ट्रीय फीचर फिल्म की दौड़ से भारत की ऑफिशियल एंट्री ‘जल्लीकट्टू (Jallikattu)’ बाहर हो गई है. फिर भी देशवासियों को निराश होने की जरूरत नहीं है. लघु फिल्म ‘बिट्टू (Bittu)’ के साथ देश लघु फिल्म श्रेणी में अब भी ऑस्कर के मुकाबले में बना हुआ है.

लिजो जोस पेल्लीसेरी के निर्देशन में बनी मलयालम फिल्म ‘जल्लीकट्टू’ को मुकाबले के लिए 15 फिल्मों की अंतिम सूची में जगह नहीं मिल पाई. एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइसंसेज (एएमपीएसी) ने बुधवार को इस बात की जानकारी दी.

Youtube Video




थॉमस विंटेरबर्ग की ‘एनदर राउंड’, आंद्रेई कोचालोवस्की की ‘डियर कॉमरेड’ (रूस), बेटर डेज (हांगकांग), ‘सन चिल्ड्रेन’ (ईरान), नाइट ऑफ द किंग्स (आइवरी कोस्ट), ‘आई एम नो लॉन्गर हीयर’ (मेक्सिको), ‘होप’ (नार्वे), ‘ए सन’ (ताइवान), ‘द मैन हू सोल्ड हिज स्किन’ (ट्यूनीशिया) को इस सूची में जगह मिली है.
इस श्रेणी में नामांकन के लिए 93 देशों की फिल्मों को योग्य पाया गया था. ‘जल्लीकट्टू’ हरीश की कहानी पर आधारित फिल्म है और इसमें एंटोनी वर्गीज, चेमबन विनोद जोस, साबूमन अब्दुसमद और सेंती बालचंद्रण ने भूमिका निभायी है.

6 सितंबर 2019 को टोरंटो अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में ‘जल्लीकट्टू’ का प्रदर्शन किया गया था और वहां लोगों ने इसकी जमकर सराहना की थी. करिश्मा देव दुबे के निर्देशन में बनी फिल्म ‘बिट्टू’ को ऑस्कर की ‘बेस्ट लाइव एक्शन शार्ट फिल्म’ श्रेणी की अंतिम सूची में जगह मिली है.

लघु फिल्म श्रेणी के लिए अंतिम सूची की 10 फिल्मों में बिट्टू के अलावा ‘डा येई’, ‘फिलिंग थ्रू’, ‘द ह्यूमन वॉइस’, ‘द किकस्लेड चोइर’, ‘द लेटर रूम’, ‘द प्रजेंट’, ‘टू डिस्टेंट स्ट्रेंजर्स’, ‘द वैन’ और ‘व्हाइट आई’ शामिल हैं. बिट्टू की कहानी सच्ची घटना पर आधारित है. इसमें दो लड़कियों के बीच दोस्ती को दिखाया गया है. एकेडमी अवार्ड के लिए अंतिम नामांकन की घोषणा 15 मार्च को की जाएगी. ‘जल्लीकट्टू’ के दौड़ से बाहर होने के साथ भारत के लिए इस श्रेणी में एक बार फिर रास्ता बंद हो गया है.

भारत की तरफ से आखिरी बार आशुतोष गोवारीकर की ‘लगान’ ने 2001 में सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय फिल्म की श्रेणी में अंतिम पांच में जगह बनाई थी. उससे पहले भारत की दो फिल्में ‘मदर इंडिया’ (1958) और ‘सलाम बाम्बे’ (1989) आखिरी पांच फिल्मों की सूची तक पहुंची थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज